Twitter

Follow palashbiswaskl on Twitter

Saturday, January 4, 2014

छनछनाता विकास, आम आदमी की परिभाषा,वामपंथी विरासत और कामरेड का तीसरा मोर्चा COMMUNIST STYLE OF FUNCTIONING

छनछनाता विकास,

आम आदमी की परिभाषा,वामपंथी विरासत और

कामरेड का तीसरा मोर्चा


COMMUNIST STYLE

OF FUNCTIONING


पलाश विश्वास


आज का संवाद

छनछनाता विकास, आम आदमी की परिभाषा,वामपंथी विरासत और कामरेड का तीसरा मोर्चा


कृपया गुगल प्लस और फेसबुक पर अपना मतामत जरुर दर्ज करायें ताकि इस बेहद जरुरी मुद्दे पर संवाद हो सकें।


How will the AAP Shape up?

Prakash Karat

THE Aam Aadmi Party (AAP) which was founded a year ago in Delhi has formed the government after winning 28 out of the 70 seats in Delhi assembly. This rapid rise of a new party in the capital city has sparked off a lot of discussion and has been generally welcomed by the democratic and secular circles in the country.

A POSITIVE

DEVELOPMENT

Of course, this is not the first time a political formation has made a speedy ascent by gaining popular support. The Telugu Desam Party (TDP), founded by N T Rama Rao in Andhra Pradesh, made a spectacular debut winning the assembly elections in 1982. The Asom Gana Parishad also rose to power on the basis of the AASU movement in the eighties. These parties have endured, though there have had a chequered career as regional parties.

The AAP's rise has been unique in that it could build a network and gather support from the middle classes and subsequently extend its influence amongst the poorer sections in the setting of a metropolitan city. Secondly, it could do so in a place which has seen a bipolarity between the Congress and the BJP for more than five decades.

The AAP originated from the anti-corruption movement in 2011.  At that time, the Anna Hazare movement for a Jan Lokpal Bill had drawn support from wide sections of the middle class, particularly youth in Delhi. This movement, which was focused solely on anti-corruption, could not be sustained after a few months. The decision of Arvind Kejriwal and others to form a political party and to take up issues such as exorbitant electricity rates and other problems of the people helped the new party to attract volunteers and gain influence among the people.

The success of the AAP, as against the Congress and the BJP, is thus a positive development. The involvement of a normally apolitical middle class and attracting the youth to political activism with idealism is a singular achievement. There are lots of expectations from the AAP government which in Delhi does not even have the full powers of a state government. While, at the same time, both the Congress and the BJP are faced with a political challenge outside the framework of their conventional politics.

The election manifesto of the AAP dealt with some of the specific problems and issues of the people: a promise of reduction in electricity rates by 50 per cent, free supply of 700 litres of water per household per day, decentralised decision making throughmohulla sabhas, regularisation of contract workers and so on.

SILENCE

ON POLICIES

While the AAP proposes to tackle some of the critical problems faced by the people, including corruption, it has so far been silent on the nature of the economic policies which have produced these problems. For instance, the continuously rising electricity rates are due to the privatisation of power distribution in the city. The high level institutionalized corruption is an outcome of the neo-liberal regime. So is the contractised work pattern. But the AAP is yet to spell out its comprehensive policy platform. Do they advocate any alternative policies to neo-liberalism? There seems to be a tendency to gloss over these matters, perhaps due to the contradictions that exist in the social base which has rallied around in the party. An AAP leader has even gone to the extent of saying, "the Left-Right spectrum never made sense in the Indian context." He has also talked of a better model emerging from Latin America. But he should remember that the Latin American model has explicitly opposed neo-liberalism and imperialism.

The AAP has effectively checked the BJP's advance and exposed their corruption and policies which are similar to those of the Congress. Narendra Modi's appeal to the middle class and the youth was blunted by the AAP campaign in Delhi. However, in this context, the AAP's stand on communalism and its attack on the communal Hindutva agenda was absent. Can the AAP ever hope to present itself as an alternative without taking a clear-cut stand against communalism?

Now that the AAP is planning to become a national party and to fight elections in other states, it becomes all the more important that it spell out its basic programmes and policies. Only then, will it be possible for the people to determine the nature of the party and the direction it will take.

The AAP has so far been riding on the plank of fighting the "political establishment" --- a stance which tars all political parties with the same brush, including the Left parties.

COMMUNIST STYLE

OF FUNCTIONING

The virtues that AAP claims for itself – a clean image, incorruptibility, denial of perks and privileges of power and funding based on people's contributions – are all part of the style and practice of the communists from the outset. Take the financing of the party, for instance. The CPI(M) has always relied on mass contributions of small amounts and the levy paid by party members (a percentage of their income) as the main source of its funding. Any one who has witnessed the bucket collections in Kerala by CPI(M) members knows this. Recently in September, in two days of mass collections throughout the length and breadth of Kerala, Rs 5.43 crore was collected for the party fund.

The citizens of Delhi have appreciated the refusal of Arvind Kejriwal and his other ministers not to seek large official accommodations and to stick to their modest housing. This is the tradition set by communist leaders in public office. Communist chief ministers like EMS Namboodiripad, Jyoti Basu and Nripan Chakraborty set the example. The former chief minister of West Bengal, Buddhadeb Bhattacharya, lived in a two bedroom flat throughout his tenure as a minister and later as chief minister. The former Kerala chief minister, V S Achuthanandan, has the image of an incorruptible leader. The current chief minister of Tripura, Manik Sarkar, is known to be the "poorest chief minister" in the country in terms of his income and assets.

AAP AT THE

CROSSROADS

It is good that the AAP government is setting a new precedent in Delhi by adhering to simplicity and setting new norms of public service. But it should not be forgotten that Left-led governments have always adhered to these values. Not only governments, Left MPs and legislators are known for their easy access to the people and their simple style of living.

The non-political and even anti-political origins of the AAP with its middle class/NGO antecedents seems to prevent it from discerning the ruling class politics and politicians from those like the communists who have always stood firmly in support of the working people and their cause. The Left agenda has been clear-cut – policies in favour of the working class and other working people, for social justice and democratisation and decentralisation of power. Left-led governments, starting from the first communist ministry in 1957 in Kerala to the various Left-led governments in the three states of West Bengal, Kerala and Tripura, have implemented land reforms, assured the rights of the working people, decentralised powers to the panchayati raj system and set an example in running corruption free ministries.

Today in the country, the two premier parties of the ruling classes – the Congress and the BJP – have heaped burdens on the people and intensified exploitation by pursuing policies which are in the interests of the international finance capital and Indian big business. The neo-liberal regime they uphold is the fountainhead of high level corruption. Unfortunately, there are very few parties, apart from the Left parties, who have policies which are different from those of these two parties. The AAP is, therefore, at an important crossroads after the Delhi elections. Will it be able to spell out an alternative policy direction and build a party which will represent the interests of the aam aadmi and the working people of the country? On this will depend the future trajectory of this novel political formation.

http://pd.cpim.org/2014/0105_pd/01052014_prakash.html


कामरेड प्रकाश कारत ने कांग्रेस और भाजपा दोनों के विरोध में तीसरे मोर्चे के गठन के सिलसिले में आम आदमी पार्टी को वामपंथी विरासत का होने का सर्टिफिकेट दे दिया है। दिल्ली में कांग्रेस को पराजित करने की आप की उपलब्धि के आधार पर उन्होंने तीसरे मोर्चे के गठन का संकल्प भी दोहराया है।जबकि दिल्ली विधानसभा में आस्था प्रस्ताव पर अपने जवाबी भाषण में अरविंद केजरीवाल ने बाकायदा आम आदमी की परिभाषा देते हुए अमीर और गरीब दोनों को आम आदमी बताया है।अर्थशास्त्र का कोई भी अधकचरा विद्यार्थी भी इसे उत्तर आधुनिक मुक्त बाजार के छनछनाते विकास की अवधारण मानेगा।तो क्या कामरेडों ने सर्वहारा के अधिनायकत्व और वर्ग विहीन शोषणविहीन समाज की स्थापना के सपने से किनारा कर लिया?


प्रकाश कारत का कहना है कि जो काम वामपंथियों को करना चाहिेए था,वह आम आदमी पार्टी कर रही है।सामाजिक शक्तियों की गोलबंदी और अस्मिता राजनीति तोड़ने में नायाब कामयाबी के लिए हमने भी आप की तारीफ की है और इसे अनुकरणीय भी मानते हैं जनपक्षधर मोर्चे के लिए। लेकिन हम कामरेड कारत की तरह आप को कोई जनपक्षधर विकल्प मानने के बजाय कारपोरेट कायाकल्प और कारपोरेट  राजनीति का एनजीओ करण मानते हैं।हमारी नजर से संघ परिवार और नरेंद्र मोदी की तुलना में प्रबंधकीय दक्षता की यह धर्मोन्मादी एनजीओ राजनीति का अंतिम लक्ष्य महाविध्वंस है जो संघी राष्ट्रवाद के लिए भी हजम करना मुश्किल है। कम से कम खुदरा कारोबार में प्रत्यक्ष विदेशी निवेश का संघ परिवार समर्थन नहीं कर सकता और न ही रक्षा क्षेत्र में अबाध विदेशी पूंजी प्रवाह। जिसपर अमेरिकी युद्धक अर्थव्यवस्था और एकाधिकारवादी अमेरिकी राजनय का सबसे बड़ा दांव लगा है।जाहिर है कि नरेंद्र मोदी का प्रधानमंत्रित्व पूरी तरह अमेरिकी एजंडे के माफिक है ही नहीं।इसी वजह से अमेरिका परस्त तमाम ताकतें नरेंद्र मोदी के प्रधानमंत्रित्व के बजाय अरविंद केजरीवाल के ईश्वरत्व का गुणगाण और महिमामंडन में लगे हैं।अचरज तो इस पर है कि इस महिमामंडन में भारतीय वामपंथी आंदोलन के सबसे बड़े स्वयंभू झंडेवरदार भी पीछे नहीं है।


प्रकाश करात ने बुधवार को कहा था कि आप को हम गैर भाजपा और गैर कांग्रेस के विकल्प के रूप में देख रहे हैं। साथ ही उन्होंने आप को समर्थन देने पर विचार करने की बात भी कही थी।जाहिर है कि कुछ दिनों पहले तक मुलायम सिंह यादव के साथ मिल कर तीसरा मोर्चा बनाने की कोशिश में जुटी वामपंथी पार्टियां अब भाजपा और कांग्रेस के खिलाफ तीसरे विकल्प के लिए आम आदमी पार्टी की ओर उम्मीद भरी नजर से देख रही है। करात ने माना कि अगर इस पार्टी का प्रसार होता है तो वह गैर भाजपा, गैर कांग्रेस राजनीति के लिहाज से महत्वपूर्ण हो सकता है। इसलिए उनकी नजर भी इसके चुनावी प्रदर्शन पर होगी। उन्होंने यह भी माना कि राजनीति को लेकर उदासीन रहने वाले शहरी मध्य वर्ग को जोड़ने से लेकर सोशल मीडिया के उपयोग तक को 'आप' से सीखा जा सकता है। इससे पहले कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी भी कह चुके हैं कि इस पार्टी से सीखने की जरूरत है।


गौरतलब है कि प्रकाश करात ने कहा है कि लेफ्ट पार्टियों को 'आप' से सीखना चाहिए  कि सोशल मीडिया का इस्तेमाल कर कैसे युवा लोगों से संवाद स्थापित किया जाए।


गौरतलब है कि अरविंद केजरीवाल के तौर तरीकों को सिर्फ जनता ही नहीं बल्कि लालकृष्ण आडवाणी और राहुल गांधी की भी तारीफ  मिल चुकी है। और अब वामपंथी दल के नेता भी अपने कार्यकर्ताओं से आप से सीखने की नसीहत दे रहे हैं।


देश की सबसे बड़ी लेफ्ट पार्टी सीपीएम के महासचिव प्रकाश करात ने कहा है कि हमारे दल को अरविंद केजरीवाल की आम आदमी पार्टी से सीखना चाहिए। टीम केजरीवाल की तारीफ  करते हुए करात बोले कि दिल्ली में आम आदमी पार्टी बीजेपी और कांग्रेस को चुनौती दे पाई और इससे यह साबित होगा कि देश में वैकल्पिक राजनीति की गुंजाइश है।


करात ने कहा कि जब केजरीवाल दिल्ली जल बोर्ड के निजीकरण का विरोध कर रहे थे, तब वह मुझसे आकर मिले थे। करात ने कहा कि यह अच्छा है कि केजरीवाल नीतियों के बारे में बात कर रहे हैं. हम उन्हें, उनकी राजनीति को गौर से और करीब से देख रहे हैं ।


गौरतलब है कि लोक निर्माण विभाग (पीडब्लूडी) मंत्री मनीष सिसोदिया की ओर से पेश किए गए विश्वास मत प्रस्ताव पर विधानसभा में हुई करीब साढ़े चार घंटे की चर्चा के अंत में मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने सभी सदस्यों से यह फैसला करने की अपील की कि 'वे किस तरफ हैं'।


चर्चा के समापन के समय अपने 25 मिनट के संबोधन में मुख्यमंत्री ने कहा कि वे तीन बातें रखना चाहता हैं। दिल्ली के आम आदमी ने देश को यह बताने में अगुआई की है कि राष्ट्रीय राजनीति को किस दिशा में बढ़ना चाहिए। उन्होंने कहा कि सदन में मौजूद सदस्यों को यह भी फैसला करना चाहिए कि राजनीति में सच्चाई और ईमानदारी की लड़ाई में वे किस तरफ हैं और क्या वे इसमें भागीदार बनना चाहते हैं। उन्होंने कहा कि वे अपनी पार्टी या सरकार के लिए सदस्यों का समर्थन नहीं मांग रहे बल्कि उन मुद्दों पर समर्थन मांग रहे हैं जिनका सामना दिल्ली कर रही है।

आम आदमी' की परिभाषा बताते हुए केजरीवाल ने कहा कि आम आदमी वह है जो ईमानदारी और सच्चाई से रहना चाहता है चाहे वह अमीर हो या गरीब हो। उनमें से हरेक आदमी को आम आदमी कहा जा सकता है। हम कौन थे, हम सभी तो बाहरी थे, हम बगैर किसी काबिलियत के बहुत छोटे आदमी थे। उन्होंने कहा कि अपराधीकरण की वजह से राजनीति भ्रष्ट हो गई है। भ्रष्ट राजनीति की वजह से शिक्षा, स्वास्थ्य और सड़कों की हालत खराब है।


अरविंद केजरीवाल को राजनीति के आपराधिक और भ्रष्ट हो जाने का कष्ट है।राजनीति में कारपोरेट फंडिंग, कारपोरेट लाबिइंग से राजकाज,कारपोरेट नीति निर्धारण और अंततः कारपोरेट राजनीति से उन्हें कोई परहेज नहीं है। शायद यह भी वामपंथी विरासत है।


तो क्या भारत में अमीर भी आम आदमी है,कामरेडों की नजर में और वर्ग संघर्ष की विचारधारा छनछनाते विकास में निष्णात हो गयी है ?तो क्या छनछनाते विकास के पैरोकारों की तरह कामरेडों का मानना है कि अमीरों की बेहिसाब विकास से ही छनाछनाकर विकास की गंगा बाकी भारतीयों के घर आंगन तक पहुंच जायेगा?वैसे भी आम आदमी  पार्टी की कमान वाणिज्य प्रबंधकों,बाजार विशेषज्ञों और आईटी के रथी महारथियों के पास है। भरती अभियान में भी फोकस खास लोगों पर ज्यादा है। ये तमाम लोग जिनके हित साध रहे हैं,क्या वे वामपंती विरासत के मुताबिक सर्वहारा या सर्वस्वहाराओं के हितों के समार्थक हैं,यह विचारणीय है।


अरविंद केजरीवाल ने मुख्यमंत्री पद की शपथ लेते हुए कहा कि कर्म उनके हाथ में है,फल नहीं है।फल ईश्वर के हाथ में है। राजकाज के इस भागवत गीता आख्यान पर हालांकि कामरेड कारत ने वामपंथी विरासत की प्रासंगिकता की चर्चा नहीं की है। लेकिन यह भारतीय इतिहास के जानकार सारे लोग जानते हैं कि कर्मफल के सिद्धांत पर ही वर्ण विद्वेषी जाति व्यवस्था की नींव है,जो बहुसंख्य भारतीय जनगण के अर्थव्यवस्था समेत जीवन के हर क्षेत्र से बहिष्कार की बुनियाद है। भारत में वामपंथी आंदोलन और वाम नेतृत्व के इतिहास को देखें तो कामरेड कारत को न शपथ ग्रहण और न आस्थामत के दौरान धर्म और आस्था संक्रांत वक्तव्य से कोई ऐतराज है।


कामरेड कारत को तो आम आदमी के इस चामत्कारिक उत्थान में नया राजनीतिक विकल्प दीख रहा है और आम आदमी पार्टी की तारीफ करते हुए वे तीसरे मोर्चे का संकल्प भी एक ही सांस में दोहरा रहे हैं।क्या वामपंथी विचारधारा के रथी महारथियों को.जिन्हें जमीनी हकीकत और भारतीय यथार्थ के मुकाबले रंग बिरंगे विमर्शों और बहुआयामी अकादमिक अवधारणाओं पर बहस करते रहने से फुरसत ही नहीं मिलती,उन्हें कोई गड़बड़ी नजर नहीं आ रही है?


वर्ग संघर्ष के वामपंथी सिद्धांत का बारह बजाते हुए जो सामाजिक दृष्टिकोण बता रहे रहे हैं अरविंद केजरीवाल ,लगता है कि कामरेडों को उसपर भी कोई ऐतराज नहीं है।केजरीवाल ने कहा कि उनकी किसी से दुश्मनी नहीं है। वे आज सरकार बचाने के लिए नहीं आए हैं। उन्होंने कहा कि उन लोगों ने कभी सोचा भी नहीं था कि वे राजनीति में आएंगे। उन्होंने कहा कि देश का आम आदमी चाहता है कि उसे सुविधाएं मिले, उनके बच्चों को बेहतर शिक्षा व सुरक्षा मिले, न्याय व्यवस्था ठीक हो। लेकिन 65 साल में उन्हें वह व्यवस्था नहीं मिली है। कुछ दिन पहले दिल्ली में ठंड से दो लोग मर गए हैं। आजादी के बाद अरबों रुपए तरह-तरह की योजनाओं पर खर्च हुए हैं। लेकिन वे पैसे गए कहां। ये जानने के लिए आम आदमी सड़कों पर उतर रहा है। उन्होंने कहा कि देश के नेताओं ने आम आदमी को ललकारा है। उन्होंने कहा कि शायद देश के नेताओं को ये नहीं पता कि इस देश का आम आदमी हल जोतता है, कोई नेता नहीं। इस देश का आम आदमी रिक्शा चलाता है, आटो चलाता है, कोई नेता नहीं चलाता। देश का आम आदमी शोध करता है, चांद पर जाता है, कोई नेता ये काम नहीं करता। उन्होंने कहा कि लड़ाई असंभव थी, जीत की संभावना जीरो थी। कहते हैं कि जिसका कोई नहीं होता उसका ऊपर वाला होता है। आम आदमी पार्टी की जीत हुई ,सच्चाई की जीत हुई।


आस्था प्रस्ताव पर जवाबी भाषण में जो केजरीवाल ने कहा ,वह भी कम गौरतलब नहीं है।केजरीवाल ने कहा कि राजनीति की सफाई के लिए हमें साथ आने की जरूरत है। हमें राजनीति में आने, चुनाव लड़ने और अपने कानून बनाने की चुनौती दी गई थी। लड़ाई नामुमकिन थी। जीत की संभावना शून्य थी और तब हमने राजनीति में आकर इसे साफ करने का फैसला किया। बड़ी पार्टियों के नेताओं ने सबसे बड़ी भूल यह सोचकर की कि आम आदमी चुनाव कहां लड़ने जा रहा है। तब हमने चुनाव लड़ने का फैसला किया। लोग हमारा मजाक उड़ाते थे। चार और आठ दिसंबर को चमत्कार हुआ। मैं पहले एक नास्तिक था पर अब मैं भगवान पर यकीन करने लगा हूं। दिल्ली की जनता ने साबित कर दिया है कि सच्चाई को मात नहीं दिया जा सकता।


मुख्यमंत्री ने कहा कि दिल्ली की जनता ने देश को यह दिखाने की दिशा में पहला कदम बढ़ाया है कि देश को भ्रष्ट राजनीति से किस तरह मुक्ति दिलाई जा सकती है।

राज्यतंत्र में बिना किसी बुनियादी परिवर्तन के टल्ली और मुलम्मा लगाकर मुक्त बाजार की जनसंहारी व्यवस्था को जारी रखने की कवायद अगर वामपंथी विरासत है कामरेड करात के नजरिेये से,तो किसी मंतव्य की जरुरत है ही नहीं।वैसे बंगाल में कामरेडों को धर्म कर्म की इजाजत देकर जनता से सीधे जुड़कर सत्ता में वापसी की इजाजत देने वाले माकपाई नेतृत्व ने केरल में कामरेडों को धर्म कर्म की इजाजत नही ंदी है।धर्मोन्मादी राष्ट्रवाद के मामले में संघपरिवार को हमेशा कटघरे में खड़ा करने वाले कामरेडों को कांग्रेसी धर्मोन्माद से कभी परहेज रहा हो,ऐसा उनके कट्टर दुश्मन भी नहीं कह सकते। तो जैसे केरल में धर्म अफीम है,लेकिन बंगाल में जनसंपर्कका अचूक हथियार,ठीक उसीतरह संघी हिंदुत्व का विरोध करने को कटिबद्ध धर्मनिरपेक्ष कामरेडों को कांग्रेस के हिंदुत्व की तरह केजरीवाल के अमेरिकी हिंदुत्व से भी कोई परहेज है नहीं।


इसी के मध्य मुक्त बाजार की कयामत बेरोकटोक जारी है और कामरेडों के विमर्श में मुक्त बाजार के जनसंहारी तौर तरीके नरमेध अभियान के प्रतिरोध का कोई विमर्श है ही नहीं। रसोई गैस की कीमतों में सीधे एकमुश्त 20 रुपये की बढ़ोतरी के बाद  पेट्रोल और डीजल के दाम में शुक्रवार मध्यरात्रि से क्रमश: 75 पैसे और 50 पैसे की वृद्धि की जा रही है। अन्य कर अतिरिक्त होंगे। यह जानकारी सरकारी तेल विपणन कंपनी इंडियन आयल कारपोरेशन ने दी।


देश की सबसे बड़ी तेल विपणन कंपनी ने एक बयान में कहा है कि इंडियन आयल कारपोरेशन ने पेट्रोल के खुदरा बिक्री मूल्य में 75 पैसे प्रति लीटर और डीजल के खुदरा बिक्री मूल्य में 50 पैसे प्रति लीटर की वृद्धि करने का फैसला लिया है। दोनों उत्पादों पर राज्यों के अधिभार इसके अतिरिक्त होंगे। पिछले मूल्य परिवर्तन से एमएस (पेट्रोल) के अंतर्राष्ट्रीय दाम में वृद्धि हुई है और रुपये-डॉलर विनिमय दर में अवमूल्यन हुआ है। वैश्विक स्तर पर भूराजनीतिक और आर्थिक विकास के कारण अंतर्राष्ट्रीय तेल कीमतों में अस्थिरता जारी है।

सरकार द्वारा तेल विक्रेताओं को दिया जाने वाला कमीशन बढ़ाने के बाद पिछले महीने पेट्रोल की कीमत में 41 पैसे प्रति लीटर और डीजल की कीमत में 10 पैसे प्रति लीटर की वृद्धि की गई थी। विक्री कर या वैट इसके अतिरिक्त थे।


बढ़ती महंगाई के बीच केंद्र सरकार ने जनता पर और बोझ दिया है। बगैर सब्सिडी वाले रसोई गैस सिलिंडर के दामों में 220 रुपये का इजाफा कर दिया गया है।


दरअसल नए साल में सरकार ने आम लोगों की मुश्किलें बढ़ा दी है। बिना सब्सिडी वाले घरेलू गैस सिलेंडर की कीमत में 220 रुपये का इजाफा कर दिया गया है। इस बढ़ोतरी के बाद दिल्ली में अब गैर सब्सिडी वाले सिलेंडर की कीमत 1241 रुपये हो गई है, जो पहले 1021 रुपये थी। एक परिवार साल भर में सब्सिडी वाले 9 सिलेंडर मिलते हैं। इसके अलावा उन्हें बाजार दर पर सिलेंडर लेना पड़ता है।


पिछले एक महीने में यह तीसरा मौका है जब गैर-सब्सिडी वाले सिलेंडरों के दाम बढ़ाए गए हैं। एक दिसंबर को सिलेंडर का दाम 63 रुपये और 11 दिसंबर को 3.50 रुपये बढ़ाया गया था।



कामरेडों को यह चिंता भी नहीं सताती कि एक जनवरी से सरकार ने दिल्ली और मुंबई समेत 105 और जिलों में एलपीजी पर डायरेक्ट कैश ट्रासंफर स्कीम यानी डीबीटीएल शुरू कर दी है। लेकिन अभी भी काफी ग्राहकों को इस योजना को लेकर काफी कन्फ्यूजन है। मसलन एपीएल और बीपीएल कार्ड धारकों को क्या इस योजना में अलग-अलग फायदे हैं। अब डायरेक्ट कैश ट्रासंफर स्कीम के तहत नगद सब्सिडी ग्राहकों के बैंक खाते में सीधी भेजी जा रही है।


सबके लिए डायरेक्ट कैश सब्सिडी एक समान है। एपीएल और बीपीएल कार्ड का कैश सब्सिडी से कोई लेना देना नहीं है। अब केवल आधार कार्ड वाले ग्राहकों को ही कैश सब्सिडी मिलेगी। इसके तहत सब्सिडी वाले केवल 9 सिलेंडरों के लिए पैसा मिलेगा। सब्सिडी मिलने पर बाजार रेट पर सिलेंडर खरीदना होगा। सब्सिडी वाला सिलेंडर बुक कराते ही बैंक खाते में पैसा आ जाएगा।


नगद सब्सिडी के लिए ग्राहकों को आधार कार्ड बनवाना होगा। ग्राहकों को आधार कार्ड को अपने बैंक खाते से लिंक कराना होगा। आधार कार्ड को बैंक खाते से लिंक कराने के लिए बैंक की ब्रांच से संपर्क करना होगा या फिर एलपीजी डिस्ट्रीब्यूटर के पास ड्राप बॉक्स में फार्म जमा करना होगा। आखिर में अपने एलपीजी कनेक्शन से आधार कार्ड को लिंक कराना होगा।


गौरतलब है कि मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (माकपा) के महासचिव प्रकाश करात ने दिल्ली विधानसभा चुनाव में कांग्रेस और भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के खिलाफ आम आदमी पार्टी (आप) के शानदार प्रदर्शन की सराहना की, और कहा कि आप भविष्य के अपने राजनीतिक कार्यक्रमों व योजनाओं को स्पष्ट करे। करात ने अागरतला में जारी माकपा की केंद्रीय समिति की बैठक के दौरान संवाददाताओं से कहा, विधानसभा चुनाव में आप कांग्रेस और भाजपा के सामने एक सशक्त विकल्प के रूप में उभरी है। हमें आप को समर्थन देने से पहले उनके राजनीतिक कार्यक्रमों, नीतियों और योजनाओं को देखना है।यानी वामपंथी आप को समर्तन देने ौर तीसरे मोर्चे में उसे शामिल करने से परहेज नहीं करने वाले।


विधानसभा चुनावों के परिणामों पर करात ने कहा कि भाजपा 2004 और 2009 के लोकसभा चुनावों में इन पांच राज्यों (राजस्थान, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, दिल्ली और मिजोरम) में अच्छा प्रदर्शन नहीं कर पाई थी, यद्यपि इस विधानसभा चुनावों में उसका प्रदर्शन अच्छा रहा। करात ने कहा, देश में कुछ राज्य ऐसे हैं, जहां द्विध्रुवीय राजनीति है, लेकिन कई राज्यों में चुनावी लड़ाई त्रिकोणीय या बहुकोणीय है, जिसके कारण तीसरे धर्मनिरपेक्ष विकल्प के आकार लेने की संभावना बनती है। करात ने कहा कि कांग्रेस और संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (संप्रग) की शासन की विफलता के कारण विधानसभा चुनावों में भाजपा को लाभ हुआ।


माकपा नेता ने कहा कि वाम दल लोकसभा चुनाव से पहले सांप्रदायिक ध्रुवीकरण रोकने के लिए काम करेंगे। करात पार्टी की केंद्रीय समिति के 77 सदस्यों, जिसमें पोलिब ब्यूरो के 13 सदस्य शामिल हैं, के साथ तीन दिवसीय बैठक में हिस्सा ले रहे हैं, जो शुक्रवार को शुरू हुई। माकपा केंद्रीय समिति में कुल 93 सदस्य और पोलित ब्यूरो में 15 सदस्य हैं। माकपा का गठन 17 अक्टूबर, 1920 को हुआ था और उसके बाद से केंद्रीय समिति और पोलित ब्यूरो की बैठक पहली बार त्रिपुरा में हुई। त्रिपुरा एक मात्र राज्य है, जहां माकपा की सरकार है।



मजे की बात है कि संजोग से प्रधानमंत्रित्व से रिटायर होने की  घोषणा करते हुए छनछनाके विकास के मसीहा और मुक्त बाजार के अप्रतिम अर्थशास्त्री डा. मनमोहन सिंह भी दिल्ली में कांग्रेस की शिकस्त के बाद आप की सरकार को समर्थन देने की अभिज्ञता के आलोक में कामरेड कारत के वक्तव्य की प्रतिध्वनि करते नजर आये।दिल्ली के विधानसभा चुनाव में आम आदमी पार्टी के जबर्दस्त प्रदर्शन पर चुप्पी तोड़ते हुए प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने आज कहा कि जनता के फैसले का सम्मान होना चाहिए लेकिन साथ ही कहा कि यह आकलन करना जल्दबाजी होगी कि आप के प्रयोग सफल होंगे या नहीं ।

सिंह ने आप की सफलता पर एक सवाल के जवाब में कहा कि भारत की जनता ने दिल्ली में आप में विश्वास व्यक्त किया । ''मेरा मानना है कि हमें लोकतांत्रिक प्रक्रिया का सम्मान करना चाहिए ।''


उन्होंने कहा कि समय ही बताएगा कि ये अनुभव हमारी अर्थव्यवस्था एवं राजतंत्र की चुनौतियों से निपटने में सक्षम है या नहीं । अभी काफी कम वक्त बीता है एक सप्ताह से कम । उन्हें खुद को साबित करने के लिए समय और मौका देना चाहिए ।''


अरविन्द केजरीवाल के नेतृत्व वाली आप ने दिल्ली में हाल ही में संपन्न विधानसभा चुनाव में जबर्दस्त प्रदर्शन किया है । आप के मुद्दे महंगाई और भ्रष्टाचार थे ।


सिंह ने माना कि भ्रष्टाचार एक मुद्दा है और केजरीवाल के नेतृत्व वाली आप भ्रष्टाचार को समाप्त करने को लेकर अपनी चिन्ताओं की वजह से सफल हुई ।


उन्होंने कहा कि भ्रष्टाचार से निपटना आसान प्रक्रिया नहीं है । विभिन्न राजनीतिक दलों को भ्रष्टाचार के दानव से निपटने के लिए मिलकर काम करना होगा ।


प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने आज बीजेपी के पीएम उम्मीदवार नरेंद्र मोदी पर तीखा हमला बोला। उन्होंने कहा कि जिसके सत्ता में रहते अहमदाबाद में कत्लेआम हुआ हो, वो मजबूत नेता कैसे हो सकता है। मोदी का प्रधानमंत्री बनना देश के लिए घातक होगा। आज एक अहम प्रेस कांफ्रेंस को संबोधित करते हुए मनमोहन सिंह ने राहुल गांधी को प्रधानमंत्री पद के लिए सही व्यक्ति बताते हुए ये भी साफ कर दिया कि 2014में वे पीएम पद की रेस में नहीं होंगे।


गुजरात नरसंहार युद्ध अपराध है तो भोपाल गैस त्रासदी की रासायनिक आयुध प्रयोग और सिखों के जनसंहार के मामले में कांग्रेस को बरी करने का धर्म निरपेक्ष तेवर समझ से परे है। सांरप्रदायिकता बड़ा खतरा है लेकिन जनसंहार की आर्थिक नीतियों का खतरा उससे कही ज्यादा है।


अपने बचाव में जो मनमोहन सिंह छनछनाते विकास का सब्जबाग दिखाते हुए जो कह रहे हैं, उससे अलग नहीं है वामपंथी पक्ष। अबाध पूंजी प्रवाह और प्रत्यक्ष विदेशी निवेश के सवाल पर आप का कोई पक्ष नही है। भाजपा को रोकने के लिए यूपीए एक के तमाम पापों के सबसे सक्रिय साझेदार के नजरिये से आप की प्रबंधकीय राजनीति को नया विकल्प बताये जाने पर कायदे से ताज्जुब होना भी नहीं चाहिए।


बीजेपी के पीएम पद के उम्मीदवार नरेंद्र मोदी की रैलियां इन दिनों चर्चा में है, उनक विकास के मॉडल को भारत का भविष्य बताने का अभियान जोरों पर है, लेकिन प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह की नजर में मोदी का प्रधानमंत्री बनना देश के लिए घातक होगा। दिल्ली में हुई एक अहम प्रेस कॉन्फ्रेंस में उन्होंने मोदी की प्रशासनिक क्षमता और दक्षता को गुजरात दंगों की कसौटी पर कसा।


मनमोहन सिंह ने भरोसा जताया कि तमाम आशंकाओं को गलत साबित करते हुए 2014 के आम चुनाव के बाद भी यूपीए का ही प्रधानमंत्री बनेगा। लेकिन वह खुद इस रेस में नहीं हैं। प्रधानमंत्री पद के लिए राहुल गांधी बिल्कुल सही व्यक्ति हैं। मनमोहन सिंह के मुताबिक बतौर प्रधानमंत्री उनके कार्यकाल की सबसे चमकदार उपलब्धि अमेरिका के साथ हुआ परमाणु करार है। उन्होंने माना कि महंगाई, भ्रष्टाचार और रोजगार के मोर्चे पर वे कामयाब नहीं हो पाए।


प्रधानमंत्री ने कहा कि हालिया चुनाव में महंगाई की वजह से कांग्रेस को नाकामी मिली, लेकिन इसके लिए तमाम राष्ट्रीय-अंतर्राष्ट्रीय कारण जिम्मेदार है। भ्रष्टाचार बड़ी समस्या है, लेकिन इसके खिलाफ माहौल बनाने में आरटीआई जैसे अधिकार ने अहम भूमिका निभाई जो यूपीए की देन है। उन्होंने कहा कि उन्होंने पूरी ईमानदारी से देश की सेवा की और अपने दोस्तों और रिश्तेदारों को कोई फायदा नहीं पहुंचाया।


बतौर प्रधानमंत्री लगभग 10 साल के कार्यकाल ये तीसरा संवाददाता सम्मेलन था जिसमें मनमोहन सिंह ने खुलकर अपनी बात रखी। इस दौरान उन्होंने ये भी साफ किया कि उनसे इस्तीफा देने के लिए कभी नहीं कहा गया। यही नहीं, सरकार के कामकाज में सोनिया और राहुल गांधी के कथित हस्तक्षेप से उन्हें कोई परेशानी नहीं हुई। उल्टे इससे कामकाज बेहतर बनाने में मदद मिली। आईबीएन7 के खास कार्यक्रम एजेंडा में इसी मुद्दे पर चर्चा में शामिल थे केंद्रीय मंत्री हरीश रावत, बीजेपी के सुधांशु त्रिवेदी, आम आदमी पार्टी के प्रशांत भूषण, संघ के विचारक राकेश सिन्हा और वरिष्ठ पत्रकार राहुल देव।



गौरतलब है कि अमेरिकी विदेश नीति के विशेषज्ञ भी अब अरविंद केजरीवाल के विश्वभर के सौ चुनिंदा विचारकों में मानते हैं जैसे वे अब तक डा. मनमोहन के अर्थसास्त्र की तारीफ करते अघाते नहीं है।कामरेड कारत के वक्तव्य के आलोक में अमेरिकी वक्तव्य बेहद प्रासंगिक है।आम आदमी पार्टी (आप) के संस्थापक अरविन्द केजरीवाल अमेरिकी पत्रिका फॉरेन पॉलिसी के वर्ष 2013 के 100 शीर्ष वैश्विक विचारकों में शामिल हैं। इस सूची में उन लोगों को शामिल किया गया है जिन्होंने दुनिया में 'अहम अंतर' लाने में योगदान दिया और ''असंभव की सीमा को पीछे धकेल दिया।''

उर्वशी बुटालिया और कविता कृष्णन जैसी कार्यकर्ताओं ने भी इस सूची में जगह हासिल की है जिसमें पहला स्थान अमेरिकी खुफिया सूचनाओं का खुलासा करने वाले एडवर्ड स्नोडन को मिला है।


45 वर्षीय केजरीवाल को सूची में 32वां स्थान मिला है। उन्हें वैश्विक विचारक माना गया है क्योंकि उन्होंने भारत की राजधानी में भ्रष्टाचार को हटाने के लिए एक अभियान का नेतृत्व किया और देश का ''संभ्रांत'' वर्ग की चिंता का कारण बने।


पत्रिका के अनुसार केजरीवाल ''एक क्रांति को हवा दे रहे हैं'' वह नई दिल्ली को भ्रष्टाचार से मुक्ति दिलाने के लिए एक प्रभावशाली अभियान का नेतृत्व कर रहे हैं और जनता की जरूरतों की तरफ सरकार का ध्यान दोबारा आकर्षित कर रहे हैं।


सूची में बुटालिया और कृष्णन दोनों ही 77वें स्थान पर हैं।


पत्रिका के अनुसार दोनों ''ना केवल विचारशील कार्यकर्ता हैं बल्कि दोनों भारत में यौन हिंसा की समस्या के खिलाफ खड़े अगुआ विरोधियों में से हैं।''


सूची में शामिल अन्य भारतीयों में स्वास्थ्य अधिकार को लेकर संयुक्त राष्ट्र के विशेष दूत आनंद ग्रोवर, गिवडायरेक्टली नाम के गैर सरकारी संगठन के सह संस्थापक रोहित वांचू, स्टैनफोर्ड विश्वविद्यालय में महामारी विशेषज्ञ एवं चिकित्सक संजय बसु और ऑनलाइन संगठन एजेंलिस्ट के सह संस्थापक नवल रविकांत के नाम हैं।


सूची में अमेरिकी विदेश मंत्री जॉन केरी, रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन, जापानी प्रधानमंत्री शिंजो अबे, फेसबुक के संस्थापक मार्क जुकरबर्ग और अमेरिकी मानवाधिकार उच्चायुक्त नवी पिल्लई के नाम भी शामिल हैं।


कामरेड कारत के बयान के मुताबिक इस पर जरुर गौर करें कि आम आदमी पार्टी ने तय किया है कि वो 2014 के लोकसभा चुनाव में 300 सीटों पर चुनाव लड़ेगी। यही नहीं, पार्टी के धुरंधर वक्ता कुमार विश्वास ने तो अमेठी से राहुल गांधी के खिलाफ चुनाव लड़ने की इच्छा भी जाहिर कर दी है। इस बीच वामपंथी खेमा भी आम आदमी पार्टी की शक्ल में गैर भाजपाई-गैर कांग्रेसी मुहिम को आगे बढ़ते देख रहा है। प्रकाश करात ने आप को एक अच्छा विकल्प बताया है। जबकि जानकार बीजेपी की उम्मीदों पर पानी फिरता देख रहे हैं। उनका मानना है कि नरेंद्र मोदी से जो माहौल बना था उसकी हवा केजरीवाल ही निकालेंगे।


दरअसल कांग्रेस विधान सभा चुनावों की हार से हताश है। बीजेपी मोदी लहर की उम्मीदों पर सवार है। लेकिन दिल्ली में जिस तरह खेल खराब हुआ पार्टी उससे सकते में है। इस बीच आम आदमी पार्टी ने ये ऐलान कर उसकी चिंता और बढ़ा दी है कि 2014 के लोकसभा चुनाव में 300 सीटों पर लड़ने की तैयारी है। कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी के खिलाफ तो पार्टी के युवा नेता कुमार विश्वास को उतारने की तैयारी है।


अब तक आम आदमी पार्टी को हल्के में ले रही पार्टियां भी अब गंभीर दिख रही हैं। अब तक का सबसे गंभीर बयान वामपंथी खेमे से आया है। प्रकाश करात ने इसे गैर कांग्रेसी-गैर भाजपाई विकल्प की तरह देखा है। वो कहते हैं कि दिल्ली में कांग्रेस के खिलाफ लड़कर आप ने जो परिणाम दिए हैं वो अच्छे हैं। कांग्रेस के खिलाफ जनता में रुझान है। एक विकल्प मिल सकता है जो गैर-भाजपा और गैर-कांग्रेस मुहिम हो।


अब तक कांग्रेस के खिलाफ बने माहौल को बीजेपी अपने पक्ष में जाता देख रही थी। इस माहौल को भुनाने के लिए उसके पास मोदी जैसा मजबूत उम्मीदवार था। लेकिन दिल्ली में आप की सरकार बनने के बाद भाजपा की बेचैनी बढ़ गई है। कांग्रेस और आम आदमी पार्टी में डील वाले नितिन गडकरी के बयान को उसकी हताशा का नतीजा माना जा रहा है। राज्यसभा सांसद मोहम्मद अदीब कहते हैं कि सबसे ज़्यादा परेशानी भाजपा को है। भाजपा का सारा अरविंद केजरीवाल से खत्म हो गया है।


सियासी पंडितों का तो यहां तक मानना है कि 2014 में अपनी हार तय मान कर कांग्रेस अब आप को आगे बढ़ाने में लगी है। पार्टी के कई नेता की राय है कि नरेंद्र मोदी को किसी भी हाल में प्रधानमंत्री बनने से रोका जाए। अगर मोदी के सामने केजरीवाल जैसा चेहरा होगा तो भ्रष्टाचार और महंगाई के मारे मध्यवर्ग का वोट बंटेगा। ऐसे में बीजेपी के सत्ता में आने की संभावना क्षीण होगा। दिल्ली में आम आदमी सरकार को खड़ा करने के पीछे यही दूरगामी रणनीति है।

आईबीएन7 के खास कार्यक्रम एजेंडा में इसी मुद्दे पर चर्चा में शामिल थे बीजेपी नेता और राज्यसभा में उपनेता विपक्ष रविशंकर प्रसाद, कांग्रेस नेता अभिषेक मनु सिंघवी, आम आदमी पार्टी के संजय सिंह, सीनएबीसी आवाज के संपादक संजय पुगलिया और आईबीएन7 के एडिटर इन चीफ राजदीप सरदेसाई।


आदरणीय एच एल दुसाध जी ने लिखा हैः

पलाश दा प्रकाश करत का इस प्रकार 'आप' से विमुग्ध होना कोई अस्वाभाविक बात नहीं है.आप की तरह मार्क्सवादी दल भी भारतीय लोकतंत्र के ध्वंस के लिए प्रयत्नशील रहे हैं.आप की भांति ही मार्क्सवादी भी लम्बे समय से आरक्षण  के विरोधी रहे हैं.आप जिस तरह भ्रष्टाचार के खात्मे की आड़ में सवर्ण हित पोषण की पर्क्ल्पना की है ,वैसे सवर्ण मार्क्सवाद का मुखौटा लगाकर सवर्ण हित साधते रहे हैं.ऐसे में संभव है कि मार्क्सवादियों का आप के साथ संयुक्त मोर्चा बन जाए.लम्बे समय से प्रतिक्रियावादी दल मार्क्सवादियों से मेल कर अपनी छवि सुधारने की जुगत भिड़ाते रहे हैं.मुमकिन है कि केजरीवाल भी वह इतिहास दोहरा दें.


Aam Aadmi Party

3 hours ago

"There's a lot of controversy about my new house...I have received phone calls from friends and well-wishers. So I have decided not to move to the new house. I will ask for another smaller house. Like Caesar's wife we have to be above suspicion and we have to subject ourselves to scrutiny," Arvind Kejriwal.


||

अरविंद केजरीवाल ने आम लोगों की इच्छा के मुताबिक एक और फैसला लेते हुए डुप्लेक्स घर लेने से इनकार कर दिया है. केजरीवाल ने आज सुबह साफ कर दिया कि वह भगवान दास रोड पर बना डुप्लेक्स घर नहीं लेंगे. — with Aman Jha and 10 others.

1,220Like ·  · Share

TaraChandra Tripathi

अरविन्द जी, सत्ता बचाने के चक्कर में यदि 'आप' समझौते करती गयी, तो वह दूसरी कांग्रेस बन जायेगी. याद रखें सता किसी भी 'बापू' को आसाराम बापू बनाने का मौका नहीं छोड़्ती.

Like ·  · Share · 5 hours ago ·


Yashwant Singh

चलिए, हमारे आपके दबाव में केजरीवाल को अकल आ गई... दोस्तों, सच्चा पत्रकार वही होता है जो अच्छाई की बिना किसी लालसा तारीफ करे और बिना किसी भय बुराई को कोसे... उम्मीद करते हैं कि केजरीवाल कम से कम उन बातों वादों से तो नहीं हटेंगे, खिसकेंगे, बदलेंगे जो उन्होंने जनता के सामने लिखित में कही है... उसी में से सरकारी घर और सरकारी गाड़ी न लेने का वादा था... अगर केजरीवाल में सचमुच एक गांधी होता तो वह यह सोचता ही नहीं कि उसे सरकारी बंगला चाहिए... इतनी फजीहत कराने के बाद बंगला न लेने या छोटा बंगला लेने का फैसला लेना केजरीवाल को हास्यास्पद बना देता है... भाजपा वालों ने विश्वासमत के दिन ही विधानसभा में बता दिया था कि ये केजरीवाल सरकारी घर लेने को ओके कर चुका है.. पर मुझे तब विश्वास नहीं हुआ... लेकिन कल ज्योंही पता चला कि केजरीवाल भाई साहब सच में सरकारी घर लेने वाले हैं तो झटका सा लगा.. मैं फिर कह रहा हूं कि केजरीवाल को अपने चंदों से एक किराए पर घर ले लेना चाहिए और उसमें रहकर काम करना चाहिए... शुरुआती दो चार दिन अपनी कार, छोटी कार, अपने घर, मेट्रो आदि का ड्रामा करके प्रचार वाह वाह पाने वाले केजरीवाल एंड कंपनी की पोल इतनी जल्दी खुल जाएगी, मुझे अंदाजा नहीं था.. मेरे तो सच में कान खड़े हो गए हैं..

Like ·  · Share · 21 minutes ago ·

Ak Pankaj

आज रात से चार दिनों की यात्रा शुरू हो रही है. पहला पड़ाव जामताड़ा में है. जहां 50 के दशक के एक गुमनाम पर बिहार-झारखंड के महत्वपूर्ण लेखक से मुलाकात होगी. जिन्होंने हिंदी साहित्य के विकास के शुरुआती दौर में आदिवासी जीवन पर तीन उपन्यास लिखे हैं और ढेरों कहानियां. 50-60 के लगभग सभी उल्लेखनी साहित्यिक पत्रिकाओं में उनकी कहानियां छपी हैं. पर बिहार-झारखंड ही नहीं देश के हिंदी साहित्य इतिहास में उन्हें एकसिरे से गायब कर दिया गया है.


हमें पूरा यकीन है कि इस यात्रा के बाद हिंदी साहित्य के इतिहास में आदिवासियों और झारखंड के मूलवासियों की जानबूझकर की गई बेदखली से परदा उठ सकेगा. बिहार-झारखंड के हिंदी साहित्य का इतिहास थोड़ा दुरूस्त हो सकेगा. हमारी इस यात्रा में भाई Vijay Gupta दस्तावेजीकरण में सहयोगी रहेंगे और पटना में जुड़ जाएंगे साथी Arun Narayan. उम्मीद तो Bidesia Rang के भी साथ होने की कर रहा हूं.


अफसोस है! यह यात्रा ऐसे समय में हो रही है जब बड़े भाई Dhruv Gupt पटना में नहीं हैं. उनसे न मिल पाने का मलाल रहेगा. और यदि भाई Parvez Akhtar, हसन इमाम व Anish Ankur से मिलना हो जाए तो मजा आ जाए.

Like ·  · Share · 18 minutes ago ·


Mohan Shrotriya and Himanshu Kumar shared a link.

Akhilesh Yadav upset with NDTV over Muzaffarnagar coverage

ndtv.com

Akhilesh Yadav, the chief minister of Uttar Pradesh, nettled by a series of NDTV reports on the pathetic living conditions in Muzaffarnagar's relief camps, today said at a press conference in Lucknow that he would not take any questions from me. (Read more)

  • Mohan Shrotriya via Himanshu Kumar
  • Himanshu Kumar :

  • सरकार ने दंगा भड़काने वाले खाप पंचायतों के चौधरियों पर से मुकदमे हटाने का फैसला ले लिया है .

  • इधर दंगे में जिनके घर जल गए उन गरीब मुसलमानों को वही सरकार डंडे के जोर पर राहत शिविरों से भगा रही है ....See More

  • Like ·  · Share · about a minute ago ·


चन्द्रशेखर करगेती

कैसे-कैसे लोग ?


अब केजरीवाल द्वारा सुविधाएं लेने पर सवाल उठ रहे हैं, हद्द है बेईमानी और पूर्वाग्रह की ? ये हिंदुस्तान के दकियानूसी मन की पुरानी चालाकी है, सज्जन को सज्जन बने रहने के लिए इतनी कठोर शर्तं थोप दी जाती हैं की वो सज्जन होने के आलावा बाकी कुछ ना कर पाए l अगर कोई भला आदमी एक जून की रोटी खाकर चंद चीथड़े ओढ़कर जीने लगे तो हम वाह वाह करते हैं लेकिन वही एक बड़ी जिम्मेदारी निभाने की तैयारी में संविधान या क़ानून स्वीकृत कुछ सुविधा लेने लगे तो हमारी सज्जनता की परिभाषा को तकलीफ होने लगती है !


ये अजीब हालत है ...


हमने कभी नेताओं के अरबों के खर्च पर व्यापक बहस नहीं की ?


हमने कभी राजनैतिक पार्टियों को मिलने वाले गुप्त चंदे पर चर्चा नहीं की ?


हमने कभी लोकसभा-विधानसभा चुनाव में उम्मीदवारों द्वारा खर्च किये जाने वाले अथाह धन के स्रोत पर चर्चा नहीं की, उसे कभी मुद्दा नहीं बनाया ?


हमने कभी भी खनिज घोटालों पर आँख टेढ़ी नहीं की ?


हर नेता हेलिकोप्टर कैसे जुगाड़ लेता करता है या उसकी "सुरक्षा" में लगी सैकड़ों कारों का या रैली का खर्चा कौन देता है - इस पर कभी हमने बात नहीं की ?


लेकिन केजरीवाल और उनके साथी एक 5 बेडरूम का फ्लेट ले ले (जिसे बंगला कह प्रचारित किया जा रहा),एक इनोवा कार लें लें, तो सब को कष्ट होता है... ऐसा क्यों ?


शायद यही पुरानी बीमारी है जो भारतीय मन में घुसी हुई है, हम सर्वत्यागी राम और महाभोगी कृष्ण और निर्लिप्त शिव तीनों को स्वीकार तो करते हैं लेकिन उन तीनों की भूमिकाएं कब और कैसे बदलती हैं ये नहीं समझना चाहते l


इन तुलना करने वालों की दिल की बात सुने तो इनके हिसाब से हर इमानदार आदमी को सर्दी खांसी या मलेरिया से या भूख से मर जाना चाहिए ? फिर ये ही लोग उन सज्जनों की कब्र/समाधि पर सबसे पहले फूल माला लेकर पहुंचेंगे, ये बहुत दुःख की बात है कि हम सब सामूहिक रूप से अपने सज्जनों के जीवन की बजाय उनकी तकलीफों या मृत्यु में ज्यादा रूचि लेते हैं !


अब समझ में आ रहा है कि देश में जब कभी भी आम लोगो के हक की बात की जाती थी, तो यही वह वर्ग था, जिसने उसके हक की आवाज को दबाया था,और वे लोग आज भी वही काम कर रहें है...


जागो भाई पूर्वाग्रह त्यागो, कहीं ऐसा ना हो कि अबकी वही जनता लठ्ठ लिए तुम्हारे द्वार पर ही स्वागत को खड़ी हो !


साभार पोस्ट : संजय जोठे

Like ·  · Share · 7 hours ago · Edited ·

  • Rajiv Nayan Bahuguna, Umesh Tiwari, Bhaskar Upreti and 49 others like this.

  • 3 shares

  • 4 of 53

  • View previous comments

  • Kailash Rawat Kargeti g Aap ke tikat par chunav lad rahe ho kya

  • 2 hours ago via mobile · Like

  • Manish Pandey चाइना गेट मे एक डाईलोग है

  • "जगीर सेठ मुझसे लड़ने के लिए तुम हिम्मत

  • तो जुटा सकते हों , लेकिन मेरे जैसा कमीनापन

  • दिल कहा से लाओगे ?" यही आज की राजनीती की वास्तविकता है " आप "वालो इन कमीनो से लड़ने के लिए कमीनापन कहा से लाओगे

  • about an hour ago · Like

  • रवि ओझा अरे मिस्टर इन सवालो का जिम्मेदार केजरीवाल ही है ,क्या जरूरत थी पहले इतना फन्ने खां बनने की ,खुद ही उसने कहा था मै ये नही लूँगा वो नही लूँगा ये नही करूंगा वो नही करूंगा , भूल गये क्या ?????

  • about an hour ago via mobile · Like

  • Ajay Kanyal हमे लगा कि आमजन तक ताकत का हस्तांतरण होगा और स्थानीय मुद्दों पर जनता स्वयं निर्णय लेगी । जनता को गोदी में उठा कर खिलाने से देश मजबूत बनेगा ? ये आम लोग हैं कौन जो रोजगार और महँगाई से ज्यादा पानी बिजली चाहते हैं ।

  • about an hour ago · Like

Mohan Shrotriya

***अन्ना की गुहार***


यह तो खूब ही रही !


अन्ना ने भाजपा अध्यक्ष को पत्र लिखकर शिकायत की है कि हरियाणा में उनकी पार्टी का एक प्रभावशाली नेता गुडगांव में उनकी (अन्ना की) मूर्ति लगाने का विरोध कर रहा है.


अन्ना ने राजनाथ सिंह से आग्रह किया है कि वह अड़चनें खड़ी करने वाले नेता को पाबंद करें !


इसे पढ़कर भी नहीं कहेंगे क्या कि यह तो हद ही हो गई !

Like ·  · Share · 5 hours ago near Jaipur ·

विनोद भगत

नमस्कार दोस्तों , हम तो आप में शामिल हो रहे हैं और आपका क्या विचार है ?

Like ·  · Share · 11 minutes ago ·

Our Uttarakhand

सबसे बड़ी खबर ......

Like ·  · Share · 4 hours ago ·


Economic and Political Weekly

All the dalits actively protesting against the humiliation of Devyani Khobragade through email and social media campaigns would not have even heard of Soni Sori, let alone what the Chhattisgarh police did to her. But isn't Sori a member of their class, the class of the exploited?


Anand Teltumbde writes in EPW: http://www.epw.in/margin-speak/humiliation-class-matters-too.html

Dilip C Mandal

नई भीड़ देखते ही कुछ लोगों को लाल-लाल दिखने लगता है. चाहे वह भीड़ 'नीचे केजरी-ऊपर मोदी' वाली ही क्यों न हो.

Like ·  · Share · 2 hours ago ·

  • Ajit Rai, Ramchandra Gadhveer, Kedar Kumar Mandal and 49 others like this.

  • 1 share

  • View 4 more comments

  • Shyam Kumar लाल लाल चिल्लाने वालों को स्ट्रक्चर,सुपर स्ट्रक्चर, इन्फ्रास्ट्रक्चर के बाहर कुछ सोचने को मिला है,,,, नये हमले ने उनकी हेकड़ी बन्द कर दी

  • 2 hours ago via mobile · Like · 1

  • Satyendra Pratap Singh लाल के बारे में कुछ कहना उचित नहीं। विलुप्तप्राय प्रजाति कहीं न कही आश्रय लेगी ही।

  • 2 hours ago via mobile · Like · 2

  • Mahesh Rathi 'नीचे केजरी-ऊपर मोदी' वाली ही क्यों न हो !

  • 31 minutes ago · Like · 1

  • H L Dusadh Dusadh सत्येन्द्र जी मीठी छुरी चलाने में आपका जवाब नहीं.मार्क्सवादियों के विषय में आपकी टिपण्णी इसकी मिसाल है.

  • 25 minutes ago · Like

Bodhi Sattva

अपनी ही एक कविता


तमाशा

__________


तमाशा हो रहा है

और हम ताली बजा रहे हैं


मदारी

पैसे से पैसा बना रहा है

हम ताली बजा रहे हैं


मदारी साँप को

दूध पिला रहा हैं

हम ताली बजा रहे हैं


मदारी हमारा लिंग बदल रहा है

हम ताली बजा रहे हैं


अपने जमूरे का गला काट कर

मदारी कह रहा है-

'ताली बजाओ जोर से'

और हम ताली बजा रहे हैं।

The Economic Times

Successful GSLV launch on Sunday important for ISRO5

http://ow.ly/sgijo

Like ·  · Share · 51015105 · 3 hours ago ·

Navbharat Times Online

सीएम के बाद केजरीवाल को पीएम बनाना चाहती है 'आप'


'आप' ने साफ कर दिया है कि उसका अगला टारगेट दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को देश का प्रधानमंत्री बनाना है। क्या आप भी चाहते हैं केजरीवाल बनें पीएम? खबर पढ़ें और कॉमेंट कर अपनी राय दें...


खबर- http://navbharattimes.indiatimes.com/india/national-india/aap-to-release-first-list-of-lok-sabha-candidates-within-two-weeks/articleshow/28371878.cms

Like ·  · Share · 56031019 · 11 minutes ago ·

Aalok Shrivastav

ll नया साल ll

Like ·  · Share · December 31, 2013 at 9:25pm ·

Satya Narayan likes an article.

साम्प्रदायिक दंगे और उनका इलाज

ahwanmag.com

agadishwar Chaturvedi

अरविंद केजरीवाल को जानना और समझना होगा कि सही राजनीतिक विचारधारा के अभाव में नैतिकता अल्पजीवी होती है ।

Like ·  · Share · 4 hours ago ·

The Economic Times

Petrol price hiked by 91 paise/litre, diesel by 56 paise http://ow.ly/sg74K

Like ·  · Share · 56438244 · 8 hours ago ·

Bhaskar Upreti shared a link.

किरण बेदी और हेगड़े 14 जनवरी को बीजेपी में होंगे शामिल!

newshunt.com

Source: दैनिक भास्कर- - (4 Jan) गुड़गांव/नई दिल्ली. सामाजिक कार्यकर्ता अन्ना हजारे की करीबी किरण बेदी और संतोष हेगड़े समेत टीम अन्ना के कई सदस्यों के बीजेपी में शामिल होने की अटकल है। हालांकि, इस खबर की औपचारिक पुष्टि

Like ·  · Share · about an hour ago via NewsHunt : India News | Jobs ·

Sanjay Kumar

एक और चौकाने वाल फैसला ...............


अमौसी नरसंहार मामले मे सजा पाये सभी 14 उच्च न्यायालय से बरी


पटना . पटना उच्च न्यायालय ने बिहार के चर्चित अमौसी नरसंहार के मामले मे निचली अदालत से फांसी की सजा मिले दस लोगो और आजीवन कारावास की सजा पाये चार लोगो को आज बरी कर दिया है . न्यायमूर्ति वी.एन. सिन्हा और न्यायमूर्ति आर.के. मिश्रा की खंडपीठ ने दोनो पक्षो की दलीले सुनने के बाद अमौसी नरसंहार मामले मे निचली अदालत से सजा पाये सभी 14अभियुक्तो को संदेह का लाभ देते हुए बरी करने का आदेश दिया . खगडि़या जिले के अमौसी मे एक अक्टूबर 2009 को पांच बच्चे समेत 16 लोगो की गोली मारकर हत्या कर दी गयी थी। खगडि़या के जिला एवं सत्र न्यायाधीश चंद्रभूषण दूबे ने इस मामले मे आठ फरवरी 2012 को दस लोगो को फांसी की सजा और चार अन्य लोगो को आजीवन कारावास की सजा सुनायी थी।

Like ·  · Share · 20 hours ago near Patna · Edited ·

Ashok Dusadh

उल्लू बनाया ,बड़ा मजा आया !

जब भी मुस्कराकर/हंसकर अरविन्द केजरीवाल बाईट देते हैं तो ऐसा ही लगता है !

Like ·  · Share · 6 hours ago · Edited ·

Prakash K Ray

Arvind Kejriwal और Aam Aadmi Party के मंत्रियों को सरकारी आवास लेने चाहिए. कुछ कमरे निजी इस्तेमाल के लिए रखकर बाक़ी कार्यालय आदि के लिए काम में लाये जाएँ. विरोधी हर तरह का तमाशा खड़ा करेंगे. उनपर ध्यान नहीं देकर सरकार और को मुद्दों पर तेज़ी से काम करना चाहिए. समय कम है. बहुत जल्दी आम चुनावों की घोषणा के साथ आचार-संहिता लागू हो जायेगी. तब नई घोषणाएँ नहीं कर पाएंगे. साथ ही, आम चुनावों पर भी काम होना है. बड़ी पार्टियाँ नखरे मचाएंगी. उनसे तो सिर्फ़ यह पूछना है कि न्यायालय के निर्णय का सम्मान करते हुए वे कब तक आधिकारिक बंगलों में से अपना-अपना पार्टी दफ्तर हटाएंगी?

Like ·  · Share · 4 hours ago near New Delhi ·

  • Arun Dev, Shree Prakash, Sachin Kumar Jain and 26 others like this.

  • View 12 more comments

  • Tej Thakur App is making houses,cars issues,who is stoping them in takeing these,but porform by this u will pro

  • 3 hours ago via mobile · Like

  • Tej Thakur u will prove,do not create drama by saying janta ko puchha,take decsions on ur own for which ur elec

  • 3 hours ago via mobile · Like

  • Shishir Tiwari Sadagi ka tamasha.

  • 2 hours ago · Like

  • Nidhi Singh क्या फर्क पड़ता है कि वो कितने बड़े घर में रहते हैं, कहाँ रहते हैं, फर्क तो ये पड़ता है कि वो काम कितना बड़ा करते हैं। लेकिन एक बात समझ नहीं आयी कि ये मिडिया के पास और कोई न्यूज़ नही है जो केजरीवाल के घर को लेकर इतना तमाशा कर रही है???

  • 2 hours ago · Like

Sudha Raje

अब ये तो हद हो गयी!!!!!


एक आम आदमी मिनिस्टर होकर जीवन में निजी तौर पर तो सरल रह सकता है किंतु ।


हजारों लोग दिन भर मिलने तो आयेंगे?


गाङियाँ और बैठकें भी भीङ करेगी


कौशांबी के साधारण घर में बुजुर्ग माँ पिता किशोर बच्चों और पत्नी तथा परिजनों को जरा भी प्रायवेसी नहीं रहेगी ।


सामाजिक जीवन


का एक पहलू ये जरूरी परिसर और दफतर है ।


प्रशासनिक कार्यों की गोपनीयता ।

जनसरोकारी बैठकें

और मुलाकातें


तो हाय हाय क्यों??


जब कोई ऑफिसर रिटायर होता है सरकारी बंगला त्यागकर गांव लौट जाता है ।


लेकिन


सरकारी भीङ ड्यूटी पब्लिक दरबार को तो जगह चाहिये


चाहे कलेक्टर हो या ।

प्रधानमंत्री ।


दिल्ली की डेढ़ करोङ जनता को मिलने और सँभालने के लिये कम से कम पाँच सौ आदमी प्रतिदिन मुलाकात की जगह तो चाहिये न?


हद भी है


बुंदेली में कहावत है ""कणवा अपनौ टैंट निहारत नईयाँ पराई फुल्ली पर परकें हेरत ""

@सुधा राजे

Like ·  · Share · 20 hours ago · Edited ·

Jagadishwar Chaturvedi

दिल्लीवालों को आप पार्टी ने पानी मुफ़्त देकर अपने साथ कर लिया ! देखना है हरियाणा को केजरीवाल क्या देंगे ? फ़्री दूध या खाद ? या फ़्री दाल- दारु -दाना!!

Like ·  · Share · 17 hours ago · Edited ·

Jagadishwar Chaturvedi

राजनीति फ़िलहाल जिस जगह पर पहुँच गयी है वहाँ नैतिकता ,मान-मर्यादा , स्वाभिमान आदि का कोई मूल्य नहीं है , नेता से जानता माँग कर रही है और नेता मांगपूर्ति में लगे हैं । मांगपूर्ति का धंधा जब राजनीति में होने लगे सोचो राजनीति वेश्या हो गई है । सवाल यह है कि क्या नेता माँग पूर्ति के फ़्रेमवर्क के बाहर निकलकर देखने और जनता को समझाने के लिए तैयार हैं ?

Like ·  · Share · 3 hours ago ·

ibnlive.com

Yesterday, Arvind Kejriwal had to justify his majority to the house.

Today, he has to justify his house to the majority.


And 12 other ‪#‎ArvindKejriwal‬ jokes you mustn't miss

The 13 Arvind Kejriwal jokes on Twitter you absolutely shouldn't miss

ibnlive.in.com

Kejriwal soon backtracked and refused to occupy the new house. But not before these Twitter users got in a potshot or two at his expense.

Like ·  · Share · 4527233 · about an hour ago ·

Economic and Political Weekly

"Nothing regarding the arrest of Devyani Khobragade, then deputy consul general at India's New York consulate, and the reaction to it inspires confidence about public affairs in the United States and in India. If the manner in which she was arrested and subjected to various indignities – handcuffing, strip searches, body cavity searches – could have been avoided considering her position and the nature of her alleged "crime", the reactions to this incident have also been strident, betraying a sense of misplaced nationalism on the part of the Indian political establishment..."


EPW edit on the Khobragade affair: http://www.epw.in/editorials/crass-decision.html

Like ·  · Share · 3154 · 3 hours ago ·

Prabhat Mathpal

केजरीवाल ने किया जनता को गुमराह | कथनी और करनी मे फ़र्क है भाई .

आप जेसे नेता जय प्रकाश नारायण भी रहे हैं पर वे बहूत इमानदार थे .

Like ·  · Share · about an hour ago ·

24 Ghanta

সুচিত্রা সেনের শারীরিক অবস্থার কিছুটা উন্নতি হয়েছে। গতকালের তুলনায় ভাল আছেন মহানায়িকা। তবে এখনও অক্সিজেন দেওয়া হচ্ছে তাঁকে। সকালে প্রাতরাশ করেছেন মহানায়িকা। ফিজিওথেরাপিও করানো হচ্ছে তাঁকে। দুপুর একটার মেডিকেল বুলেটিনে একথা জানানো হয়েছে। গতকালের তুলনায় মহানায়িকার হৃদস্পন্দন নিয়মিত রয়েছে। তবে এখনও ফুসফুসে সংক্রমণ থাকায় মেডিকেল বোর্ডে আনা হয়েছে দুজন চেস্ট স্পেশ্যালিস্টকে।


http://zeenews.india.com/bengali/kolkata/veteran-actress-suchitra-sen-on-ventilator-support-live-update-of-her-meical-health_19103.html

Like ·  · Share · 2391719 · about an hour ago ·

Sudin Chattopadhyay with Mohsin Chowdhury and 16 others

My first book purchase of the New Year -2014

An absorbing & highly readable book...own story of a sixteen year old girl who made an extra ordinary journey from a remote valley in northern Pakistan to the halls of the United Nations in New York..she has become a global symbol against Talibani Terrorism ......

Like ·  · Share · 4 hours ago ·

The Economic Times

Online shopping is a lonely experience. InstaClique, a year-old startup, has developed technology that allows those browsing for smart buys online to compare and check notes with friends before making a purchase. Read more at http://ow.ly/serPu

Like ·  · Share · 138518 · 20 hours ago ·

Economic and Political Weekly

The entire issue of Economic and Political Weekly has been uploaded online.


Read: http://www.epw.in/

Like ·  · Share · 472 · 4 hours ago ·

Gopikanta Ghosh likes an article on Indiatimes.

He does not deserve any respect. I repent respecting him so long

Anna seeks Rajnath's help in installing own statue - The Times of India

Indiatimes

Anna Hazare has written a letter to BJP chief Rajnath Singh, complaining that a leader of his party from Haryana was creating hurdles in the installation of his statue in Gurgaon.

Like ·  · Share · 23 minutes ago via Indiatimes ·


Navbharat Times Online

आम आदमी पार्टी की पॉलिटिक्स और दिल्ली के सीएम केजरीवाल के नक्शे कदम पर चलते हुए राजस्थान की मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने भी यह खास कदम उठायाhttp://nbt.in/7nN0eb

Like ·  · Share · 7727859 · 33 minutes ago ·

Tehelka

Why I'm not a part of the Aam Aadmi Party


The central issue for our society is inequality, not just corruption, feels Sandeep Pandey | http://bit.ly/1hcQfcd

Like ·  · Share · 624 · 23 minutes ago ·

Mohsin Chowdhury with Mafruha Zaman and 47 others

( ভুলে যাইনি সেইসব দিনগুলি)

আওয়ামীলীগের আন্দোলল ছিল এরকম রাজপথে নিবেদিত ভাবে, বি এন পির মত ঘরে বসে নয়।

Like ·  · Share · 5 hours ago near Tarabania, Bangladesh ·




  • Dilip Kumar Gain -पूरा भारत दिल्ली मे निवास करता है ,

  • इसलिए

  • दिल्ली मे जो हो रहा है उसका असर हम सब

  • पर पड़ेगा

  • 2-चुनाव सिर्फ दिल्ली में हुए हैं , राजस्थान

  • MP और छत्तीसगढ़ में नही

  • 3-आप को पूर्ण बहुमत मिला है , बाकी 3

  • राज्यों में BJP ने

  • कांग्रेस के साथ सरकार बनाई है

  • 4- 70 में से 62 सीट लाने के बावजूद केजरीवाल

  • को कांग्रेस के साथ सरकार बनानी पड़ी

  • 5-ईमानदार सिर्फ ए के सर हैं , मनोहर

  • पारिकर तो युगांडा के

  • किसी राज्य के मुख्यमंत्री हैं

  • 6-अरविन्द सर् इतने मितव्ययी हैं

  • कि वो भयंकर सर्दी मे भी बिना जूतों के पैदल ही सफ़र करते हैं

  • 7-बिजली सस्ती हुई है दिल्ली में , मगर

  • गोवा में पेट्रोल

  • सस्ता नही हुआ

  • 8-दिल्ली में 34 लाख में से 4 लाख

  • घरों को पानी मिला मगर BJP शासित राज्यों में लोग शायद

  • वाष्पन की क्रिया से पानी प्रयोग में लाते हैं

  • 9-BJP शायद ए के सर की सरकार गिरा देगी .

  • क्यूंकि विपक्ष अगर अपना समर्थन खीच ले

  • तो सरकार

  • गिर जाती है 10-गुजरात पहले से विकसित राज्य था ,

  • मोदी ने कुछ

  • नही किआ किन्तु दिल्ली एक बीमारू

  • क्षेत्र

  • था जिसको ए के सर दो दिन मे ही इतने ऊपर

  • लाये उपरोक्त तथ्य ए के सर और News Channels ने हमें

  • दिखा दिए हैं ...

  • Like · 1 · about an hour ago

  • Ajinkya Khollam thes all are paid news channel,no dought he is doing xcellent,they (media) are hilighting kejriwaal somelike this ,,(kejriwaal subah 5 baje uthe, ye kiya,wo kiya, bahar nikle ,gamcha pehna, station gaye,metro aai, metro me chade,...n bla bla bla... but this media disappointed 2 BJP CMs of Goa n Chg,let me tell these cm also bont uses LAL BATTI n react like a AAM aadmi ,but what kejriwal is doing ,he informs media first that I m gong 2 do this, (metro/lal batti/wagon r) ,n dear do u know the school fees of his childrn...? in lacs.... ok tell me... before the elections kejriwal was saying his govt will investigate corruption of shiela and now after taking support of Congress Party he is saying If BJP will provide us proofs we will investigate

  • http://www.youtube.com/watch?v=EVKFYiK9F0M

  • Arvind Kejriwal Denies Sheila Dixit Corruption

  • Before election arvind kejriwal said he will pur sheila dixit in jail if AAP com...See More

  • Like · 59 minutes ago

  • Pavan Surwade bjp ne kargil k baad jeete huye mounts pakistan ko AS A GIFT wapas de diye the..hats off to bjp ..

  • Like · 55 minutes ago

  • AK Nayk P Do every dog has bented tail? Or they bend it by attitude?

  • Like · 1 · 53 minutes ago

  • Pranam Kumar yes we r dogs so we voted him. We voted for simplicity , vote we are am admi , now we r dogs na. Come loka sabha election street brother. We wil show dog wil also bit

  • Like · 1 · 49 minutes ago

  • Satyam Singh Dost ab rojgar ki kya jaroorat hai free khana khao ,pani piyo bijli bhi sasti hai aram se TV dekho aur intjar kro BJP ka shayad free me Tea bhi miljaye.....

  • Like · 7 minutes ago

Avinash Das

दरअसल Arvind Kejriwal कौशांबी (गाजियाबाद) के जिस गिरनार अपार्टमेंट में रहते हैं, वहां लोगों की एकांतिकता (प्राइवेसी) भंग हो गयी है। पिछले साल मैं एक बार उनके घर गया हूं। तब नीचे गार्ड कॉर्नर पर कोई ज्‍यादा औपचारिकता नहीं बरती जाती थी। बस नाम-पता-फोन नंबर-इन/आउट टाइम लिखना होता था। अब सौ दो सौ लोगों की कतार लगी रहती है। मैं तो जाने की हिम्‍मत नहीं कर पाया हूं अभी तक कि मुझे खांमखां दो घंटे लाइन में लगना पड़ेगा और तब भी अरविंद से मुलाकात हो - यह जरूरी नहीं। अपार्टमेंट के दूसरे परिवारों में जाने वाले अतिथियों के लिए यही मुश्किल पेश आ रही है। इस एक गर्व के अलावा कि मुख्‍यमंत्री इसी सोसाइटी में रहते है, सोसाइटी वालों की जान सांसत में है। दूध वाला/पेपर वाला भी अंदर अंदर कुढ़ने लगा है। ऐसे में मैं अरविंद का धर्मसंकट समझ सकता हूं। वे दूसरा स्‍वतंत्र मकान लेना चाहेंगे भी तो चुनाव-पूर्व किये गये वादों का जनदबाव और विपक्षी पार्टियों का हमला उन्‍हें ऐसा करने नहीं देगा। भगवान दास रोड वाले नये घर को लेकर जिस तरह से माहौल बना, वह सबके सामने है। अरविंद ने भी हाथ खड़े कर दिये हैं। अब सुना है, गिरनार अपार्टमेंट के लोग अरविंद को वहां से बाहर निकालने के लिए सामूहिक तौर पर हस्‍ता‍क्षरित निवेदन करने की तैयारी कर रहे हैं। आगे के हालात से निपटना अरविंद के लिए मुश्किल भरा होगा। देखिए क्‍या होता है...

Like ·  · Share · 4 hours ago · Edited ·

  • Subhash Gautam, Pawan Karan, Sunil Kumar 'suman' and 117 others like this.

  • 5 shares

  • View 23 more comments

  • Shashwat Gautam आपके सामने सिर्फ एक पृष्टभूमि रख दिया मैंने जिससे हम सब चीज़ों को तटस्थता के साथ देखें। आज के हिसाब किताब में कोई दल नज़र नहीं आता मगर चीज़ें तभी बदलेंगी जब हम और आप बदलाव को सम्पूर्ण प्रारूप में देखेंगे। अगर "आप" के अंदर व्यवहारिकता आ जाये तो निश्चित ही ...See More

  • about an hour ago · Like · 1

  • Rajeev Ranjan Jha किसी बड़े नेता के व्यक्तिगत उपयोग के कमरे भले ही छोटे हों, उनके घर का प्रतीक्षालय तो जरूरत के मुताबिक बड़ा होना ही चाहिए। लेकिन जब केजरीवाल सबको कठघरे में खड़ा करके खुद संत बनते रहे तो आज उनके बँगले पर लोग क्यों न सवाल उछालें? सवाल उछाला हुआ तो उन्हीं का है, लोगों ने अब लपका है।

  • 40 minutes ago · Like · 2

  • Joginder Rawat अपार्टमेंट मैं ना सही, पर कैंप ऑफिस कही भी स्टार्ट कर सकते है, इसमें कोई दो राय नहीं ! किन्तु १ ० कमरो के लिए जस्टीफिकेशन देना उचित नहीं केजरीवाल जी के लिए । ये लड़ाई ही उसूलो कि है, नहीं तो कोई १९ है कोई २० ।

  • 26 minutes ago · Edited · Like

  • Naresh Kumar Sharma

  • a few seconds ago via mobile · Like



Aam Aadmi Party

18 minutes ago

Aam Aadmi Party will declare the first list of its candidates who will contest the elections within 2 weeks. The decision comes as the party's national executive committee is currently meeting to formulate a plan of action for the upcoming general elections.


"The National Executive meeting of AAP today will discuss the party's strategy for the Lok Sabha elections. This is the first meeting after the Delhi Assembly elections," Yogendra Yadav — with Baldeep Mann.

143Like ·  · Share

Aam Aadmi Party

about an hour ago

Did you check out the mobile version of #AAP website?


Check it out at m.AamAadmiParty.org

296Like ·  · Share

Aam Aadmi Party

6 hours ago

Former Infosys Director V Balakrishnan joined AAP on Wednesday, while former Royal Bank of Scotland CEO Meera Sanyal joined the party a day later.


Mr Balakrishnan's former colleague at Infosys and prominent member of India Inc Mohandas Pai speaking to NDTV said, "They are joining politics now for a very important reason...there is a deep sense of anger and frustration about the high inflation, bad governance that has happened in the past 4-5 years."


"They (AAP) have revolutionised politics in this country, I'm fascinated with it," Mr Balakrishnan had said after announcing his membership of AAP.


While Mr Balakrishnan's entry into politics came as a surprise to many, Ms Sanyal's wasn't as big a surprise as there was already word on the Street that she may join the party after having campaigned for AAP in the run-up to the Delhi polls.


Mr Pai said AAP's spectacular debut in the Delhi elections bears testimony to the fact that people want a change. "...the UPA has let down the people of this country...it's very very clear and people are angry and upset. They want an alternative. (Narendra) Modi was an alternative that came. But AAP usurped the Modi alternative to an extent in Delhi and may be in the urban areas," Mr Pai said.

1,353Like ·  · Share

Aam Aadmi Party

20 hours ago

Savitribai Phule (January 3, 1831 - March 10, 1897) was the first female teacher of the first Women's School in India and also considered as the pioneer of Modern Marathi Poetry.


In 1852 she opened a school for Untouchable girls. Stones would be thrown on her and she would be orally abused but still she continued teaching. When she was hurt, she would be encouraged by her husband, Mahatma Jyotirao Phule.


She was the leader of the first women's liberation movement. She worke...See More — with Dilip C Mandal and 10 others.

1,251Like ·  · Share


Surendra Grover

रतन टाटा ने पहले टाटा नैनो के नाम पर देश की आँखों में धूल झोंकी और मुंह की खाई.. फिर नमो को प्रधानमंत्री बनाने का बीड़ा उठाया मगर अब केजरीवाल धूल चटाने आ गया.. बहुत हुआ देश लूटने वालों.. अब जनता देखेगी...

Unlike ·  · Share · 4 hours ago near New Delhi ·

Surendra Grover

मीडिया से रूबरू मनमोहन सिंह बोले कि "पिछले नौ सालों में कभी नहीं लगा कि मुझे इस्तीफा दे देना चाहिए."

(पर हमें तो कई सालों से लग रहा था)

Like ·  · Share · 16 hours ago near New Delhi ·

Sudha Raje

अब ये तो हद हो गयी!!!!!


एक आम आदमी मिनिस्टर होकर जीवन में निजी तौर पर तो सरल रह सकता है किंतु ।


हजारों लोग दिन भर मिलने तो आयेंगे?


गाङियाँ और बैठकें भी भीङ करेगी


कौशांबी के साधारण घर में बुजुर्ग माँ पिता किशोर बच्चों और पत्नी तथा परिजनों को जरा भी प्रायवेसी नहीं रहेगी ।


सामाजिक जीवन


का एक पहलू ये जरूरी परिसर और दफतर है ।


प्रशासनिक कार्यों की गोपनीयता ।

जनसरोकारी बैठकें

और मुलाकातें


तो हाय हाय क्यों??


जब कोई ऑफिसर रिटायर होता है सरकारी बंगला त्यागकर गांव लौट जाता है ।


लेकिन


सरकारी भीङ ड्यूटी पब्लिक दरबार को तो जगह चाहिये


चाहे कलेक्टर हो या ।

प्रधानमंत्री ।


दिल्ली की डेढ़ करोङ जनता को मिलने और सँभालने के लिये कम से कम पाँच सौ आदमी प्रतिदिन मुलाकात की जगह तो चाहिये न?


हद भी है


बुंदेली में कहावत है ""कणवा अपनौ टैंट निहारत नईयाँ पराई फुल्ली पर परकें हेरत ""

@सुधा राजे

Like ·  · Share · 8 hours ago · Edited ·

Ak Pankaj shared Artist Against All Odd (AAAO)'s photo.

तो अब मेरे सफर की बारी है हमसफर

मैं अपने पहले

पॉलिटिकल एक्शन के लिए तैयार हूं

तुम कहां हो पार्टनर

पार्टनर अब नहीं करूंगी वही सवाल कि तुम्हारी पॉलटिक्स क्या है बताऊंगी तुम्हें कि पॉलटिक्स क्या है और वह भी संसद में नहीं सबसे पहले इसी घर में जहां तुम रहते हो हालांकि लोगों का भ्रम है कि घर में हमदोनों साथ रहते हैं वैसे एक उम्र गुजार दिया है मैंने भी इसी गफलत में कि ये घर हमारा है पर न जाने कितने पतझड़ों के बाद समझ पाई पार्टनर तुम्हारी पॉलटिक्स कोई बात नहीं यात्राओं से ही सीखता है इंसान चलते हुए ही जान पाते हैं हम कि रास्ते कहीं नहीं जाते इंसान ही ले जाता है रास्तों को अपनी मंजिल तक और यदि नहीं होते हैं रास्ते तो बनाता भी है वह नए रास्ते तो अब मेरे सफर की बारी है हमसफर मैं अपने पहले पॉलिटिकल एक्शन के लिए तैयार हूं तुम कहां हो पार्टनर Painting by Londos Alicia Title : Naked man holding woman, 2012

Like ·  · Share · 6 hours ago ·

S.r. Darapuri

An intelligent man's guide to AAP's agenda

Myopia, Distortions and Blind Spots in the Vision Document of AAP | Economic and Political Weekly

epw.in

The Vision Document of the Aam Aadmi Party offers a simplistic understanding of the issues confronting Indian society, and confuses and confl ates symptoms with the disease.

Like ·  · Share · 2 hours ago ·

TaraChandra Tripathi

आज दिल्ली की विधान-सभा में विश्वास मत की कार्यवाही देखी. अरविन्द केजरीवाल ने अपनी बात से दिल् छू लिया. I belong to you Kejarwal

Like ·  · Share · January 2 at 6:48pm ·

Mohan Shrotriya

‪#‎मुख्यमंत्री‬-निवास ही ठीक नहीं रहता क्या, अरविंद केजरीवाल?


इन दोनों फ़्लैट्स से तो छोटा ही था ! नहीं क्या?


‪#‎प्रतीकात्मकता‬ दूर तक, और देर तक, साथ नहीं देती !


सुरक्षा भी तो लेनी ही पड़ेगी, क्योंकि ज़िंदा रहना ज़रूरी है ! जैसे-जैसे आगे बढोगे, देश भर में अपने आपको और ‪#‎आप‬ को फैलाओगे, खतरे भी तो बढ़ेंगे ही !


यह व्यवस्था सारे टोटके-तरीक़े जानती है, प्रतिज्ञा तोड़ने के ! प्रतिज्ञाएं टूट जाएंगी, यह व्यवस्था बनी रहेगी !


अभी तो संभला जा सकता है...फिर बहुत देर हो जाएगी !

Like ·  · Share · 6 hours ago near Jaipur · Edited ·

  • Surendra Grover, Girijesh Tiwari, Mohit Khan and 63 others like this.

  • View 4 more comments

  • Gaurav Kabeer National School of Drama ke pass hi ghar lia hai sir ... Abhi to aur drama hoga

  • 6 hours ago via mobile · Like

  • Kanupriya Goel यह व्यवस्था सारे टोटके-तरीक़े जानती है, प्रतिज्ञा तोड़ने के ! प्रतिज्ञाएं टूट जाएंगी, यह व्यवस्था बनी रहेगी !

  • 5 hours ago · Like

  • Devendra Surjan Itna hokar bhi Kejriwal yadi Jairam Ramesh kii tarah saadgi se rah paaye to aam aadmi ke liye yah badi baat hogi . Jairam Ramesh ke yahaan na koi suraksha hai na chaprasi aur na koi kaamwali Bai. Yah maine suna hai. Kisi bhi Mukhya Mantri ko ek protoco...See More

  • 5 hours ago via mobile · Like

  • O P Veerendra Singh Some truth..but here is the truth about the allegation ( flimsy and silly as it is ) made against Arvind Kejriwal about his U turn on taking gaadi, bangla & security.

  • FIRST THE BANGLA STORY: As there were thousands of ppl coming to see him everyday mak...See More

  • 2 hours ago via mobile · Edited · Like

Panini Anand

बहार आई तो खुल गए हैं, नए सिरे से हिसाब सारे... (फ़ैज़)

Like ·  · Share · 2 hours ago near New Delhi ·

Lalajee Nirmal

लोग बदलाव चाहते है ,जहा भी उम्मीद नजर आती है लोग दौड़ पड़ते है |आज नेता, मंत्री लोगो के लिए विलेन बन चुके है |मिनी ट्रक जैसी ऊँची ऊँची लक्जरी गाड़ियो के काफिले में हूटर की कर्कश आवाज के साथ घूमते ये जन प्रतिनिधि अब गब्बर जैसे भयावह हो चले है |राजनीती में माफिया,हत्यारे,बलात्कारी देश के लिए कानून बनाये यह लोगो को रास नहीं आ रहा है |सांसद और विधायक निधि इन जन प्रतिनिधिओ को किस अँधेरी और गुमनाम गली की ओर ले जा रही है ये खुद नहीं जानते |कुछ राजनैतिक दल तो अब टिकटों का ब्यापार करने लगे है |ऐसे लोग लोकतंत्र के साथ माइनर रेप कर रहे है |बेलगाम अफशरशाही,भ्रष्ट राजनेता ,अंग्रेजो के जमाने की पुलिस अब लोगो से नहीं सही जा रही है और इसी बदलाव की चाह अरविन्द केजरीवाल जैसे नेतृत्व को जन्म दे रही है किन्तु यह अभी शुरुआत है |दुखद यह है की इस बदलाव के परिदृश्य से सामाजिक न्याय गायब है |

Like ·  · Share · 5 hours ago ·

Mohan Shrotriya

प्रधानमंत्री का आज का संवाददाता सम्मेलन इतना ज़रूरी था क्या?


खुद की भद्द पिटवाई सो पिटवाई, कांग्रेस की मुश्किलें और बढ़ा दीं ! बेतहाशा !


कितनी सीटें कम हो जाना सुनिश्चित हो गया होगा, अंदाज़न?

Like ·  · Share · 8 hours ago near Jaipur ·

  • Surendra Grover, Durgaprasad Agrawal, Mohit Khan and 67 others like this.

  • View 11 more comments

  • Satya Veer Singh But the comment on Modi was right from his heart. I liked that.

  • 6 hours ago via mobile · Like · 1

  • Mohan Shrotriya That was the only sane thing he said.#Satyaveer Singh

  • 6 hours ago · Like · 2

  • Vinit Sharma पीएम ने राहुल गांधी और सोनिया गांधी के सामने हमेशा से अपने को कमजोर ही साबित किया। पीएम होने के साथ अर्थशास्त्री के रूप में भी अपनी छवि को बरकारर नहीं रख सके और अभी से अगले लोक सभा चुनावों में पार्टी की हार का कारण महंगाई को ठहरा रहे हैं। कैसा सुशासन द...See More

  • 6 hours ago · Like · 2

  • Sayeed Ayub मैं तो उन्हें शाबाशी देना चाहता हूँ. वे इतिहास पुरुष बनाकर अमर होना चाहते हैं. मैं चाहता हूँ एक-दो और संवादाता सम्मलेन कर लें. पब्लिक उन्हें ऐसा अमर करेगी कि उनका बाप विष बैंक भी देखता ही रह जाएगा.

  • 3 hours ago · Like

Alok Putul

http://cgkhabar.com/manmohan-singh-last-press-meet-20140104/

इन सवालों पर मन का मौन

cgkhabar.com

बतौर पीएम अपने अंतिम प्रेस कांफ्रेंस में मनमोहन सिंह ने माओवाद से लेकर आदिवासियों तक के मुद्दे पर चुप्पी साधे रखा.

Like ·  · Share · 54 minutes ago ·


Alok Putul

केजरीवाल को, मीडिया के पितृपुरुष कल कहने वाले हैं- रैन बसेरा में क्यों नहीं रहते केजरीवाल ?? इन सुअरों की तरह विचरने वाले पितृपुरुषों से पूछने का मन करता है कि कोट-पैंट-स्वेटर उतार कर वे रिपोर्टिंग क्यों नहीं करते ? आखिर वे जनता के दुख-दर्द की बात ही तो करते हैं.

Like ·  · Share · 5 hours ago · Edited ·



TaraChandra Tripathi

'आप' भी कहीं राजनीतिक रोमैंटीसिज्म सिद्ध न हो.

क्योंकि प्रतिबद्धता और सजगता रहित निष्ठा चाहे राजनीतिक हो या आध्यात्मिक क्षणभंगुर होती है. हमारे 'सन्त',भी जिन्हें हम नाना रूपों में हर रोज देखते हैं, जिनके पीछे लोग सम्मोहित से दौड़ते हैं, वे औरों को भले ही दौड़ा दें, अपने चंगे रहते हैं। उनका एक मिशन होता है। इस मिशन के लिए उन्हें ऊर्जा की आवश्यकता होती है। इस ऊर्जा के लिए जाने­अनजाने वे एक सुनहरा जाल बुनते हैं। यह जाल आरंभ एक कल्पनाशील युवा का रूमानी स्वप्न भी हो सकता है। संसार को बदल देने का स्वप्न। पर माया ? पीछे लगने वाले लोग, ठकुर सुहाती कहने वाले लोग, बढ़ता हआ ताम­झाम और हुजूम, चेले­-चपाटे, माला­-वनमाला और तालियों की गड़गड़ाहट, समाज और सत्ता पर छाये लोगों का आगमन, अभिनन्दन, वेश और वाणी के सहारे झरता वैभव, युवा कल्पनाशील योगी को एक घाघ व्यापारी में बदल देता है।

Like ·  · Share · 5 hours ago ·

  • Kiran Tripathi, Yuva Deep Pathak and 3 others like this.

  • Yogesh Bahuguna Aap ka ho halla ek tarah ka romaantisism hee hai. Fir sab apnee aukat par aa jayenge.

  • 4 hours ago via mobile · Like

  • Ajit Tripathi बाबूजी भारत में बहुत लोग हैं निराशा फ़ैलाने के लिए. आप तो खुद गुरु हैं, अध्यापक हैं - अगर आप सकारात्मक बातें नहीं करेंगे तो जो लोग भी अच्छा काम करना चाहते हैं वो सब ठन्डे पड़ जायेंगे। जो लोग भी अच्छा काम या फिर चलो अच्छी बातें ही कर रहे हैं हमें उनका ...See More

  • 4 hours ago · Edited · Like · 2

  • Girish Chandra Joshi Indian democracy main ek naya rocket launch ho raha hai, ho sakta hai experiment successful ho ya na ho lekin dekhana to parega hi.Kuch bhi ho democracy aur systems se acchhi hai.Kam se kam itni freedom to hai hi ki kuch na kuch acchha to soch sakte hain.

  • about an hour ago · Like · 1


H L Dusadh Dusadh

मित्रों!जिस तरह 'आप' वाले 'मैं आदमी हूँ'की टोपी लगाकार खुद को आम आदमी की पार्टी होने दावा करते हैं,उससे क्या ऐसा नहीं लगता कि यह 'खास'लोगों की पार्टी है जिसे आम लोगों की पार्टी बताने के लिए गोएबल्स थ्योरी का अवलंबन करना पड़ रहा है.सोशल साइक्लोजी बताती है कि चोर खुद को इमानदार साबित करने के लिए इमानदारी कुछ ज्यादा ही ढिढोरा पीटते हैं,उसी तरह खाते-पीते अघाए वार्ग की इस पार्टी को आम आदमी साबित करने लिए कुछ ज्यादे ही ढिढोरा पीटना पड़ रहा है.आप आपके समर्थकों के चेहरे देखिये क्या वे आम आदमी लगते हैं?मुझे तो भ्रष्टाचारियों की संतान लगते हैं.बिना भ्रष्टाचार का माल चाभे क्या ऐसे लाल-लाल चेहरे होते हैं?.

Like ·  · Share · 9 hours ago · Edited ·

  • Ashok Dusadh, Sudhir Ambedkar, Shoshit Samaj Dal and 34 others like this.

  • 3 shares

  • View 3 more comments

  • H L Dusadh Dusadh श्रवण जी आपकी आशंका खूब निराधार नहीं है.

  • 7 hours ago · Like

  • Rajesh Kumar Ravi "अगेँस्ट आरक्षण पार्टी" से बहुजनोँ का किसी तरह का लाभ होने की कोई आशा नहीं बल्कि यह इनको भविष्य में भी पहले की तरह ही उलझाए रखने का मनोहारी षड्यंत्र है.

  • 5 hours ago via mobile · Edited · Like · 1

  • रजक एकता जन चेतना देश इस समय दोराहे पर खड़ा है। राजनीतिक लोग अपना स्वार्थ तलाश रहे हैं! उम्मीद है कि आप समाज के सर्वाध्कि शोषित तबके की पीड़ा और समस्याओं पर यथाशीघ्र विचार करेंगे! आज हमें राष्ट्र को सार्थक दिशा मे ले जाने के लिए नेक-नियत, इच्छाशक्ति और आत्मबल की जरूरत है।

  • 4 hours ago · Like

  • रजक एकता जन चेतना यहा यह कहना सुसंगत होगा कि हमारे लिए यह शर्म की बात है। प्रचार तंत्र से पैदा हुए ये बाबा हमारी सामाजिक आर्थिक लोकतंत्र को तो मैला कर रहे हैं मगर खुद स्वच्छ होने का ढोंग पीट रहे हैं। इस ढोंग से निपटने के लिए हमें विश्वास और आस्था के अपने खांचे फिर से बनाने होंगे।देखें आने वाले कल मे हमारा समाज पहले से ही बंद पड़े इस खुद के शेर को कब और कैसे छुड़वाता है।

  • 4 hours ago · Like


Amalendu Upadhyaya shared a link.

इन टोपियों की क़ीमत न चुकानी पड़े !

hastakshep.com

आदरणीय केजरीवाल साहब, सादर नमस्कार हमें इस बात से सच में कोई फर्क नहीं पड़ता कि आप अपनी रिहाइश कहाँ बनाएँगे। कमरे चाहे कितने हों आपके घर में या लोकेशन चाहे जो हो उसकी... फर्क नहीं पड़ता हमें। आदत है बड़े लोगों को बड़े घरों में देखने की। फर्क इस बात से पड़ता है कि…

Like ·  · Share · 4 hours ago ·

The Economic Times

Payments delay forces small businesses to take more loans. Read the full story here http://ow.ly/segig

Like ·  · Share · 35516110 · 9 hours ago ·

Mohan Shrotriya

विश्वास मत के प्रस्ताव पर अरविंद केजरीवाल ने अपना वक्तव्य दिल को छू लेने वाली सहज शैली में दिया !


पर इस बात को नज़रों से ओझल मत हो जाने दीजिए कि उन्होंने तथाकथित अनुभवी राजनीतिबाज़ों को अपनी ‪#‎निपुणता‬ से निरुत्तर भी कर दिया ! कौन इन मुद्दों का विरोध करता है, यह कहते हुए, तथा तीन प्रमुख सवालों को दोहराते हुए उन्होंने मुशायरा लूट लिया !


यह नए युग के ‪#‎राजनीतिककौशल‬ का नमूना था ! उन्हें बधाई दिया जाना तो बनता ही है.


नहीं क्या?

Like ·  · Share · January 2 at 7:08pm near Jaipur · Edited ·

S.r. Darapuri

Who weeps for Sangeeta and Soni Sori? It is all Devyani!

http://www.epw.in/system/files/pdf/2014_49/2/Humiliation_Class_Matters_Too.pdf

epw.in

Who weeps for Sangeeta and Soni Sori? It is all Devyani!

Like ·  · Share · about an hour ago ·

Economic and Political Weekly

"...In Qutba village, where from single largest number of Muslim killings has been reported (8 Muslim were killed) a picket of PAC (provincial armed police) was posted in the village at the time of riots. These policemen were having tea in the Pradhan's house when mobs started rampaging Muslim households..."


Excerpts from the independent fact finding committee's report on Muzaffarnagar riots that shows the divisive and communal politics played by politicians and the local administration.


Read the full report @EPW: http://www.epw.in/web-exclusives/fact-finding-report-independent-inquiry-muzaffarnagar-%E2%80%9Criots%E2%80%9D.html

Like ·  · Share · 36217 · 8 hours ago ·

Ashok Dusadh

उसने सबको मोर बनाया ,सबको खूब नचाया ,उसके 'बिरादरी ' वालों ने भरपूर साथ दिया ,फिर भी ढोल फट गया ,पोल खुल गया . तब भी मीडिया वाले अनुलोम -विलोम करना नहीं छोड़ेगे क्योंकि उन्होंने उसकी खातिर सत्य को ही शीर्षासन करने पर मजबूर कर दिया था .

Like ·  · Share · 4 hours ago ·

Dilip Khan

सादगी मेनटेन कीजिए, लेकिन बड़बोला मत बनिए। केजरीवाल एंड कंपनी को बहुत आहिस्ते-आहिस्ते देख रहा हूं। धैर्य के साथ। काम को बेचने के अंदाज में इसका कोई सानी नहीं है। IIM वालों के भीतर AAP पर बहस करने की इच्छा यूं ही नहीं जगी। सरकारी घर ले लेते तो क्या वोटर नाराज हो जाते? अब बड़ा सा बंगला लेने पर मीडिया पीछे लगा है तो क्या बुरा किया? AAP शुरू में कहती रही कि ऑडिट का फैसला सरकार के बस में है लिहाजा सत्ता में आते ही ऑडिट करवा लेगी। कल विधानसभा में सभी पार्टियों से 'सहयोग' की अपील करनी पड़ी। घंटों के हिसाब से काम पूरा करने की डेडलाइन की शुरुआत पार्टी ने ख़ुद की। जाहिर है सवाल भी उतनी ही अधीरता से उठेंगे। बिटवीन द लाइंस पढ़िए और देखते रहिए।

[मैं AAP का फैन नहीं हूं। आपको मुझसे नाराज होने का पूरा हक़ है।]

Like ·  · Share · 9 hours ago near Delhi · Edited ·

Jagadishwar Chaturvedi

वोट को जंग नहीं कहते , यह लोकतंत्र है! लोकतंत्र में बहस होती है । लेकिन जंग नहीं होती ।

Like ·  · Share · 5 hours ago ·

Ashok Kumar Pandey

आदरणीय केजरीवाल साहब,

सादर नमस्कार


हमें इस बात से सच में कोई फर्क नहीं पड़ता कि आप अपनी रिहाइश कहाँ बनाएँगे. कमरे चाहे कितने हों आपके घर में या लोकेशन चाहे जो हो उसकी...फर्क नहीं पड़ता हमें. आदत है बड़े लोगों को बड़े घरों में देखने की.


फर्क इस बात से पड़ता है कि कहीं आप इस पानी-बिजली वाली सब्सीडी को हम जैसों की जेब से न वसूलने लगें. कहीं आपके राज में भी दिल्ली वालों को घूस देकर काम न करवाना पड़े. कहीं आप उनके बीच रहते रहते उन जैसे न हो जाएँ.


मुझे आपसे बहुत उम्मीद नहीं है, पर वो हमारे आफिस वाले सिन्हा साहब, वो हमारे एक पुराने कामरेड और वह हमारे घर की सहायिका..इन सबको आपसे बड़ी उम्मीद है. इसीलिए जब यह .रायल बैंक आफ स्काटलैंड की इण्डिया हेड मीरा सान्याल से लेकर बड़े बड़े लोग टोपी लगाए दिख रहे हैं तो मुझे डर लगता है कि कहीं सिन्हा साहब, कामरेड और हमारे घर की उम्रदराज़ सहायिका को इन टोपियों की क़ीमत न चुकानी पड़े.


जब आप मुजफ्फरनगर पर कुछ भी बोलने से बच रहे हैं, आपके साथी प्रशांत भूषन को सी पी एम से तो दिक्कत होती है पर कांग्रेस का समर्थन नहीं खलता...जब आपके लोग निजी बातचीत में पी एम के लिए साहेब की वक़ालत करते नज़र आते हैं और जब वह आपका कवि मित्र अपने बडबोलेपन में अपनी भयावह स्त्रीविरोधी सामन्ती चुटकुलेबाजी पेश करता है तो उन लोगों को भले फर्क न पड़े पर मुझे डर लगता है. लेकिन मेरी छोडिये...मेरा डर आपसे दूर नहीं हो सकता. हाँ ... मारे आफिस वाले सिन्हा साहब, वो हमारे एक पुराने कामरेड और वह हमारे घर की सहायिका..इन सबको आपसे बड़ी उम्मीद है.


आपका

दिल्ली का एक ताजातरीन रहवासी

Like ·  · Share · 5 hours ago · Edited ·

Bhawan Nath Paswan and 4 others shared a link.

AAP on reservation

youtube.com

अरविन्द केजरीवाल किसी अभिजात्य शैक्षणिक संस्थान में आरक्षण की बाबत अपने दल की समझदारी बता रहे हैं। संविधान ,सर्वोच्च न्यायालय ,संसद की आरक्षण की समझदारी से व...

  • Bhawan Nath Paswan via Vikash Mogha
  • अरविंद केजरीवाल आरक्षण विरोधी संगठन - यूथ फॉर इक्वालिटी के मंच पर सक्रिय रहे हैं। देखना है कि क्या जन लोकपाल बिल में उद्योग जगत के भ्रष्टाचार को शामिल करेगें? क्या आरक्षण का प्रावधान उसमें होगा।

  • Like ·  · Share · 1 · 29 minutes ago ·

  • Bauddh Priya Raj via Anita Bharti
  • अरविंद केजरीवाल आरक्षण विरोधी संगठन - यूथ फॉर इक्वालिटी के मंच पर सक्रिय रहे हैं। देखना है कि क्या जन लोकपाल बिल में उद्योग जगत के भ्रष्टाचार को शामिल करेगें? क्या आरक्षण का प्रावधान उसमें होगा।

  • Like ·  · Share · 2 · 31 minutes ago ·

Vikash Mogha

मैं अपनी पूर्व में चलायी गयी "पढ़े लिखे बेवकूफ" श्रृंखला का समापन आज भारत के सबसे बड़े इंजीनियरिंग संस्थान आई० आई० टी० से शिक्षित (जिसमें ख़ास लोग ही पहुँच पाते है ) और भारतीय प्रशासनिक सेवा (जिसमें ख़ास लोग ही पहुँच पाते है) के पूर्व आयकर अधिकारी श्री श्री 1008 आम आदमी अरविन्द केजरीवाल, माननीय मुख्यमंत्री की कथनी और करनी के देख कर इस सन्देश के साथ ख़त्म करता हूँ कि "पढ़े लिखे बेवकूफों" को एक पढ़ा लिखा ठग ही "आम आदमी" बनाकर ऐसे छल सकता है जैसे सड़क के किनारे मजमा लगाकर दन्त मंजन बेचने वाला अच्छे अच्छों का उल्लू बना जाता है।

Like · Share · 5 hours ago ·

  • Sudhir Ambedkar, Jayantibhai Manani, Satyendra Murli and 38 others like this.

  • 3 shares

  • View 7 more comments

  • Jayantibhai Manani -

  • जनरल केटेगरी के लोग आम आदमी है, इसीलिए ही उन्हों ने आम आदमी पक्ष बनाया है.. जबकि देश के ओबीसी, एससी और एसटी समुदाय के लोग खास केटेगरी के लोग है, लेकिन वे खास आदमी पक्ष नहीं बना सके है. वैसे तो कोंग्रेस और भाजपा भी आम आदमी पक्ष उन के प्रारभ से ही रहे है.

  • क्योकि उन की स्थापना खास केटेगरी के लोगो ने नहीं लेकिन आम केटेगरी के लोगो ने कियी है.

  • मित्रो, आप क्या कहेंगे...

  • 32 minutes ago · Like · 1

  • Dinesh Sant Kejrivaal mool roop se Sawarna hinduon ke samarthak aur pratinidhi hain.

  • 5 minutes ago via mobile · Like

  • Dinesh Sant Kejrivaal abhi tak Modi aur Rahul se behtar hain.

  • 5 minutes ago via mobile · Like

  • Dinesh Sant Agar dalit netaa, muslim netaa aur obc netaa aapas mein gathbandhan kar lein. Aur apnaa media mazboot kar lein. Tau Congress, BJP aur AAP kaafi buree tarah haar jaayengi

  • 4 minutes ago via mobile · Like

Musafir D. Baitha

झोपड़पट्टी में अपने कुछेक दिन के नौटंकी-वास को तो आपने बहुत गाया-बजाया, पर लाखों के फ़्लैट को सीएम बन क्यों अपनाया?

स्लम-वास ही न करता रे फरेबी 'आम' यार!

Like ·  · Share · 8 hours ago · Edited ·

Vikash Mogha

कल अपनी आखिरी पोस्ट में मैंने पूछा कि अब "आप" ही बताये कि "आम आदमी" का मतलब क्या है ? आज भारत के सबसे बड़े इंजीनियरिंग संस्थान आई० आई० टी० से शिक्षित (जिसमें ख़ास लोग ही पहुँच पाते है ) और भारतीय प्रशासनिक सेवा (जिसमें ख़ास लोग ही पहुँच पाते है) के पूर्व आयकर अधिकारी श्री श्री 1008 आम आदमी अरविन्द केजरीवाल जी बताते है कि आम आदमी वो है जो ईमानदारी से जीना चाहता है फिर भले ही वो रैन बसेरे में रहता हो या ग्रेटर कैलाश में। खास आदमी वो है जो बेईमानी से पैसे कमाना चाहता है भले ही उसके पास पैसे कम हों या ज्यादा।

मेरा पुन: सवाल है कि इसका मतलब मुफ्त का पानी या मुफ्त की बिजली या सब्सिडी के प्रलोभन पर जो वोट लेता और देता है, वह कहीं न कहीं मुद्रा को लेकर गम्भीर भ्रष्ट है और दोनों "आम आदमी" नहीं है" ? 02-02 बड़े बगले में रहने वाले "आप" और सस्ती अम्बेस्डर की जगह महँगी इनोवा में चलने वाले "आप" क्या कहेंगे ?

Like · Share · 5 hours ago · Edited ·

  • Anita Bharti, Ashok Dusadh, Jayantibhai Manani and 40 others like this.

  • 1 share

  • View 27 more comments

  • Mukesh Kumar chauhan saab....... aap ki profile abb dekhi.......... aap toh "Guru ji" nikle....... mauf karna Sir......

  • 4 hours ago via mobile · Like

  • Ambalal Chauhan MK, no problem, bt I liked ur cment, Hansi bhi aaye thi, su su wale remark per, genius indeed !

  • 4 hours ago · Like · 1

  • Mukesh Kumar chauhan saab...... wo kya hai ki Modi/ AntiModi bhakto ne dukhi kar rakha hai na............ saare ke saare ek jaise hi lagte hain na ! .....lekin....... jo aap kah rahe hain wo sahi ji hoga.......... aap ki kalam se jo bhi Words niklte hain..... wo sab Kabool hian saab......

  • 4 hours ago via mobile · Like

  • Vikash Mogha "आप" की दुम पकड़ कर वामपंथी अपनी एक मात्र विचारधारा "तीसरा मोर्चा" के साथ राजनीती के क्षीर सागर को पार कर सत्ता का किनारा पकड़ने में पूरा जोर लगा रहे है, यह बात अलग है कि "आप" की दुम उनके हाथ आती है या नहीं ? इधर कांग्रेस के युवराज और बी० जे० पी० की सुषम...See More

  • about an hour ago · Like

Vinay Sultan

"...मैं अच्छा किस्सागो नहीं हूँ और जो पाँच घटनाएँ मैं आपको बताने जा रहा हूँ वो भी कोई कहानी नहीं है। ये ऐसी त्रासदियों की ऐसी जंजीर है जिसमें एक-दूसरी से बड़ी त्रासदी का सिलसिला थमने का नाम नहीं ले रहा। साथ ही ये हमारे पैंसठ साला लोकतन्त्र में किसानों के बदतर हालात का लिटमस परीक्षण भी है।..."

कपास में लिपटी आत्महत्याएं : तेलंगाना डायरी | पत्रकार Praxis

patrakarpraxis.com

"...मैं अच्छा किस्सागो नहीं हूँ और जो पाँच घटनाएँ मैं आपको बताने जा रहा हूँ वो भी कोई कहानी नहीं है। ये ऐसी त्रासदियों की ऐसी जंजीर है जिसमें एक-दूसरी से बड़ी त्रासदी का सिलसिला थमने का नाम नहीं ले रहा। साथ ही ये हमारे पैंसठ साला लोकतन्त्र में किसानों के बदतर हालात का लिटमस परीक्षण भी है।..."

Like ·  · Share · 10 hours ago ·

Rahul Singh
!! हर हर मोदी !!

जिन्हे जाना है जाये आप मे, लेकिन एक दिन पछताना पड़ेगा जैसे आज देल्ही के कुछ लोग पछता रहे है जिनलोगो ने खान्ग्रेस के खिलाफ वोट दिये उन्हें आप और खान्ग्रेस के निकाह मे बाराती बना दिया गया उसी तरह से केंद्र में भ्रष्टाचारी खान्ग्रेस के सहजादे के पिछे चलने को मजबुर करदिया जायेगा।

हमलोगो ने तो देल्ही चुनाव के पहले ही बता दिया था कि खान्ग्रेस और आप का निकाह होगा, नुरा - कुस्ती सिर्फ दिखावा है.

जो लोग आप का हाथ थामने के लिये उतावले है बहुत अच्छी बात है अभी भाजपा + मोदी को छोड़ दे ताकि मोदी समर्थक किसी ग़लतफ़हमी मे ना रहे और चुनाव तक इनकी भरपाई कि जा सके.

!! हर हर मोदी घर घर मोदी !! — with Bhagat Singh and 18 others.

Like ·  · Get Notifications · 4111 · January 2 at 12:32pm

आम आदमी हो गये फिक्की सीआईआई एसोचैम !

आखिर हर साल बजट में कॉर्पोरेट्स/ अमीरों को साढ़े पाँच लाख करोड़ रूपये की टैक्स छूट/ रियायतें भ्रष्टाचार क्यों नहीं है?

आनंद प्रधान

अरविंद केजरीवाल ने आम आदमी की परिभाषा देते हुये कहा कि जो ईमानदारी के साथ है वह सब आम आदमी है, चाहे वह झुग्गी में रहता हो या ग्रेटर कैलाश में।

सर जी, टाटा-बिरला-अम्बानी सहित सारे कारपोरेट और उनके लाबी संगठन-फिक्की/ सीआईआई/ एसोचैम ईमानदारी की कसमें खाते हैं। अपने सम्मेलनों में भ्रष्टाचार के खिलाफ प्रस्ताव पारित करते हैं। लेकिन आप की नई परिभाषा के मुताबिक, वे सब कहीं आम आदमी तो नहीं हो गये? नहीं, सिर्फ पूछ रहा हूँ? आखिर वे सब आम आदमी पार्टी ज्वाइन कर रहे हैं।

लेकिन एक बात पूछूँ, क्या बेईमान सिर्फ घूस माँगने वाला ही है या घूस देनेवाले की भी कुछ जिम्मेदारी है? क्या घूसखोरी के दो पक्ष नहीं हैं- एक माँग पक्ष और दूसरा आपूर्ति पक्ष?

सर जी, सच यह है कि कॉर्पोरेट्स इस देश में भ्रष्टाचार के मुख्य स्रोत हैं। वे अपने मुनाफे की भूख में सही-गलत काम के लिये नेताओं/ अफसरों को पैसा खिलाते हैं। दबव बनाते हैं। अपनी मर्जी के अफसर और मंत्री बनवाते हैं। फिर अपने मुताबिक, नीतियों और फैसलों को बदलवाते हैं।

क्या यह सही नहीं है कि सिर्फ प्रत्यक्ष घूस लेना-देना ही भ्रष्टाचार नहीं है बल्कि अमीरों/ कार्पोरेट्स के हित में नीतियों को बनाना कहीं बड़ा भ्रष्टाचार है? आखिर हर साल बजट में कॉर्पोरेट्स/ अमीरों को साढ़े पाँच लाख करोड़ रूपये की टैक्स छूट/ रियायतें भ्रष्टाचार क्यों नहीं है? रिलायंस को केजी बेसिन की गैस की कीमतों में दोगुने की बढ़ोत्तरी की इजाजत भ्रष्टाचार क्यों नहीं है? और उदाहरण दूँ?

फिर ये आम आदमी कैसे हो गये सर जी? जी, बस जी घबरा रहा था, इसलिए पूछ लिया।

About The Author

हार्डकोर वामपंथी छात्र राजनीति से पत्रकारिता में आये आनंद प्रधान का पत्रकारिता में भी महत्वपूर्ण स्थान है. छात्र राजनीति में रहकर बनारस हिन्दू विश्वविद्यालय में AISA के बैनर तले छात्र संघ अध्यक्ष बनकर इतिहास रचा. आजकल Indian Institute of Mass Communication में Associate Professor . पत्रकारों की एक पूरी पीढी उनसे शिक्षा लेकर पत्रकारिता को जनोन्मुखी बनाने में लगी है

सरकारी सुविधाओं को लेकर केजरीवाल पर हमला निरर्थक….


-अनुराग मिश्र||

इन दिनों दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल व उनकी आम आदमी पार्टी हर तरफ चर्चा का विषय बनी हुई है. चर्चा इस बात कि अरविन्द केजरीवाल वास्तव में आम आदमी के नेता है या फिर आम आदमी का नेता बनने का ढोंग कर रहे है. उन पर ये आरोप लग रहें है कि वो भी पूर्व राजनेताओं का की भांति सरकारी संसाधनो के उपयोग में लगे हुए है.

ऐसे में यह देखना आवश्यक है कि मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल और उनका मंत्रिमंडल सरकारी संसधानों का उपयोग किन रूपों में कर रहा है ? यदि वो सरकारी गाडी और सरकारी फ्लैट का इस्तेमाल अपने निजी उपयोग के लिए कर रहा है तो ये गलत है. लेकिन अगर जनता के हित के कर रहे हैं तो यह सही है. क्योकि शासन में मुख्यमंत्री और उनके मंत्रीगण ही जनता प्रतिनिधितव करते है और जनता से सीधा संवाद कायम रखने के लिए और जनता के हितों के लिए बनी योजनाओ का क्रियान्वयन करने के लिए उन्हें एक समुचित स्थान व माध्यम की आवश्यकता पड़ती है. अगर इन आवश्यकताओं की पूर्ति के लिए वो जनता के धन से ख़रीदे गए संसाधनो का प्रयोग करते है तो इसमें गलत क्या है ?

वस्तुतः सवाल ये नहीं होना चहिये कि मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल क्या ले रहे है बल्कि सवाल ये होना चाहिए कि अरविन्द केजरीवाल दे क्या रहें है ? और इस लिहाज से देखा जाये तो अब तक केजरीवाल द्वारा उठाया हर कदम आम जनता के हित में ही रहा है.

जहाँ तक सवाल विरोधियों का है तो एक कटु सत्य यह भी है लोकप्रियता अपने साथ विरोधियों को लेकर आती है. जैसे-जैसे आपकी लोकप्रियता बढ़ेगी वैसे-वैसे आपके विरोधी भी बढ़ेंगे. इतना ही नहीं सत्ता भी अपने साथ आरजकता भी लाती है. इसलिए यदि आने वाले समय में टीम अरविन्द के कुछ सदस्यों पर अगर किसी तरह के अनर्गल आरोप लगते है तो ये कोई बड़ी बात नहीं होगी. बड़ी बात तब होगी जब आरोप लगें और केजरीवाल उसकी जांच न करायें. आरोपी को बचायें जैसा कि अभी तक का रस्मो रिवाज चला आ रहा था.

एक बात और अरविन्द जो भी कर रहे है वो इस देश के इतिहास के लिए कोई नयी बात नहीं है. अरविन्द के जिस कदम को भारतीय राजनीती के इतिहास में एक क्रन्तिकारी कदम माना जा रहा है उसका सूत्रापात तो आजादी के कुछ सालों बाद ही सन 1957 में हो गया था जब पहली बार केरल में गैर कोंग्रेसी सरकार बनी थी और ई.एम.एस.नम्बूदरीपाद उस सरकार के मुख्यमंत्री बने थे.

उस समय नम्बूदरीपाद देश में अकेले ऐसे मुख्यमंत्री थे जो साईकिल से सचिवालय जाते थे. सिवाए सरकारी कार्यों के उन्होंने कभी भी सरकारी गाडी का उपयोग नहीं किया. इतना ही नहीं नम्बूदरीपाद सरकार की बढ़ती लोकप्रियता से घबराई कांग्रेस ने पहली बार जनता द्वारा निर्वाचित सरकार को अपदस्थ करने के लिए सन 1959 में अनुच्छेद 356 का उपयोग किया और नम्बूदरीपाद सरकार को बर्खास्त कर दिया.

ये बात अलग की है कि उस दौर में जन-चेतना उतनी चेतन्य नहीं थी कि कांग्रेस की इस नापाक हरकत पर देश की जनता कोई प्रतिक्रिया देती.

पर अब हालात बदल चुके है अब जनता सतर्क है अपने अधिकारों के लिए लड़ना जानती है. ऐसे में जब अरविन्द केजरीवाल जैसा आदमी जनता के बीच से निकलकर सत्ता के सिंहासन पर काबिज होता है तो आज के दौर में भ्रष्ट राजनीति के इजारेदार सहम जाते है. उन्हें अपनी जागीर खतरें में दिखायी देती है. यही खतरा विरोध के रूप बार-म-बार सामने आता रहता है.



Read more: http://mediadarbar.com/25472/why-can-not-use-government-facilities/#ixzz2pPrZVzZR


आप के हर कदम पर जनता की नजर है…


-हरेश कुमार||

हाल ही में दिल्ली की गद्दी पर सत्तासीन हुए अरविंद केजरीवाल ने चुनाव में देश व दिल्ली की जनता के बीच इतनी सारी उम्मीदें जगा दी है कि उन्हें अपना हर कदम फूंक-फूंक कर रखना होगा. मीडिया से व्यापक तौर पर मिली कवरेज से आम आदमी पार्टी को चुनावों में काफी लाभ हुआ, जिससे 13 महीने पहले गठित यह पार्टी देखते ही देखते इतनी ताकतवर हो गई कि इसने पहले से स्थापित पार्टियों को नए सिरे से सोचने व सीखने पर मजबूर कर दिया.

चुनावों में आम आदमी पार्टी ने दिल्ली में 15 साल से सत्ता में स्थापित कांग्रेस को ना सिर्फ गद्दी से हटाया बल्कि भाजपा के चुनावी रथ को रोकने में भी कामयाबी पाई. एक तरह से आप कह सकते हैं कि आप ने भाजपा के मुंह से सत्ता का निवाला छिन लिया. भाजपा के नेता इस बात को लेकर आश्वश्त थे कि दिल्ली में इस बार तो उनकी सरकार बनकर ही रहेगी, वे आप को जनता का समर्थन मिलने पर आंख मूंदे थे. इसे आप स्वांत: सुखाय भी कह सकते हैं. इसी कारण से भाजपा के हाथों कांग्रेस ने पहले भी सत्ता छीन ली थी, क्योंकि यहां पार्टी के लोग भले ही सार्वजनिक मंचों पर एक-दूसरे के गले मिलते रहे हों लेकिन अंदरखाने में हर एक-दूसरे को कमजोर करने में कोई कोर कसर नहीं छोड़ता था. कांग्रेस में भी यह बात थी लेकिन सोनिया गांधी का एक डर था. जैसा कि पूर्व मुख्यमंत्री, शीला दीक्षित और दिल्ली प्रदेश के पूर्व अध्यक्ष, जय प्रकाश अग्रवाल एक-दूसरे को फूटी आंखों नहीं देखना चाहते थे. इसका प्रभाव आप जयप्रकाश अग्रवाल के संसदीय सीट के विकास पर भी स्पष्ट तौर पर देख सकते हैं.

खैर, यह सब अब बीती बातें हो गईं, लेकिन केजरीवाल ने जिस तरह से चुनाव पूर्व कांग्रेस के भ्रष्टाचार और कुशासन सहित वीवीआईपी संस्कृति को मिटाने की बात कर रहे थे और चुनावों में जिस तरह से घूम-घूम कर शीला दीक्षित से विरुद्ध में 370 पेज का आरोप लगा रहे थे, वही केजरीवाल कांग्रेस के समर्थन से गद्दी प्राप्त करते ही अब भाजपा के विधानसभा में नेता हर्षवर्धन से इसके सबूत मांग रहे हैं. सत्ता में आप हैं और आपने जनता से वादे किए थे कि सत्ता में आने पर कांग्रेस के 15 सालों के भ्रष्टाचार पर कड़ाई से कदम उठायेंगे और एक-एक भ्रष्टाचारी को जेल भेजेंगे, चाहे कोई भी हो. लेकिन अरे ये क्या. अब तो सत्ता मिलते ही आप पर सत्ता का असर होने लगा. हां, यह सही है कि आपने प्रति परिवार को प्रतिदिन 667 लीटर यानि 20 हजार लीटर पानी और 400 यूनिट तक टैरिफ को आधा कर दिया. लेकिन ये तो आने वाला वक्त बतायेगा कि सच में जनता पर इसका असर कितना होने वाला है.

मीडिया के दबाव से भले ही केजरीवाल ने अपने लिए भगवान दास रोड पर दिल्ली सरकार की तरफ से मिला दस कमरों का फ्लैट छोड़ दिया हो लेकिन इसका गलत संदेश जनता में गया है. फिर उनके मंत्रियों के द्वारा सरकारी गाड़ियों का इस्तेमाल. इन सबको किसी ने मना नहीं किया था, लेकिन ये तो उन्होंने ही जनता से वादा किया था कि हम जनता से किया हर वादा पूरा करेंगे और वीवीआईपी संस्कृति को खत्म करेंगे, लेकिन अभी सत्ता में आये महज जुम्मा चार दिन ही हुए हैं और आप हैं कि अभी से अपने रंगे दिखाने लगे. अरे जनाब देश-दुनिया की नजर आप और आपके कार्यों पर है.फूंक-फूंक कर कदम रखिये. वरना कहीं ऐसा ना हो जाये कि आप की हालत भी असम गण परिषद यानि अगप जैसी हो जाए जिसका गठन उस समय छात्रों ने बड़ी ही ताम-झाम से किया था लेकिन राजनीतिक चरित्र ने उसे भी अपने लपेटे में ले लिया था. यह तो आप पर निर्भर है कि आप इतिहास बनाते हैं या इतिहास का हिस्सा बन जाते हैं और लगता है कि आप का उदय भले ही धूमकेतु की तरह हुआ हो लेकिन आप जल्द ही सत्ता का हिस्सा बनकर नष्ट ना हो जाये और अन्य दलों व नेताओं से ज्यादा फर्क आप में नहीं. हम सबकी इस पर नजर है. आपका शुभचिंतक.



Read more: http://mediadarbar.com/25477/public-watching-you-mr-kejriwal/#ixzz2pPrxoOzu


नायकत्व की पगड़ी बाँधने में मीडिया हड़बड़ी न करे

2013.12.31

राजनीति के व्याकरण और रंग-ढंग बदलने वाले नए नायक को दे सकते हैं तो दीजिये ये एक नाम.. राजनायक' कहिये!

नवेन्दु कुमार। एक टीवी चैनल पर देख रहा था ...अरविन्द केजरीवाल को 'जननायक' लिखा जा रहा था। मुझे तनिक खटकी ये बात... भावनाओं की बात है और इस बात से इनकार नहीं । अरविन्द में नायकत्व न सिर्फ ढूँढा जा रहा है, बल्कि नायकत्व की पगड़ी बाँधने की हड़बड़ी भी है -मीडिया हमेशा हड़बड़ी में रहता है, सो उधर से हड़बड़ी ज्यादा है । लेकिन इतनी सी अर्ज और सलाह कि हड़बड़ी में ऐसी गड़बड़ी न करें कि कई बड़ी विभूतियों का अपमान हो जाए और अरविन्द के हिस्से की पहचान का भी घोल-मट्ठा हो जाए।

'जननायक' इस देश में सामाजिक न्याय के पुरोधा और दबे-कुचलों की राजनीति के जरिये समाज बदलने वाले नेता स्वर्गीय कर्पूरी ठाकुर को कहा जाता है।…और 'लोकनायक'कहते हैं जेपी को, आज़ाद हिंदुस्तान में तानाशाही के खिलाफ सम्पूर्ण क्रांति की मुनादी करने वाले नेता जयप्रकाश नारायण ।...तो क्यों नहीं देना ही है तो अरविन्द केजरीवाल को एक नया नाम दिया जाए !

ये नया नाम और विशेषण हो सकता है 'राजनायक' का...चूंकि अरविन्द ने इस देश की राजनीति को एक नया आयाम दिया है...वे आगे क्या करेंगे, क्या नहीं, लेकिन अब तक जो वे करते रहे और चुनाव लड़ने, जीतने, सरकार बनाने तक जो कर रहे हैं वो दरअसल इस देश की राजनीति के तर्ज को बदल देने जैसा है...जैसे कोई राजनितिक क्रांति! केजरीवाल ने दिल्ली चुनावी परिणामों के बाद जंतर मंतर पर अपनी "धन्यवाद रैली" में खुद को 'लिबरल सोशलिस्ट' बताते हुए कहा भी था कि वे देश  में "राजनैतिक क्रांति" लाएंगे। चुनावी राजनीति ही सही, तो वे अब पूरे देश में चुनाव लड़ेंगें।... "I am a Liberal Socialist" !

ये भ्रम मुझे तो नहीं ही है कि 'आप' या अरविन्द कोई आम –अवाम या किसान-मजदूरों, दलित-पीड़ितों की मुक्ति के नायक बनने जा रहे हैं या बनेंगें, क्योंकि उनकी मॉस लाईन बिलकुल दीगर है...समानता की लडाई और सामंतवाद-पूँजीवाद के खिलाफ मुक्ति संग्राम जैसी सोच और शब्दावली वे कभी उच्चारित भी नहीं करते । भ्रष्टाचार उनका मेन एजेंडा है...सेवा क्षेत्र को वे जनहितकारी कल्याणकारी राज्य की अवधारणा से देखते है शायद। बिजली-पानी पर जोर उसी का हिस्सा माना जाना चाहिए। राजनीतिक पद्धति को निहायत ही लोकतान्त्रिक बनाना उनका शगल दीखता है ।...ये काम और लक्ष्य कम से कम मौजूदा संसदीय राजनीति और राजनीतिज्ञों के रंग और ढंग बदल दे, तो भी बड़ी बात होगीl वर्ना आज संसदीय राजनीति में आम आदमी के लिए छल और फरेब के बचा ही क्या है? राजनीति बचेगी तभी कुछ और बच पायेगा ।

आप के मंत्री मनीष सिसोदिया ने अपने दो दिनों के मंत्रालयी कामकाज और संस्कृति में भी उस राजनीति का ही अक्श देखा जिसने आम जनता का जीना हराम कर रखा है। मनीष ने हाल-ए-दास्ताँ कुछ यूँ सुनाई... "अभी तो नई राजनीति बनाम पुरानी राजनीति की परंपराओं में यह टकराव चलेगा।...अगर हम स्कूलों में बच्चों को अच्छी शिक्षा, साफ पानी और साफ-सुथरे शौचालय भी मुहैया नहीं करा सकते तो शिक्षा विभाग की जरूरत ही क्या है?...अगर लोग गंदा पानी पीने के लिए मजबूर हैं तो दिल्ली जल बोर्ड या फिर जल संसाधन मंत्रालय के अस्तित्व का क्या मतलब है?...अगर हम इस ठंड में खुले आसमान के नीचे सोने वाले के लिए छत, बीमार के लिए इलाज और हर व्यक्ति को पीने के लिए पानी जैसी बुनियादी सुविधाएं उपलब्ध नहीं करा पाते, तो विकास का नारा किसके कानों तक पहुंचा है "।

वे आगे क्या करेंगे, क्या नहीं, लेकिन अब तक जो वे करते रहे और चुनाव लड़ने, जीतने, सरकार बनाने तक जो कर रहे हैं वो दरअसल इस देश की राजनीति के तर्ज को बदल देने जैसा है...जैसे कोई राजनीतिक क्रांति!

जनता कैसी राजनीति पसंद करती है?...खुद को जन प्रतिनिधि और उनका हमदर्द कहने वाले दलों और नेताओं से वह कैसे सरोकार की अपेक्षा करती है?...साथ ही गवर्नेंस के लिहाज से गवर्न करने वाले वाले के लिए ज़रूरी है कि वह श्रेष्ठ सेवक मानिंद लगे...तात्पर्य ये कि सेवा निमित शासन की नीति से लबरेज हो राजनीति...कोई लाव-लश्कर वाला मुखिया मंत्री नहीं, हमारे-आपके जैसा हमारा नेता । अलबता ये नेतागिरी ही चलन में रहे तो वैसे ही भ्रष्टाचार के कई कारक स्वतः समाप्त हो जायेंगे । भले ही क्रन्तिकारी वामपंथियों को 'आप'और अरविन्द बुर्जुआ के नए लोकप्रियतावादी मुखौटा लगें, लेकिन राजनीति की चाल-ढाल और सलीका बदलने वाले किसी नायक को एक सीरे से ख़ारिज भी कैसे कर सकते हैं? इस फलसफे को कैसे दरकिनार कर सकते हैं की सत्ता संभालने का बाद भी कोई लूट और भ्रष्टाचार के सिस्टम के खिलाफ जनता के साथ संघर्ष करने  का शंखनाद करे! सत्ता का सवार सादगी का दामन न छोड़े!        

अगर लगता है आपको कि अरविन्द और 'आप' छलिया राजनीति के धुरंधरों को भी अपनी लोक राजनीति से मात दे रहे हैं...लगता है आपको कि वे देश में राजनीति का न सिर्फ नया व्याकरण गढ़ रहे हैं, बल्कि उस पर अमल भी कर रहे हैं...लगता है आपको कि राजनीति की शुचिता बचेगी तभी बच पायेगी किसी क्रन्तिकारी राजनीति की धार भी और जनता आपके साथ, आपके पास रहेगी, तभी कर पायेंगे आप कोई जन राजनीति भी...तो फिर बेहिचक कहिये और दीजिये उन्हें एक नया नाम – "राजनायक"!

(नवेन्दु कुमार जी के ब्लॉग Navendu ki Batein से साभार )


COMMENTARY

विदाई बेला के मुखर मौनमोहन

कायदे से कहें तो मीडिया से यह डॉ मनमोहन सिंह की विदाई वार्ता थी लेकिन मनमोहन सिंह ने इसे स्वागत वार्ता में तब्दील कर दिया। पूरे दस साल तक राजनीतिक टिप्पणियों से कमोबेश दूर ही रहनेवाले मनमोहन सिंह ने सिर्फ अपनी उपलब्धियां ही नहीं गिनाई बल्कि अपनी नाकामियों का भी जिक्र किया। और दो चार बातें ऐसी बोल दीं जो राजनीतिक भूचाल से कम नहीं हैं। दस साल के शासनकाल में मौनमोहन के नाम से मशहूर हो चुके मनमोहन सिंह बोले तो ऐसा बोले कि लोगों की बोलती बंद कर दी।

संसद से सड़क तक आम आदमी

अरविंद केजरीवाल द्वारा विश्वास मत के दौरान प्रस्तुत 17 मुद्दों में से अधिकतर वही हैं जिनमें से अधिकतर 1947 को देश को आजादी मिलने के बाद से ही जस के तस पड़े हैं। रोटी, कपड़ा और मकान के बाद स्वास्थ्य, शिक्षा, पानी, बिजली, सुरक्षा जैसी उचित सुविधाओं के अभाव में जनता तब से ही त्रस्त होती रही है। उस समय की संसद और पहली विधानसभाओं में भी लगभग यही मुद्दे ऊंचे स्वरों में गूंजते रहे थे। देश को आजाद हुए सात दशक होने को है परंतु इनके समाधान की तरफ गंभीरतापूर्वक किसी का ध्यान नहीं गया।

News Network

21 minutes ago  

जाति पूछकर तय किया जाता है वेतन

बिहार के संस्कृत शिक्षा बोर्ड में कार्यरत कर्मियों का जाति के आधार पर वेतन निर्धारण किया जाता है। यानी उच्च जाति के कर्मियों को उच्च वेतनमान और निम्न जाति के कर्मियों का निम्न वेतनमान दिया जा रहा है। इस मामले का खुलासा तब हुआ जब संस्कृत शिक्षा बोर्ड के लिपिक रामनारायण पासवान ने शिकायत दर्ज कराई। लिपिक की शिकायत के बाद राष्ट्रीय अनुसूचित जाति आयोग ने जब जांच की तो उनकी आंखें फटी की फटी रह गई। ... Full story

1 hour ago  

मुसहर भी करेंगे अपनी जमीन पर खेती

02 जनवरी 2014 को मानवाधिकार जन निगरानी समिति के नेतृत्व में ग्लोबल फण्ड फॉर चिल्ड्रेन / जनमित्र न्यास के आर्थिक सहयोग से उत्तर प्रदेश में जौनपुर जिले के ग्राम पंचायत- सकरा के मुसहर बस्ती में कृषि हेतु ट्यूबेल लगवाया गया जिसका लोकार्पण दर्जनों गांव के हजारों लोगों की उपस्थिति में पारुल शर्मा (जो भारतीय मूल की स्वीडन नागरिक एंव मानव अधिकार कार्यकर्ता है) एंव सावित्री बा फूले महिला पंचायत की संयोजिका श्रुति नागवंशी द्वारा किया गया। ... Full story

14 hours 9 minutes ago  

बड़े नहीं, छोटे बंगले में रहेंगे केजरीवाल

दिल्ली विधानसभा में विश्वासमत हासिल करते वक्त वीआईपी कल्चर के खिलाफ नारा बुलंद करनेवाले अरविन्द केजरीवाल पर उसी वीआईपी कल्चर की मार पड़नी शुरू हो गई है। आखिरकार अरविन्द केजरीवाल को बतौर मुख्यमंत्री दिल्ली के सरकारी आवास में रहने के लिए अधिकारियों ने राजी कर लिया है और उनके लिए दिल्ली के तिलक मार्ग-भगवानदास रोड स्थित डीडीए के सरकारी फ्लैट दो फ्लैट एकसाथ आवंटित करके उनके लिए तैयार कर रहा है। हालांकि आधिकारिक तौर पर इन यहां बने आवासों को बंगला ही कहा जाता है लेकिन व्यावहारिक रूप में ये छोटे बंगलेनुमा दोमंजिला मकान है जिसमें अगर ऊपर और नीचे की मंजिल मिला दी जाए तो एक मिनी बंगला तैयार हो जाता है। ... Full story

हर जन जो काम करेगा, वो जाना जाएगा

By संजय तिवारी

JAN

01

2014

तारीख 20 सितंबर 2013। दिल्ली की मुख्यमंत्री शीला दीक्षित के कार्यालय को सूचना अधिकार के तहत जानकारी मांगने के लिए एक आवेदन भेजा जाता है और उसमें एक जानकारी मांगी जाती है। हाथ से लिखे आवेदन में सूचना मांगनेवाला व्यक्ति दिल्ली सरकार से यह जानना चाहता है कि दिल्ली में दिल्ली सरकार ने कितने रैन बसेरे बना रखे हैं, उन पर सरकार का कितना खर्च होता है, और उन रैन बसेरों में कितने आदमी रहते हैं। जिन आलोक कुमार ने सूचना अधिकार के तहत दिल्ली सरकार से यह जानकारी मांगी थी उन्हें विशेष नोट यह लगा रखा था कि कृपया जानकारी हिन्दी में ही देने की कृपा करें। ... Full story

Tagged as:

Homepage, Headlines, पहरेदार

मोदी को कितनी चुनौती 'आप' की?

By रवीश कुमार

DEC

31

2013

राजनीति में मुख्य रूप से दो प्रकार के गणित होते हैं। एक वास्तविक गणित और दूसरा अवधारणात्मक गणित। राजनीतिक जानकार इन दोनों ही आधार पर किसी पार्टी या नेता की लोकप्रियता का मूल्याँकन करते रहते हैं। ज़रूरी नहीं कि जो अवधारणा हो वैसा ही नतीजा हो और जैसा नतीजा हुआ है उसके आधार पर नई अवधारणा के लिए कोई गुज़ाइश न हो। कई प्रकार के अपवाद हैं। ... Full story

Tagged as:

जनता दरबार

खत्म हो जाने का खतरा

By ओ पी सोनिक

DEC

31

2013

हाल ही में उच्चतम न्यायालय ने बाल अधिकार संरक्षण आयोग गठित नहीं करने वाले राज्यों को कड़ी फटकार लगाई है। कई राज्यों में अभी तक बाल आयोगों का गठन नहीं होने के कारण बच्चों के अधिकारों की निगरानी एवं उनका संरक्षण नहीं हो पा रहा है। परिणामस्वरूप राज्यों में बच्चों के शोषण की घटनाएं निरंतर बढ़ रही हैं। अगर आंकड़ों को देखें तो पाएंगे कि जिन राज्यों में बाल अधिकार संरक्षण आयोगों का गठन हो चुका है वहां भी बच्चों के शोषण की घटनाएं रुकने का नाम नहीं ले रही हैं। खासतौर पर अनुसूचित जाति एवं जनजाति वर्ग के बच्चे अधिक प्रभावित हो रहे हैं। ... Full story

Tagged as:

जन-जीवन

खैरात की सौगात

By प्रेम शुक्ल

DEC

31

2013

रामलीला मैदान पर अरविंद केजरीवाल एंड नौटंकी कंपनी के शपथग्रहण के साथ बीते एक पखवाड़े से जारी बुद्धू बक्से के तमाशे का एक चरण पूरा हुआ। अब घोषणापत्र के घोषणा को बारी बारी से पूरा करने के दावे के साथ आम आदमी पार्टी अपने तमाशे का दूसरा चरण पूरा कर रही है। लेकिन सवाल यह है कि क्या केजरीवाल एण्ड कंपनी सचमुच लोकतंत्र को मजबूत कर रही है या फिर सस्ती लोकप्रियता के लिए वह नागरिकों को दिग्भ्रमित कर रही है। ... Full story

Tagged as:

जनता दरबार

मोदी, मीडिया और केजरीवाल

By संजय मिश्र

DEC

31

2013

दिल्ली में राजनीतिक शतरंज की गोटियां बिठाने की चाल हद से ज्यादा चली जा रही है...राजनीतिक खिलाड़ी पर्दे के पीछे हैं और वहां का मीडिया खुद मोहरा बन इसकी अगुवाई कर रहा है... इंडिया में जो वर्ग केजरीवाल के उभार से व्यवस्था परिवर्तन की उम्मीदें पाले बैठा है वे सुखद अनुभूति से भर उठे होंगे कि अब नरेन्द्र मोदी के बरक्स केजरीवाल को राजनीतिक क्षितिज पर पेश किया जा रहा है... नगर निगम से थोड़ी ही ज्यादा पावर वाले दिल्ली के विधानसभा के सत्ताधीशों से देश में राजनीतिक क्रांति का ज्वार पैदा करने वाले मीडिया में केजरीवाल वर्सेस राहुल गांधी जैसे जुमले का नहीं होना संदेह जगाने के लिए काफी है। आप फेनोमेना के मुरीदों को इस पर चौंकना चाहिए। ... Full story

Tagged as:

कॉरपोरेट मीडिया

आम चुनाव की कड़ी चुनौती

By सलीम अख्तर सिद्दीकी

DEC

30

2013

प्रधानमंत्री के रूप में नरेंद्र मोदी को आगे करके भाजपा ने अगले साल होने वाले लोकसभा चुनाव को एक अहम मोड़ पर लाकर खड़ा कर दिया है। यूं तो हर चुनाव में मुसलिम वोटर अहम होते रहे हैं, लेकिन मोदी के आने की वजह से उनके अहमियत बहुत ज्यादा बढ़ गई है। कांग्रेस समेत सभी धर्मनिरपेक्ष राजनीतिक दलों का लगता है कि नरेंद्र मोदी को प्रधानमंत्री पद से दूर रखने के लिए मुसलमान उनके इर्दगिर्द ही सिमटा रहेगा, जिससे उनकी राह आसान हो जाएगी। ... Full story

http://visfot.com/



अपने 10 अक्टूबर, 1988 के अंक में एशियन वॉल स्ट्रीट जर्नल ने सुदीप चक्रवर्ती का लिखा एक आलेख छपा था। एक औद्योगिक केंद्र और शहर दोनों के बतौर जमशेदपुर की अंदरूनी चाल को समझने का साहस और उत्कंठा रखने वाले किसी भी शख्स के लिए यह आलेख प्रस्थान बिंदु का काम करेगा। आलेख का शीर्षक था 'इंडियन सिटी इज रन द टाटा आइरन वे – पैम्पर्ड इंडियन सिटी हैज इट्स ड्रॉबैक्स' (भारतीय शहर जो टाटा के फौलादी तरीके से चलता है – सुविधासंपन्न शहर की खामियां), जिसमें 1958 में टिस्को के मजदूरों द्वारा की गई उस हड़ताल का जिक्र है जिसे बुरी तरह कुचल दिया गया था। संवाददाता कहता है, "स्थानीय मजदूर नेताओं की मानें तो कम्पनी (टाटा आइरन एंड स्टील कंपनी लिमिटेड) से डरने के कई वास्तविक कारण हैं। वे 1958 में मजदूरों के एक प्रदर्शन का हवाला देते हैं जिसमें सैकड़ों मजदूर संगठनकर्ताओं को पुलिस ने गोली मार दी थी और उनका आरोप है कि पुलिस ने ऐसा टाटा आइरन के इशारे पर किया था।''

हमारा मस्तिष्क एक बल खाती नदी के जैसा है जिसमें बहता पानी स्मृतियों के तटबंधों को समय-समय पर झकझोरता है तो उन्हें साफ भी करता चलता है। सुदीप चक्रवर्ती 1958 की जिस हड़ताल का जिक्र एशियन वॉल स्ट्रीट जर्नल के अपने आलेख में करते हैं, उसकी कुछ स्मृतियां अब भी मेरे मस्तिष्क में बची हुई हैं। उस वक्त मैं कुल जमा दस बरस का था। वह हड़ताल उस समय तक अविभाजित भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी के मदूर संगठन एटक ने बुलाई थी। यह मदूरों का एक स्वयं स्फूर्त उभार था जिसे एटक के बैनर तले संगठित किया गया था। उस वक्त कंपनी में जो यूनियन थी वह कांग्रेस पार्टी की इंटक से संबद्ध थी। उसने प्रचार किया कि यह हड़ताल चीजों को अपने हाथ में लेने के लिए कम्युनिस्टों की साजिश है। पटना और दिल्ली दोनों ही जगह कांग्रेस की सरकारें थीं, लिहाजा राज्य तंत्र ने बर्बर तरीके से इस हड़ताल को कुचल दिया। पुलिस ने शांतिपूर्ण प्रदर्शन कर रहे हड़ताली मजदूरों पर गोलिया चलाईं और कई की जान चली गई और कई गुना मदूर बेरोजगार हो गए।

इसके बाद जमशेदपुर में मजदूर आंदोलन कभी उस गौरव को हासिल नहीं कर पाया। मजदूरों की स्वतंत्र आवाज को दबा दिया गया और इसके बाद से इंटक की कठपुतली यूनियन, जिसे बचाए रखने में टिस्को के प्रबंधन ने कोई कसर नहीं छोड़ी थी, पहले के मुकाबले कहीं ज्यादा अपने घुटनों पर आ गई। याद आता है कि प्रबंधन ने बिना कोई देरी किए घोषणा कर दी थी कि हड़ताल दरअसल मजदूरों के बीच आपसी मतभेदों का नतीजा है और प्रबंधन का उससे कोई लेना-देना नहीं था। हालांकि जमीनी तथ्य कुछ और ही सच्चाई बयान करते हैं, एक ऐसा सच जिस पर पर्याप्त बातचीत कभी नहीं हुई लेकिन जमशेदपुर के मौखिक इतिहास का वह अविच्छिन्न हिस्सा बन चुका है। श्रम और औद्योगिक संबंधों पर काम करने वाले विद्वानों और शोधार्थियों ने यदि अपने हिस्से का काम ईमानदारी से किया होता, तो 1958 की कभी न भुलाई जा सकने वाली गर्मियों में हुई उस हड़ताल और उसके बर्बर दमन के बारे में शायद देश को कहीं ज्यादा मालूमात होती।

उस वक्त के हड़ताली मजदूरों को केदार लाल दास और उनके सहयोगियों खासकर बारिन डे, अली अमजद और डॉ. उदयशंकर मिश्र से बेहतर नेतृत्व नहंीं मिल सकता था। जमशेदपुर के हजारों अन्य लोगों की ही तरह मेरे पत्रकार पिता भी सीपीआई नेता केदार बाबू को बड़े सम्मान से देखते थे क्योंकि वे उसी लायक थे। पुराने कम्युनिस्टों जैसी सात्विक शख्सियत थे केदार लाल, जिन्हें लोग केदार बाबू कहा करते थे। वे साधारण कपड़े पहनते और कम खाते थे। जीवन की शुरुआत में ही उन्होंने अविवाहित रहने का फैसला कर लिया था और आजीवन अपने बड़े भाई और उनके परिवार के साथ वे रहे। वे कम बोलते थे, लेकिन जब भी बोलते लोग उन्हें चाव से सुनते थे क्योंकि लोग जानते थे कि दूसरे तमाम नेताओं की तरह वे मुहावरेबाजी नहीं कर रहे होते बल्कि उनका एक-एक शब्द लोगों के सरोकारों को अपना बनाने के संघर्ष की आंच से तप कर निकल रहा था। मुझे याद है मेरे पिता उनके बारे में कहा करते थे, "केदार बाबू के भीतर आग है और बाहर से वे बर्फ हैं।''

1958 के उभार के कई वर्ष बाद जब केदार बाबू का निधन हुआ, कम से कम एक लाख लोग जिनमें कई ऐसे भी थे जो उनसे हर बात पर सहमति नहीं रखते होंगे, उनकी शव यात्रा में शामिल हुए और सभी रूंधे हुए गले से नारे लगा रहे थे, "कामरेड केदार दास जिंदाबाद, कामरेड केदार दास अमर रहें।'' जमशेदपुर के लोगों ने ऐसा दृश्य आखिरी बार तब देखा था जब प्रोफेसर अब्दुल बारी का निधन हुआ था। केदार बाबू की मौत के साथ ही जमशेदपुर का वाम आंदोलन अनाथ हो गया। उसके शीर्ष पर ऐसा कोई नहीं बचा जिसे इतनी इज्जत और लोकप्रियता प्राप्त थी। इससे जो खाली जगह बनी, उसे भरने के लिए दक्षिणपंथी तत्व घुस आए जिनका एजेंडा जाहिर है मजदूरों और उनके परिवारों का भला करना नहीं था।

उस हड़ताल के दौरान देश भर के कोने-कोने से पत्रकार जमशेदपुर में उमड़ आए थे। टिस्को का जनसंपर्क विभाग उनकी पूरी तीमारदारी में लगा हुआ था, जिसके मुखिया दिलीप मुखर्जी हुआ करते थे जिन्होंने बाद में कलकत्ता में दि स्टेट्समैन में नौकरी कर ली और बाद में इसे छोड़ कर दि टाइम्स ऑफ इंडिया में चले गए। कंपनी का प्रचार विभाग यहां आने वाले पत्रकारों को कंपनी का संस्करण समझाने में कोई कोर कसर नहीं छोड़ रहा था। यहां अर्धसत्य से लेकर सफेद झूठ तक सब कुछ प्रचारित किया जा रहा था ताकि हड़ताली मजदूरों को किसी तरह बदनाम किया जा सके। जिस तरह तथ्यों को तोड़-मरोड़कर लोगों के सामने पेश किया जा रहा था, उस पर अपने पिता के गुस्से का प्रत्यक्ष गवाह मैं और मेरे भाई थे। मां तो खैर सब जानती ही थी। पिता प्रेस ट्रस्ट ऑफ इंडिया में स्ट्रिंगर की नौकरी करते थे। शायद उनके गुस्से का उनकी नौकरी पर असर नहीं पड़ा, तो इसकी वह सिर्फ यही थी कि पीटीआई ने इस हड़ताल को कवर करने के लिए कलकत्ता दफ्तर से एक वरिष्ठ पत्रकार को भेज दिया था जिनका नाम सुधीर चक्रवर्ती था। मेरे पिता की सामाजिक प्रतिष्ठा दांव पर थी, लेकिन सुधीर के आने से उन्होंने राहत की सांस ली हालांकि दुख और असंतोष पहले जैसा बना रहा।

यदि इस हड़ताल का कालानुक्रमिक ब्योरा लिखा जाता तो कुछ घटनाएं अवश्य उसमें जगह पा जातीं, जो आज तक यहां के मौखिक इतिहास तक ही सीमित हैं। यह सही है कि किसी भी घटना के बारे में हर बात दर्ज नहीं की जा सकती है। यह मानवीय स्तर पर संभव भी नहीं है और इतिहास इस तरह लिखा भी नहीं जाता। कुछ प्रत्यक्षत: छोटी लेकिन अहम घटनाएं अकसर किताबों का हिस्सा नहीं बन पाती हैं, लेकिन सामाजिक संचार के सर्वाधिक प्रभावी और टिकाऊ माध्यम यानी मौखिक संवाद से एक पीढ़ी से दूसरी पीढ़ी तक जरूर पहुंच जाती हैं। मुझे ऐसा लगता है- और शायद अपनी बात के अतिरंजित महत्त्व से पैदा हुए बोध का हो सकता है यह परिणाम हो- कि इस हड़ताल से जुड़ी हुई यदि कम से कम दो घटनाएं बताने से मैं चूक गया तो यह तय है कि दर्ज न किए जाने के चलते ये हमेशा के लिए गायब हो जाएंगी। यह नुकसान मामूली नहीं होगा, बल्कि रोमन साम्राज्य में प्लेबियन मजदूरों को हुए नुकसान के जैसा होगा जिसका लाभ पैट्रीशियनों को मिलना तय है।

बहरहाल, पहली घटना बारिन डे से जुड़ी हुई है, जो इस हड़ताल में केदारदास के सिपाहसालार थे। इससे पहले और इसके बाद के तमाम संघर्षों में भी वे इसी भूमिका में रहे। एक ओर जहां शहर के अभिजात्य उत्तरी हिस्से में स्थित टिस्को होटल में कंपनी पत्रकारों को शराब-कबाब खिलाकर उनका मुंह बंद करवा रही थी, वहीं दूसरी ओर बारिन काकू तकरीबन खाली पेट हड़ताली मजदूरों को संगठित करने में लगे हुए थे। वे सीपीआई के कलकत्ता से प्रकाशित होने वाले बांग्ला मुखपत्र स्वाधीनता (लिबरेशन) में लिखा भी करते थे, जोअब बंद हो चुका है। विशाल और गठीली देह वाले बारिन काकू तहमद और पूरे बांह की शर्ट पहना करते थे जिसकी बांह कुहनी तक मुड़ी होती थी। उनके पैरों में पड़ी चमड़े की चप्पलऐसी कई गर्मियां देख चुकी थी। बारिन डे त्याग की जिंदा प्रतिमूर्ति थे। अपने उस्ताद केदारदास की तरह ही बारिन डे ने भी कभी शादी नहीं की और जिनके लिए उन्होंने संघर्ष किया, उन्हें ही अपना परिवार मानते रहे। वे अकसर हमारे घर आया करते थे और हमारे ही मोहल्ले में एक अन्य चटर्जी परिवार के यहां रहा करते थे। उस घर के मुखिया भी हमारे ही पेशे से थे और मजदूरों की ओर से बारिन काकू द्वारा की जाने वाली तकरीबन आत्मघाती किस्म की कार्रवाइयों के वे बड़े प्रशंसक थे। मैं नहीं जानता कि यह बात कितनी सच है, लेकिन स्थानीय स्तर पर यह चर्चा थी कि उस घर में मुफ्त रिहाइश और खाने के बदले बारिन काकू परिवार के कपड़े धोते थे और कुछ छिटपुट घरेलू काम भी किया करते थे। सुनने में आता है कि उन्होंने कभी कहा था कि एक कम्युनिस्ट किसी से कुछ भी मुफ्त नहीं लेता।

हड़ताल चरम पर थी और गर्मी के उस दिन पारा भी आसमान पर था। हुआ यह कि बारिन काकू और मेरे पिता अचानक टिस्को होटल के पास टकरा गए। उस दिन पुलिस के मुखबिर सादे कपड़ों में हड़ताली मजदूर नेताओं का पीछा कर रहे थे जबकि नेता पूरी कोशिश कर रहे थे कि अपना पीछा करने वालों सेएकाध कदम आगे ही रहें। बारिन काकू ने जब पिता को बताया कि 24 घंटे से उन्होंने कुछ नहीं खाया है और पूछा कि क्या किसी तरह कुछ खाने को मिल सकता है, तो पिता ने एक योजना बनाई। यह तय हुआ कि किसी सुरक्षित-सी जगह पर बारिन काकू उनका इंतजार करेंगे और पिता कहीं से खाना लेकर आएंगे। इसके बाद मेरे पिता टिस्को होटल में घुस गए। वहां उन्हें हर कोई जानता था क्योंकि वे स्थानीय पत्रकार थे। एक बावर्ची को लेकर वे कोने में गए और दो प्लेट चिकन सैंडविच पैक करने को कहा। चूंकि पत्रकारों को वहां मुफ्तखोरी की पहले से इजाजत थी इसलिए इस बात पर किसी को कोई संदेह नहीं हुआ। पैकेट आते ही उन्होंने फौरन उसे अपने ब्रीफकेस में रखा और वहां पहुंचे जहां बारिन काकू से मिलना उनका तय था। इसके बाद जो हुआ, उसके बारे में मुझे अब भी पिता के कहे शब्द याद आते हैं, "इतने बड़े शरीर वाले भूख से बेजार उस शख्स ने मेरे हाथ से बाकायदे पैकेट छीन लिया और बिना रुके भेडि़ए की तरह सैंडविच पर टूट पड़ा। मुझे अपने बचपन और जवानी में भूख का तजुर्बा था चूंकि हमारे परिवार के पास कभी खाने को पर्याप्त नहीं होता था, लेकिन उस दिन बिना दाएं-बाएं देखे बारिन को लगातार खाता देख मुझे भूख का एक नया मायना समझ में आया।' मेरे पिता और बारिन काकू को गुजरे लंबा समय हो गया है, लेकिन उनकी दोस्ती की यह दास्तान मेरीस्मृतियों में हमेशा जिंदा रहेगी।

इस हड़ताल में देश भर से नेताओं ने हिस्सा लिया। आज किसी भी बड़े वामपंथी नेता का आप नाम लें, वह उस दौरान जमशेदपुर में अपनी जोर आजमाइश कर रहा था। इंद्रजीत गुप्ता, जो कुछ दशक बाद देश के गृहमंत्री बने थे, उन्होंने हड़ताल के दौरान गजब की मिसाल पेश की। वे जमशेदपुर बड़े गोपनीय तरीके से पहुंचे थे। उनके पहुंचने के कुछ देर बाद ही बिहार पुलिस और टिस्को के मुखबिरों को इसकी खबर लग गई। उन्होंने "शरारती तत्वों'' को (उस वक्त हड़ताली नेताओं के लिए पुलिसवाले यही विनम्र शब्द इस्तेमाल करते थे) धरने के लिए अपनी कमर कसने में कोई समय नहंी गंवाया। बहुत देर नहीं हुई थी गुप्ता एकाध स्थानीय नेताओं के साथ छुपते-छुपाते भागे फिर रहे थे। 'रमेश केबिन' नाम के एक छोटे से इलाके में कडमा मार्केट स्थित एक ढाबे के मालिक शांति मुखर्जी बताते हैं कि एक रात गुप्ता को उनके यहां लाया गया और अनुरोध किया गया कि एकाध दिन के लिए उनहें यहां शरण दी जाए क्योंकि पुलिस उनके पीछे पड़ी हुई है।

शांति मुखर्जी धोतीधारी ठिगने और मृदुभाषी भद्रलोक वासी थे जो कम्युनिस्टों को गंभीरता से लेते थे। वे गुप्ता को एक अंधेरी और गंदी खटाल में ले गए जिसे स्थानीय लोग मामूर कोयलार ताल (मामा का कोयला डिपो) कहते थे। उन्होंने गुप्ता को कपड़े बदलने को कहा और उन्हें कच्छा-बनियान दिया जिस पर बाद में कोयले की कालिख पोत दी गई। उनके चेहरे और हाथ-पैर पर भी कालिख पोत दी गई। उन्हें वहां दो-तीन दिनों तक रहने के लिए कहा गया। पार्टी के भरोसेमंद कार्यकर्ता इन दिनों उन्हें वहां खाना-पानी पहुंचाते थे। इस डिपो के भीतर की हवा गर्म, सीली और घुटन भरी थी। सोच कर आश्चर्य होता है कि कैसे वे इस घुटन में अकेले पड़े रहे होंगे! बहरहाल, मुखर्जी को जब भरोसा हो गया कि गुप्ता को गिरफ्तार करने का दबाव कम हो चुका है, तो एक रात उन्हें चुपके से टाटानगर की ट्रेन पर बैठा दिया गया। इस दौरान गुप्ता लगातार हड़ताली मजदूरों को परामर्श देते रहे कि उन्हें क्या करना है और क्या नहीं।

केदार दास ने 1981 में आखिरी सांस ली। खराब तबीयत के बावजूद वे अंत तक टिस्को के लोभी ठेकेदारों के नीचे काम करने वाले मजदूरों के आंदोलन का नेतृत्व करते रहे। इनमें अधिकतर कामगार आदिवासी थे जिनसे कई बरस से बंधक की तरह काम करवाया जा रहा था, जिन्हें मिलने वाली सुविधाओं के नाम पर कुछ नहीं था और उनकी दिहाड़ी भीख से ज्यादा नहीं थी। संघर्ष का उद्देश्य टिस्को प्रबंधन पर दबाव डालना था कि इन्हें "बंधक श्रमिक'' की स्थिति से "स्थायी कर्मचारी'' तक लाया जा सके। जमशेदपुर के लोग अब भी यह मानते हैं कि केदार दास की मौत असंतुष्ट मजदूरों के आंदोलन का नेतृत्व करने के दौरान टिस्को के सुरक्षाकर्मी द्वारा छाती पर हुए हमले के कारण हुई थी।

मेरे पिता द्वारा प्रकाशित और संपादित अपने किस्म के इकलौते साप्ताहिक अखबार मोटिफ में केदार दास के शिष्य पारितोष भट्टाचार्य ने लिखा था, "तूफानों के दौर में जनता के साथ खड़े रहना एक ऐसी अमर विरासत है जिसे केदार दास जैसी निस्वार्थी शख्सियतें बार-बार जिंदा कर जाती हैं ताकि धरती पर हर कहीं हर किसी के लिए बेहतर और सुखी जीवन का आगाज हो सके।''

उस लेख में अपने प्रिय केदार दा को श्रद्धांजलि देते हुए भट्टाचार्य ने बुल्गारिया के एक युवा कवि निकोलाई वुप्सारोव को उद्धृत किया था जिसे नाजी गिरोह ने गोली मार दी थी: "आफ्टर दि फायरिंग स्क्वाड, दि वम्र्स/दस डज दि सिॅपल लॉजिक गो/बट इन दि स्टॉर्म आइ विल बि विद यू/माइ पीपॅल, बिकॉज आइ लव्ड यू सो!''

1958 की स्टील मजदूरों की हड़ताल अपने लक्ष्यों को हासिल करने में नाकाम रही। 1981 में ठेका मजदूरों के संघर्ष का भी यही हाल हुआ। इसके बावजूद जमशेदपुर की आबादी का आठवां हिस्सा यानी एक लाख से ज्यादा लोगों ने केदार लाल दास की अंत्येष्टि में हिस्सा लिया। अगर इस देश ने केदार बाबू, केदार दा और कुछ के लिए कॉमरेड केदार दास जैसी अनोखी शख्सियत का नाम नहीं सुना है तो यह उस दिवंगत आत्मा की बदकिस्मती नहीं है। यही बात प्रोफेसर अब्दुल बारी के लिए भी कही जा सकती है, जिनकी राजनीतिक संबद्धता केदार दास से भले भिन्न थी लेकिन मुश्किल की घड़ी में किसी भी कीमत पर मजदूरों का साथ न छोडऩे के संकल्प के मामले में दोनों समान थे।

मजदूरों पर गोली चलवाने या लाठीचार्ज करवाने के लिए पुलिस और सशस्त्र बल के इस्तेमाल के मामले में टिस्को का रिकॉर्ड 1958 या 1981 की घटनाओं के साथ समाप्त नहीं हो जाता। आउटलुक पत्रिका के 26 मार्च 2012 के अंक में अरुंधती राय ने लिखा था कि इस सदी के पहले दशक के मध्य से लेकर अब तक छत्तीसगढ़ से लेकर ओडिशा तक जहां कहीं टिस्को ने अपना संयंत्र लगाया है, आदिवासियों की जमीन हड़पने के लिए उन पर हिंसा बरपाई गई है। अरुंधती लिखती हैं, "छत्तीसगढ़, ओडिशा और झारखंड की सरकारों ने 2005 में तमाम निजी निगमों के साथ सैकड़ों सहमति पत्र (एमओयू) पर दस्तखत किए हैं ताकि खरबों डॉलर के बॉक्साइट, लौह अयस्क और अन्य खनिजों को कौडिय़ों के मोल लूटा जा सके… टाटा स्टील के साथ बस्तर में एक एकीकृत स्टील संयंत्र लगाने के लिए छत्तीसगढ़ सरकार द्वारा एमओयू किए जाने के कुछ दिनों बाद ही एक सशस्त्र समूह सलवा जुड़ुम का गठन किया गया। सरकार ने कहा कि जंगलों में माओवादी छापामारों के दमन से त्रस्त होकर वहां के आदिवासियों से स्वयं स्फूर्त तरीके से यह गिरोह खड़ा किया है। बाद में पता चला कि यह दरअसल जमीन को उसके रहवासियों से खाली कराने का अभियान था जिसे पैसे और हथियार सरकार व खनन में लगे निगमों से मिल रहे थे।''

जब कभी जमीन खाली कराने का ऐसा कोई अभियान चलता है तो परिदृश्य में टिस्को कहीं नहीं होता। उसकी जगह नेता, नौकरशाह, पुलिस और दूसरे किस्म के एजेंट इस स्टील कंपनी को लाभ पहुंचाने की जिम्मेदारी खुद आगे बढ़कर ले लेते हैं। बड़ी "कीमत'' के बदले कई "जनप्रतिनिधियों'' ने अपनी आत्मा स्वेच्छा से देश के इस सबसे बड़े साहूकार के पास गिरवी रख दी है।

अरुंधती के शब्दों में, "ओडिशा के कलिंगनगर में 2 जनवरी, 2006 को दस प्लाटून पुलिसबल टाटा स्टील के एक अन्य संयंत्र पर पहुंचा और वहां अपनी जमीनों के कम मिले मुआवजे के खिलाफ प्रदर्शन करने जुटे गांव वालों पर गोलीबारी शुरू कर दी। एक पुलिसकर्मी समेत कुल 13 लोग मारे गए और 37 लोग जख्मी हो गए। इस घटना को छह साल बीत चुके हैं और पूरा गांव आज भी पुलिस छावनी बना हुआ है, लेकिन प्रतिरोध जारी है।

दि कारवां पत्रिका के नवंबर 2011 के अंक में दिव्या गुप्ता ने कलिंगनगर की इस त्रासदी को लंबा वर्णन किया है। गोलीबारी की पृष्ठभूमि और उसके बाद का घटनाक्रम बयान करने में गुप्ता ने काफी विश्लेषण और आख्यानात्मक तरीकों का काम लिया है। भुवनेश्वर से एक उडिय़ा पाक्षिक "समदृष्टि'' निकालने वाले पत्रकार सुधीर पटनायक का हवाला देते हुए वे लिखती हैं: "विस्थापन विरोधी संघर्षों में कलिंगनगर एक निर्णायक मोड़ था। उन्होंने विस्थापन को पूरी तरह नकारते हुए उसके खिलाफ नारा दिया: पैसा हमारी जमीनों की बराबरी नहीं कर सकता।''

पुलिस की बर्बरता का वर्णन गुप्ता ने ऐसी प्रभावशाली भाषा में किया है कि अगर कोई कच्चा पत्रकार इस खबर को लिख रहा होता तो पानी सिर पर से निकल जाता: "एकत्रित भीड़ पर पुलिसको गोली चलाने के लिए किस बात ने उत्तेजित किया, इस बारे में अलग-अलग विरोधी बातें सुनने को मिलती हैं। हालांकि, जब सब कुछ खत्म हो गया, तो सामने 12 आदिवासी पुरुषों और स्त्रियों तथा एक पुलिस वाले की लाश पड़ी थी। इसके अलावा 37 आदिवासी घायल पाए गए थे। स्थानीय मानवाधिकार कार्यकर्ताओं का आरोप है कि जितने आदिवासी मरे थे वे सभी गोलीबारी का शिकार नहीं हुए थे, बल्कि छह को पुलिस हिरासत में लेने के बाद मारा गया था। इस आरोप को तब बल मिला, जब कुछ लाशें अंत्येष्टि के लिए परिवारों के पास ऐसी भेजी गई जिनके हाथ गायब थे।''

इन मृतकों में 40 साल की एक महिला मुक्ता भी थी। वह विधवा थी और हो जनजाति से आती थी। उसके बेटे रंजीत ने गुप्ता को बताया था कि उसकी मां की लाश जब उसे वापस दी गई, तो वह बुरी तरह क्षत-विक्षत थी। दिव्या अपने लेख में रंजीत का बयान उद्धृत करती हैं, "दाहिने कान के नीचे उनकी गर्दन पर गोली लगने का निशान था। उनके दोनों हाथ काट दिए गए थे, दोनों स्तन काट दिए गए थे और उनके माथे पर चाकू के निशान थे। टाटा स्टील ने मेरी मां को मुझसे छीन लिया, मुझे बहुत बुरा लग रहा है।''

गुप्ता कहती हैं कि प्रस्तावित टिस्को संयंत्र की चारदीवारी का निर्माण कार्य जब शुरू हुआ, जो कि शुरु