Twitter

Follow palashbiswaskl on Twitter

Tuesday, July 28, 2015

अगर इस पृथ्वी पर युयत्सा न होती , तो कलाम जैसा मेधावी , समर्पित और निष्ठावान विज्ञानी पानी को बचाने और बढ़ाने अथवा ओजोन परत की छीजत रोकने के उपाय ढूंढता । लेकिन हम युद्ध पिपासुओं ने उन्हें और उन जैसे कईयों को मारक आयुधों के निर्माण में झोंक दिया । धिक्कार है हमें । गाय को कुकर की तरह कटखना बना देते हैं हम । और ऑक्सीजन को ज़हरीली गैसों में बदलते हैं । सचमुच हम भस्मासुर हैं ।




अगर इस पृथ्वी पर युयत्सा न होती , तो कलाम जैसा मेधावी , समर्पित और निष्ठावान विज्ञानी पानी को बचाने और बढ़ाने अथवा ओजोन परत की छीजत रोकने के उपाय ढूंढता । लेकिन हम युद्ध पिपासुओं ने उन्हें और उन जैसे कईयों को मारक आयुधों के निर्माण में झोंक दिया । धिक्कार है हमें । गाय को कुकर की तरह कटखना बना देते हैं हम । और ऑक्सीजन को ज़हरीली गैसों में बदलते हैं । सचमुच हम भस्मासुर हैं ।


--
Pl see my blogs;


Feel free -- and I request you -- to forward this newsletter to your lists and friends!

No comments:

Post a Comment

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

Welcome

Website counter

Followers

Blog Archive