Twitter

Follow palashbiswaskl on Twitter

Wednesday, January 21, 2015

AN INVITATION Ordinance Raj, Corporate Loot and People's Movements Struggle for Land Rights

AN INVITATION

Ordinance Raj, Corporate Loot and People's Movements

Struggle for Land Rights

 

Dear Friends,

Namaskar !

 

British India enacted Land Acquisition Act, 1894 and other Forest laws to legalise their loot of the natural resources and address the political challenge posed by agrarian communities both tribal & peasant cultivators. These laws were aimed at arresting the ongoing protest and revolts of the Indian people and mainly the peasantry. LAA 1894 became a tool to acquire land for installing mining, industries, railway line, Roads,irrigation & power houses. The 1894 Act consolidated the concept of Eminent Domain of the colonial state, which continued even after independence and the key question of who actually own the land remained unresolved. This resulted in many agrarian struggles in Independent India till the 70's and large scale displacement and impoverishment due to massive acquisition of land in the name of public good, development and national interest. Globalization and neo-liberal reforms since 90s have only strengthened these struggles against loot of ntural resources and ensuing displacement.

 

After years of struggles by the people's movements in the country, the colonial Land Acquisition Act, 1894 was repealed and a new law titled, Right to Fair Compensation, Transparency in Land Acquisition, Rehabilitation and Resettlement Act 2013 was enacted. Although, this new act did not resolve the key issue of eminent domain it did create some enabling provisions which would protect the rights of people against forcible acquisitions, minimise displacement, provide compensation and relief to livelihood loosers and not only to land owners. The inclusion of the provision of Social Impact Assessment was to address the interests of many other categories of the people beyond the land owning communities. There are many problems with the Act, and there is a scope for improvement of the Act to ensure protection of the land rights of the people and ensuring people's participation in the development planning process and making it FRA and PESA compliant.

 

However, without ever making an attempt at implementing the law, without conducting any Social Impact Assessment, under a purposeful propaganda spread by the corporations and corporate media NDA government shamelessly promulgated the Land Ordinance along with Coal, Mining and other Ordinances by surpassing the Parliamentary process . This under the garb of legalities and putting the onus on Opposition for not letting the Parliament function. The Indian State has been engaged in covering the real conflict of ownership of land and has put it as a crisis in land acquisition for development. 

 

Just before the General Elections and Assembly Elections in many of the states NDA and UPA both claimed their efforts behind the enactment of 2013 Act. But once in power NDA took this anti peasant and workers move taking away even little window within the 2013 Act address the question of people's participation in development process, protecting farm land, seeking consent of the project affected and addressing the pain of the displacement and impoverishment due to loss of land and livelihood.

 

The Ordinance in a stroke does away with the key provisions of the 2013 Act and takes away the right of a farmer to take away his / her land, it does away with the provisions to assuage the loss of livelihood and provisions which would have provided justice to millions whose land had been wrongly acquired in access or forcibly by the Colonial Land Acquisition Act, 1894. However, the Ordinance will not put an end to forcible land acquisitions and conflicts around that but increase the loot of precious natural resources and makes it even more draconian the 1894 Act. It will neither end the miseries of displacement and nor compensate the communities affected and hence our struggle for democratic development and against this corporate loot need to intensify.

 

Land acquisition and along with that the conflict is going to increase given the large number of thermal power plants, dams, nuclear power plants, special investment regions, industrial corridors, manufacturing zones, highways, ports, airports, real estate projects and other infrastructure projects planned by the governments threatening the livelihood of millions and this Ordinance is to facilitate that.

 

Along with the Land Ordinance, NDA government has brought in many other Ordinances and it seems that they are hell bent on bending all the democratic and parliamentary norms. NDA government in Centre and BJP government in many States are implementing the corporate agenda with much greater ferocity than any regimes till now. These ordinances will come up for passage during the Budget Session and a political response is needed to this from the people's movements.

 

It is in this context that we invite you to a two day consultation to discuss and debate the provisions of these ordinances, its implications for the Parliamentary Democracy and response of the People's Movements in coming times.

 

The meeting will be held on January 23rd 9:30 to 6:00 PM ; 24th 9:30 to 1:30 PM , at New Delhi.

 

January 23 :            Strategy Meeting and Discussion on Ordinances

                                                    (9:30 am to 6:00 PM)

                                               Venue:  N D Tiwari Bhavan 5th floor (Deen Dayal Upadhya Marg), New Delhi

                                                                        ---------


January 24 :            Public Meeting and Dialogue with Political parties 

                                                    (9:30 am to 1:30 PM)


Venue:  N D Tiwari Bhavan 5th floor (Deen Dayal Upadhya Marg), New Delhi

        --------

 

We do hope you will be able to join us for this important meeting and together develop a common strategy to fight the corporate design for land and resource grab and develop a counter narrative to the dominant development and growth propaganda.

 

We look forward to be with you and do let us know, if you need more information.

 

Warm Regards,

 

National Alliance of People's Movements, All India Union of Forest Working People, Jan Sangharsh Samanvay Samiti, Chattisgarh Bachao Andolan, India Social Action Forum, Delhi Solidarity Group, Right to the City Campaign and many others

 

for details contact : 9958797409, 9818905316, 9911528696

 

PS : if you would like to join this endeavour then do send your endorsements to napmindia@gmail.comdelhiforum@delhiforum.net  




राष्ट्रीय अधिवेशन की कार्यसूची इस प्रकार होगी

समयः 
प्रातः 9:30 बजे से सांय 6:00 बजे तक 

23 जनवरी, 2015 
अघ्यादेशों पर चर्चा और: रणनीति और कार्यक्रम तय करना
स्थान: 
एन.डी.तिवारी भवन, पाॅचवीं मंजिल (दीन दयाल उपाध्याय मार्ग) नई दिल्ली।
24 जनवरी, 2015 
जन सभा एवं राजनैतिक पार्टियों के नेतिृत्व के साथ संवाद,       
 स्थान: 
एन.डी.तिवारी भवन, पाॅचवीं मंजिल (दीन दयाल उपाध्याय मार्ग) नई दिल्ली।

उम्मीद है कि आप सभी इस सम्मेलन में शामिल होकर एक साॅझा संघर्ष की रणनीति तय करने में अपनी पूरी भागीदारी निभाएगे।

प्रिय साथियों,

जैसा कि आपको विदित है सन् 2014 के आखिरी हफ्ते में मौजूदा मोदी सरकार ने भूमि अधिग्रहण के लिए एक अध्यादेश जारी किया। इस अध्यादेश के जरिए से सरकार और कम्पनीयों द्वारा भूमि अधिग्रहण की प्रक्रिया और आसान हो जाएगी। क्योंकि इस अध्यादेश में सन् 2013 में बने हुए संशोधित भूमि अधिग्रहण कानून में जो थोडे़ बहुत जनपक्षीय प्रावधान थे, उसे भी खत्म कर दिया गया और साथ ही साथ 13 अन्य कानूनों जैसे वनाधिकार कानून 2006, वन संरक्षण कानून आदि के प्रावधानों को भी अध्यादेश के अन्तर्गत कर लिया गया, जिससे इन कानूनों में लोगों के लिए जो अधिकार सुरक्षित रखे गये थे उसे भी निष्प्रभावी कर दिया गया, यानि के सरकार व कम्पनी द्वारा व्यक्तिगत और सार्वजनिक ज़मीनों का जो अधिग्रहण/अतिक्रमण होगा उसके खिलाफ कोई कानूनी प्रक्रिया अब नहीं होगी। सरकार ने एक झटके में जल,जंगल,ज़मीन व खनिज पर लोगों के जो भी सीमित अधिकार सुनिश्चत थे उसे भी खत्म कर दिये।

मोदी सरकार ने जो जनविरोधी कदम उठाये है वो सरासर संविधान विरोधी हैं। भारतीय संविधान में अनु0 39बी में प्राकृतिक संपदाओं पर नागरिकों के बुनियादी अधिकारों को सुरक्षित रखने के लिए जो प्रावधान हैं यह अध्यादेश उन प्रावधानों को खारिज करता है। कोई भी निर्वाचित सरकार न्यायोचित ढ़ग से ऐसा कृत्य नहीं कर सकती है, ऐसा अध्यादेश केवल विशेष परिस्थिति में या आपातकालीन स्थिति में ही जारी होता है। सरकार ने न तो संसद में और न जनता के सामने ऐसा कोई कारण दर्शाया है, तो फिर ऐसे अध्यादेश की ज़रूरत क्यों पडी़ ? यह सच्चाई देश की जनता के सामने लाना जरूरी है। और तो और मोदी सरकार ने इन्ही दिनों में संसदीय प्रक्रिया का उल्लंघन करके कई काले अध्यादेश जारी किए। संसद का शीतकालीन अधिवेशन 23 दिसम्बर 2014 को खत्म हुआ, जिसमें इन विषयों पर संसद में बहस चल रही थी। लेकिन धर्म परिवर्तन के मुद्दे पर सरकार की हटधर्मितापूर्ण रवैए के कारण बार-बार संसद का सत्र बाधित होता रहा और जिसके कारण भूमि अधिग्रहण कानून के संशोधनों पर दोनों सदनों में विस्तृत चर्चा पूरी नहीं हो पायी थी। ऐसी परिस्थिति में सरकार को अगले सत्र के लिए इंतज़ार करना चाहिए था जो कि 2 महीने बाद बजट सत्र शुरू होना है। बजट सत्र संसद के सबसे लम्बा सत्र होता है जो लगभग 3 महीने चलता है। जिसमें इन संवेदनशील मुद्दों पर पूरी बहस हो सकती है। लेकिन सरकार ने शीतकालीन सत्र खत्म होने के एक हफ्ते के अन्दर ही इन काले अध्यादेशों को जारी किया। यह संसदीय प्रणाली की घोर अवमानना है, जिससे देश की प्रजातांत्रिक व्यवस्था कमजोर होती नज़र आ रही हैं। एक तरह से इन अध्यादेशों से सरकार जानबूझ कर एक राजनैतिक अराजकता की स्थिति पैदा कर रही है, और जनता का ध्यान मूल समस्याओं जैसे महंगाई, बेरोजगारी, भू-अधिकार, भ्रष्टाचार से हटाने की साजि़श कर रही है।



इन परिस्थितियों से देश के करोडो़ं आम नागरिक, प्रगतिशील समाज, न्यायविदों और विपक्षी राजनैतिक दलों में हड़कम्प मच गया, सभी के लिए एक ही चिन्ता का विषय है कि मोदी सरकार के शासनकाल में केवल 7 महीने के अन्दर ही देश के संवैधानिक ढ़ाचे पर शासक दल का आक्रमण शुरू हो गया है और इसके चलते हमारी प्रजातांत्रिक व्यवस्था अब खतरे में पड़ गयी है। भारत एक बहुभाषी, बहुसांस्कृतिक और बहुवर्गीय राष्ट्र है और शासकीय स्तर पर एक बहुराज्यीय संघ है। भारतीय संविधान इन विविधता और बहुलता को एकताबद्ध रखने का एक बुनियादी आधार हैं, यह महज़ एक दस्तावेज़ नहीं हैं, बल्कि लाखों करोडो़ं देशवासियों को एक जुट रखकर एक सशक्त राष्ट्रनिर्माण की प्राण है। अतः भारतीय संवैधानिक ढ़ाचे की छेड़खानी और इसकी अवमानना राष्ट्रहित के खिलाफ है। दरअसल मोदी सरकार प्रजातांत्रिक राष्ट्र व्यवस्था जिसमें सभी नागरिकों की सुरक्षा निहित है, उसे तोड़कर एक ऐसी व्यवस्था कायम करना चाहते है, जिसमें सिर्फ देशी और विदेशी कम्पनीयों (कारपोरेट) के निहित स्वार्थों की पूर्ति की जाएगी, साथ ही साथ इन कम्पनीयों के राजनैतिक, आर्थिक और सामाजिक तावेदार फलेंगे-फूलेंगे और आम जनता बेहाल।  कम्पनीयों के दबाव के चलते मोदी सरकार को जल्द से जल्द यह काम पूरा करना है और इसीलिए देशी-विदेशी बड़ी कम्पनीयों की आवभगत देश-विदेश में जोरो-शोरो से चल रही हैं। 


इस तरह से भारतीय गणराज्य फिर से गुलामी के दौर में पंहुच जायेगा। इन काले अध्यादेशों को जारी करके मोदी सरकार ने अपनी मंशा को साफ कर दिया, और अब मौजूदा सरकार के चरित्र के बारे में कोई भ्रम की गुंजाईश नहीं हैं। भले ही इस सरकार ने अपने चुनावी वादों में आम लोगों को अच्छे दिन लाने के बड़े-बडे़ सपने दिखाये थे, अब केवल पूंजीपतियों और इजा़रेदारों के लिए ही अच्छे दिन आएगें। अब कम्पनीयों को देश की प्राकृतिक संपदाओं को लूटने की खुली छूट मिलेगी और विकास के नाम पर बडे़-बडे़ कर्ज मुहैया कराये जायेंगे जिसका सारा बोझ आम जनता के कन्धों पर होगा और इनका हाल बदतर से बदतर होता जाएगा।

देश के तमाम मेहनतकश किसान, मज़दूर, कर्मचारी, लघुउद्यमी, छोटे व्यापारी, दस्तकारों, मछुवारे, रेहडी़ व पटरी वाले और इसके सर्मथक प्रगतिशील तबकों के लिए यह एक अति चुनौतीपूर्ण दौर हैं। अब शासकीय कुचक्र के खिलाफ संघर्ष के अलावा कोई और विकल्प नहीं है, बीच-बचाव करने का अब कोई सुराग भी नहीं बचा। इस जनविरोधी व्यवस्था के खिलाफ एक निर्णायक जनसंघर्ष ही एक मात्र विकल्प है। जिसमें तमाम शोषित, पीडि़त और प्रगतिशील शक्तियां एकजुट होकर एक नई राजनैतिक प्रक्रिया को जन्म देंगे। ऐसी प्रक्रिया जो लोकहितकारी और जनपक्षीय व्यवस्था की स्थापना करेगी। आज तमाम विरोधी पार्टियां भी जो ज्यादात्तर अब तक उदारीकरण नीति को ही अनुसरण कर रही थी, उनके अस्तित्वों में भी खतरा पैदा हो गया और वे भी अब एकजुट होने की कोशिश कर रहे है और जनसंघर्ष के साथ भी संवाद कर रहे है। हालांकि ये निश्चित नहीं है कि राजनैतिक दलों में से कितने दल लंबे समय तक जनसंघर्ष के साथ में चलेंगे लेकिन फिर भी एक उम्मीद तो जागी कि कुछ दिन तक ये संवाद तो जारी रहेंगे और मज़बूत भी होगे, वक्त का तकाज़ा भी यही हैं। जनसंघर्षों के लंबे समय से जुडे़ हुए संगठनों ऐसी परिस्थिति में स्वाभाविक रूप से करीब आ रहे हंै, और सामुहिक चर्चा की प्रक्रिया शुरू हो गई है। अलग-अलग जगहों में अलग-अलग तरीके से अपनी मांगों को लेकर प्रक्रियाएं चल रही हैं। इन अलग-अलग प्रक्रियाओं को एक साॅझा मंच में समाहित होना हैं, ताकि अपनी संघर्षों और विचारों को और मजबूत करें। अलग-अलग रहकर अब लम्बे समय तक संघर्ष को जारी रखना सम्भव नहीं है। फिलहाल सबके लिए सबसे अहम मुद्दा इन काले अध्यादेशों को खत्म करना है। इस जनविरोधी व्यवस्था को ध्वस्त करने के लिए यह पहली कड़ी है।

इसी संदर्भ में कुछ प्रमुख जनसंगठनों ने मिलकर दिल्ली में 23-24 जनवरी 2015 को एक  दो दिवसीय् राष्ट्रीय अधिवेशन आयोजित करना तय किया हैं। हालांकि वर्तमान परिस्थिति के दबाव के चलते और जरूरत को देखते हुए यह सम्मेलन जल्दी में आयोजित किया जा रहा है। लेकिन कोशिश है कि ज्यादा से ज्यादा प्रमुख जनसंगठनों के प्रतिनिधिगण इसमें शामिल रहें, ताकि कुछ रणनीतिक और फौरी फैंसले लिए जा सके और आगे बढ़ सकें। निश्चित रूप से यह प्रयास यही खत्म नहीं होगा बल्कि राज्य व क्षेत्रों में ऐसे अधिवेशन/सम्मेलन का आयोजन किया जायेगा। ताकि एक निश्चित समय में सभी आन्दोलनकारी संगठन सामुहिक रूप से एक राष्ट्रीय जनान्दोलन खडा़ कर सकेगें ऐसा जनान्दोलन जो इस जनविरोधी व्यवस्था को चुनौती दे सकें।

इतिहास गवाह है कि भारत में पिछले 250 वर्षों में औपनिवेशिक काल में तथा आजा़द भारत में भी बार-बार ऐसे जनान्दोलन की रचना हुई और शासक वर्ग को धवस्त भी किया गया, लेकिन यह भी सच्चाई है कि हर बार जो भी नई व्यवस्था आयी वो भी लोगों को शोषण मुक्त नहीं कर पायी और ऐतिहासिक अन्याय जारी रहा। क्योंकि सत्ता परिवर्तन के साथ-साथ जनसंघर्ष और प्रगतिशील राजनैतिक शक्तियां विघटीत होती गयी और सत्ताधारियों को अन्यायपूर्ण व्यवस्था को चलाने की छूट मिलती चली गयी। इस बार जनसंघर्षकारी संगठनों को और भी जागरूक होकर संगठित संघर्ष को चलाना होगा ताकि जनसंघर्ष अपनी मंजिल तक पंहुच सके।

बढ़ते भी चलों लड़ते भी चलों,
बाज़ू भी बहुत और सर भी बहुत
चलते ही चलों के अब डेरे मंजिल पे ही डाले जाएंगे....................
फै़ज़ अहमद फैज़


राष्ट्रीय अधिवेशन की कार्यसूची इस प्रकार होगी:

23 जनवरी, 2015
अघ्यादेशों पर चर्चा और: रणनीति और कार्यक्रम तय करना,            
स्थान: एन.डी.तिवारी भवन, पाॅचवीं मंजिल (दीन दयाल उपाध्याय मार्ग) नई दिल्ली।
समयः प्रातः 9:30 बजे से सांय 6:00 बजे तक,

 
24 जनवरी, 2015
जन सभा एवं राजनैतिक पार्टियों के नेतिृत्व के साथ संवाद,             
स्थान: एन.डी.तिवारी भवन, पाॅचवीं मंजिल (दीन दयाल उपाध्याय मार्ग) नई दिल्ली।

समयः प्रातः 9:30 बजे से 1:30 बजे तक

उम्मीद है कि आप सभी इस सम्मेलन में शामिल होकर एक साॅझा संघर्ष की रणनीति तय करने में अपनी पूरी भागीदारी निभाएगे।

No comments:

Post a Comment

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

Welcome

Website counter

Followers

Blog Archive