Twitter

Follow palashbiswaskl on Twitter

Monday, May 21, 2012

Fwd: Hindimedia



---------- Forwarded message ----------
From: hindimedia.in - मुख पृष्ठ <sanjaybengani@gmail.com>
Date: 2012/5/21
Subject: Hindimedia
To: palashbiswaskl@gmail.com


Hindimedia


भूपेन हजारिका की फिल्मों का पुनरावलोकन

Posted:

bhupan hazarikaराजधानी दिल्ली के शांकुतलम थिएटर को दिवंगत फिल्मकार और संगीतकार भूपेन हजारिका की पांच फिल्मों के पुनरावलोकन के लिए एक बार फिर खोल दिया गया है।

जब बाथरुम में छिप गए थे राजीव गाँधी

Posted:

दून स्कूल में पढ़ाई कर रहे 11 वर्षीय राजीव गांधी से जब पहली बार मिलने उनके नाना पंडित जवाहर लाल नेहरू देहरादून पहुँचे तब संकोची स्वभाव के राजीव स्कूल के बाथरूम की बास्केट में छिप गए थे।

संजय लीला भंसाली फिल्में छोड़ टीवी पर

Posted:

sanjay leela bansaliसंजय लीला भंसाली अब टेलिवीजन की दुनिया में एंटर होने जा रहे हैं। इन दिनों उनकी फिल्में बॉक्स ऑफिस पर फ्लॉप रही हैं। उन्होंने फिल्म "माई फ्रेंड पिंटो" को प्रोडयूस किया लेकिन वह भी बॉक्स ऑफिस पर असफल रही।

मध्य प्रदेश में नहीं होगा आईपीएल का नंगा नाच

Posted:

shivraj-chauhan

मध्य प्रदेश के मुख्य मंत्री शिवराजसिंह चौहान ने कहा कि मप्र में आईपीएल मैच नहीं होने देंगे। इसमें बाहर के सटोरियों का पैसा लगा है और यह क्रिकेट की साख बिगाड़ रहा है।

जोहल हामिद को लेकर नया खुलासा

Posted:

रॉयल चैलेंजर्स बेंगलूरू के प्लेयर ल्यूक पॉमर्शबैक पर छेड़खानी और मारपीट का आरोप लगाने वाली महिला जोहल हामिद खुद संदेह के दायरे में हैं। समाचार पत्र द संडे गार्जियन का दावा है कि जोहल हामिद हथियारों के कथित सौदागर अभिषेक वर्मा की मुंह बोली बहन है।जोहल वर्मा को राखी बांधती है।

मिस्टर भट्टी ऑन छुट्टी [कामेडी]

Posted:

जिन्दगी और प्रतियोगिता में जीतना हर आदमी चाहता है। लेकिन कई बार जीत और इच्छाओं को पूरी करने की चाहत जब गले पड़ जाती है तो फिर उसके बचाव का कोई रास्ता नहीं। ये अलग बात है कि इस मुसीबत से बचाव का रास्ता भी आपकी जीत और इच्छाओं को पूरी करने की इच्छा ही पूरा कर सकती है बस इतना सा सन्देश देती है फिल्म मिस्टर भट्टी ऑन छुट्टी।

डिपार्टमेंट [एक्शन थ्रिलर]

Posted:

department-film

राजनीति और अंडरवर्ल्ड की दुनिया का कोई भरोसा नहीं। कब किस करवट बैठे। पर पुलिस और कानून के साथ ईमानदारी से बनाई गई सामजिक व्यवस्था चाहे तो इसे बदल सकती है। लेकिन इसके लिए भी उस सोच की जरुरत होगी जो इमानदारी के साथ सोची गई हो। चाहे फिर चाहे इसके लिए खुद की जान की बाजी ही क्यों ना लगानी पड़े।

कहानी एक अनाथ चार्जशीट की

Posted:

चुनावी वर्ष में हिमाचल के सत्ता और विपक्ष में एक तथाकथित चार्जशीट पट जंग सी छिड़ी हुई है। भाजपा जहाँ उसे काँग्रेस द्वारा जारी करने से पूर्व लीक हुई चार्जशीट बता रही है वहीँ काँग्रेस उसे पूर्व या वर्तमान (असंतुष्ट) भाजपाइयों का बता कर अपना पल्ला झाड़ रही है। तेरी-तेरी के चक्कर में एक अबला चार्जशीट अनाथ सा महसूस कर रही है।

तो क्या अब तक वित्तमंत्री सो रहे थे?

Posted:

pranab mukharjeeभारतीय अर्थव्यवस्था का माई बाप कौन है, लगता है ,यह अभी तय नहीं हो पाया है। वित्त मंत्रालय और योजना आयोग अपना अपना राग अलापने में मशगुल हैं। लेकिन संकट कत्म होने के बजाय बढ़ता ही जा रहा है। रिजर्व बैंक के करतब से गिरते रुपये को थाम लेने के दावे किये जा रहे ​​थे, जो खोखले साबित हो गये. अब वित्त मंत्री का कहना है कि केंद्र कदम उठा रहा है।

मातृभाषाओं के सम्मान से ही बचेगी राष्ट्रीय अस्मिताः अष्ठाना

Posted:

देवपुत्र के संपादक और वरिष्ठ पत्रकार कृष्णकुमार अष्ठाना का कहना है कि मातृभाषाओं को सम्मान दिए बिना राष्ट्रीय अस्मिता बचाई नहीं जा सकती। हमें सरकारी कामकाज से लेकर समाज जीवन के हर क्षेत्र में मातृभाषाओं को स्थापित करना होगा।

You are subscribed to email updates from hindimedia.in - मुख पृष्ठ
To stop receiving these emails, you may unsubscribe now.
Email delivery powered by Google
Google Inc., 20 West Kinzie, Chicago IL USA 60610

No comments:

Post a Comment

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

Welcome

Website counter

Followers

Blog Archive