Twitter

Follow palashbiswaskl on Twitter

Sunday, September 6, 2015

महत्वपूर्ण खबरें और आलेख [hastakshep | हस्तक्षेप] कबीर दास होते तो क्या उन्हें मजहबी लफंगे बख्श देते?

  • कबीर दास होते तो क्या उन्हें मजहबी लफंगे बख्श देते?

    Posted:Sun, 06 Sep 2015 02:18:06 +0000
    फासीवाद का विरोध उतना आसान भी नहीं है, दोस्तों। जन्माष्टमी से बड़ा किसी अध्यापक का जन्मदिन न हो, हिंदू राष्ट्र ने चाकचौबंद इंतजाम किया और जन्मष्टमी से एक दिन पहले, देश के सबसे बड़े शिक्षक का जनमदिन...

    पूरा आलेख पढने के लिए देखें एवं अपनी प्रतिक्रिया भी दें http://hastakshep.com/
        
  • तार्किकता का गला घोंटने का प्रयास कलबुर्गी की हत्या

    Posted:Sun, 06 Sep 2015 01:26:51 +0000
    कलबुर्गी की हत्या तार्किकता का गला घोंटने का प्रयास गत 30 अगस्त 2015 को प्रोफेसर मलीशप्पा माधीवलप्पा कलबुर्गी की हत्या से देश के उन सभी लोगों को गहरा सदमा पहुंचा है जो उदारवादी समाज के हामी हैं,...

    पूरा आलेख पढने के लिए देखें एवं अपनी प्रतिक्रिया भी दें http://hastakshep.com/
        
  • राम रहें टाट में-संघी ठाठ में

    Posted:Sun, 06 Sep 2015 01:00:29 +0000
    राम रहें टाट में-संघी ठाठ में अयोध्या में बाबरी मस्जिद के ध्वंस के बाद राम लला टाट में और उनको टाट में पहुँचाने वाले लोग ठाठ में हैं। जब-जब चुनाव आता है तो संघ के एजेंडे में राम मंदिर निर्माण की बात...

    पूरा आलेख पढने के लिए देखें एवं अपनी प्रतिक्रिया भी दें http://hastakshep.com/
        
  • भोपाल में विश्व हिन्दी पंचायत [सम्मेलन]

    Posted:Sun, 06 Sep 2015 00:38:54 +0000
    मध्य प्रदेश के व्यापम प्रसिद्ध मुख्यमंत्री पंचायतें जोड़ने के लिए भी चर्चित हैं और उन्होंने समय समय पर, विशेष रूप से चुनाव का समय निकट होने पर घरेलू काम करने वाली महिलाओं, ठेले वालों, दर्जियों, बस...

    पूरा आलेख पढने के लिए देखें एवं अपनी प्रतिक्रिया भी दें http://hastakshep.com/
        
  • बिहार में सपा का हठयोग, जो सच था, वह हो गया

    Posted:Sun, 06 Sep 2015 00:16:58 +0000
    नई दिल्ली। जो सच था, वह हो गया। सच यह है, कि समाजवादी कभी भी एक साथ खड़े नहीं हो सकते, कारण सभी पार्टियां व्यक्तिवादी हैं और परिवार के इर्द-गिर्द घूम रही हैं। राजनीति का आधार नीतियां नहीं, जातियां...

    पूरा आलेख पढने के लिए देखें एवं अपनी प्रतिक्रिया भी दें http://hastakshep.com/
        
  • लेखक की हत्या के विरोध में विशाल प्रदर्शन

    Posted:Sat, 05 Sep 2015 23:51:16 +0000
    नई दिल्ली। अंधविश्वास और धार्मिक कट्टरपंथ के खिलाफ आवाज उठाने वाले कन्नड लेखक प्रो. एम एम कलबुर्गी, गोविंद पानसरे रहा नरेन्द्र दाभोलकर की हत्या के विरोध में शनिवार को जंतर-मंतर पर विशाल प्रदर्शन हुआ।...

    पूरा आलेख पढने के लिए देखें एवं अपनी प्रतिक्रिया भी दें http://hastakshep.com/
        
  • नेपाल में संविधान निर्माण-अंतर्राष्ट्रीय जगत से प्रेरणा लेने की जरूरत

    Posted:Fri, 04 Sep 2015 18:40:42 +0000
    नेपाल में संविधान निर्माण अंतर्राष्ट्रीय जगत से प्रेरणा लेने की जरूरत नेपाल में संविधान का मसौदा तैयार करने की प्रक्रिया अंतिम चरण में है। किन्तु भारत के अखबारों में छपी ख़बरों के अनुसार नेपाल के...

    पूरा आलेख पढने के लिए देखें एवं अपनी प्रतिक्रिया भी दें http://hastakshep.com/
        
  • इन्साफ की मशाल जलाने वाले हम लोग मर थोड़े ही गए हैं

    Posted:Fri, 04 Sep 2015 17:40:28 +0000
    वैसे ये इत्तेफाक ही होगा कि दो तारीख को जनवादी ताकतों ने अपनी ताकत दिखाई और दो दिन के भीतर ही दो जनवादी कार्यकर्ताओं हेम मिश्रा और रोमा बहन को ज़मानत पर जेल से रिहा कर दिया गया अरे जज साहेबान मोदी कोई...

    पूरा आलेख पढने के लिए देखें एवं अपनी प्रतिक्रिया भी दें http://hastakshep.com/
        
  • इस्लामिक कटरपंथ के खिलाफ रोजावा की क्रांति-समकालीन तीसरी दुनिया

    Posted:Fri, 04 Sep 2015 17:19:31 +0000
    इस्लामिक कटरपंथ के खिलाफ रोजावा की क्रांति अंक: सितंबर 2015 इस अंक में: अपनी बात समकालीन तीसरी दुनिया के बारे में कन्नड़ विद्वान कलबुर्गी की हत्या का विरोध् करो! आवरण कथा रोजावा की क्रांति –...

    पूरा आलेख पढने के लिए देखें एवं अपनी प्रतिक्रिया भी दें http://hastakshep.com/
        
  • False claims On Sardar Sarovar Rehabilitation challenged

    Posted:Fri, 04 Sep 2015 17:11:31 +0000
    False claims On Sardar Sarovar Rehabilitation challenged With 40000+ families yet to be rehabilitated. Corruption in rehabilitation can not be suppressed, Modi government can't put up and close...

    पूरा आलेख पढने के लिए देखें एवं अपनी प्रतिक्रिया भी दें http://hastakshep.com/
        
  • सभ्यता की तलाश

    Posted:Fri, 04 Sep 2015 17:03:51 +0000
    सभ्यता की तलाश """"""""""" मैं अंडमान के सेंटीनल द्वीप पर रहना चाहता हूँ सबसे अलग थलग जहाँ भाषा नही है स्कूल नहीं है मैं बोली और भाषा...

    पूरा आलेख पढने के लिए देखें एवं अपनी प्रतिक्रिया भी दें http://hastakshep.com/
        
  • गृह मंत्रालय ने ग्रीनपीस का एफसीआरए लाइसेंस निरस्त किया

    Posted:Fri, 04 Sep 2015 16:57:38 +0000
    ग्रीनपीस ने जवाब में राष्ट्रव्यापी सिविल सोसाइटी पर सरकारी दमन के खिलाफ किया बॉलीवुड पोस्टर अभियान का ऐलान नई दिल्ली। 4 सितंबर 2015। आज गृह मंत्रालय ने दिल्ली हाई कोर्ट को बताया कि ग्रीनपीस इंडिया के...

    पूरा आलेख पढने के लिए देखें एवं अपनी प्रतिक्रिया भी दें http://hastakshep.com/
        
  • उप्र में मिड डे मील को अक्षयपात्र को देने की हो जांच- आइपीएफ

    Posted:Fri, 04 Sep 2015 16:40:21 +0000
    बच्चों की जिदंगी से खेल रही अखिलेश सरकार लखनऊ, 04 सितंबर। आल इण्डिया पीपुल्स फ्रंट (आइपीएफ) ने मिड डे मील को "अक्षयपात्र" को देने की उच्चस्तरीय जांच की मांग की है। आइपीएफ के प्रदेश संगठन महासचिव...

    पूरा आलेख पढने के लिए देखें एवं अपनी प्रतिक्रिया भी दें http://hastakshep.com/
        
  • Modi Government: Political Arm of the RSS

    Posted:Fri, 04 Sep 2015 16:25:06 +0000
    Modi Government: Political Arm of the RSS New Delhi. the Communist Party of India (Marxist) strongly condemned and opposed the blatant  violation of constitutional norms by Central Government. Party...

    पूरा आलेख पढने के लिए देखें एवं अपनी प्रतिक्रिया भी दें http://hastakshep.com/
        
  • हिंदी के लेखक ने दम दिखाया- उदय प्रकाश ने साहित्य अकादमी पुरस्कार लौटाने की घोषणा की

    Posted:Fri, 04 Sep 2015 16:00:43 +0000
    नई दिल्ली। सरकार बदलने के बाद तमाम हिंदी के साहित्यकार की लेखनी कहानियां और कविता लिखने में व्यस्त हैं, लेकिन हिंदुत्ववादियों द्वारा किये जा रहे लेखन का जवाब नहीं दिया जा रहा है। बड़े-बड़े लेखक सत्ता...

    पूरा आलेख पढने के लिए देखें एवं अपनी प्रतिक्रिया भी दें http://hastakshep.com/
        
  • …ये दास्तान अधूरी है।

    Posted:Fri, 04 Sep 2015 15:39:26 +0000
    …………….ये दास्तान अधूरी है। बारह बरस कूकर जीवे तेरह बरस जिए सियार। बरस अठारह क्षत्रिय जीवे आगे के जीवन को धिक्कार। (ये प्रसिद्ध पक्तियां वीरगाथा काल के कवि जगनकि की हैं...

    पूरा आलेख पढने के लिए देखें एवं अपनी प्रतिक्रिया भी दें http://hastakshep.com/
        
  • Add us to your address book


--
Pl see my blogs;


Feel free -- and I request you -- to forward this newsletter to your lists and friends!
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

Welcome

Website counter

Followers

Blog Archive